Month: जून 2020

पवित्र सहभागिता

हमारे स्कूली मित्रों के समूह ने एक सुन्दर झील के किनारे पर एक साथ लम्बे सप्ताहांत के लिए पुनर्मिलन किया l दिन पानी में खेलने और भोजन साझा करने में बिताए जाते थे, लेकिन मेरे लिए शाम के समय की बातचीत सबसे कीमती थी l जैसे जैसे शाम होती थी, हमारे हृदय असामान्य गहराई और भेद्यता के साथ एक-दूसरे के लिए खुलते थे, लड़खड़ाते हुए विवाह का दर्द और उसके बाद का आघात जो हमारे कुछ बच्चे सहन कर रहे थे l अपनी वास्तविकताओं के अधूरेपन को छिपाए बिना, हमने ऐसे चरम कठिनाइयों के दौरान एक दूसरे को परमेश्वर और उसकी विश्वासयोग्यता की ओर इंगित किया l

मैं उन रातों को को उसके सदृश देखता हूँ जो परमेश्वर का अभिप्राय था जब उसने अपने लोगों को हर वर्ष झोपड़ियों के पर्व के लिए इकठ्ठा होने का निर्देश दिया था l अन्य पर्वों की तरह यह पर्व, इस्राएलियों से यरूशलेम जाने की मांग करती थी l एक बार उनके पहुँचने एक बाद, परमेश्वर ने अपने लोगों को आराधना में एक साथ इकठा होने और पर्व के दौरान – लगभग एक सप्ताह “परिश्रम का कोई काम न [करने] (लैव्यव्यवस्था 23:35) का निर्देश दिया था l झोपड़ियों का पर्व परमेश्वर के प्रावधान का और मिस्र को छोड़ने के बाद जंगल में बिताए गए उनके समय का उत्सव मनाना था (पद.42-43) l

इस सभा ने परमेश्वर के लोगों के रूप में इस्राएलियों की पहचान को मजबूत किया और उनकी सामूहिक और व्यक्तिगत कठिनाइयों के बावजूद उसकी अच्छाई को प्रमाणित किया l जब हम उन लोगों के साथ इकठ्ठा होते हैं जो परमेश्वर के प्रावधान और प्रबंध को हमारे जीवनों में स्मरण करना पसंद करते हैं, तो हम भी विशवास में मजबूत होते हैं l

क्षमा करने के लिए चुने गए

जनवरी 23, 1999 को ग्रैहम स्टेंस और उनके दो छोटे बेटे फिलिप और टिमोथी को, उनकी जीप में जहाँ वे सो रहे थे, आग लगाकर जला दिया गया था l उस समय तक भारत के ओडिशा में गरीब कुष्ठ रोगियों के बीच उनकी समर्पित सेवा के विषय बाहरी संसार बहुत कम जानता था l इस तरह की त्रासदी के बीच, उनकी पत्नी ग्लेडिस और बेटी एस्तर ने सबको चकित कर दिया l उन्होंने नफरत से नहीं बल्कि क्षमा के साथ प्रत्युत्तर देने का चुनाव किया l

बराह वर्षों के बाद जब मुक़दमा समाप्त हुआ, तो ग्लेडिस ने एक ब्यान जारी किया जिसमें कहा गया था कि “मैंने हत्यारों को माफ़ कर दिया है और मुझे उनके खिलाफ कोई कड़वाहट नहीं है . . . मसीह में परमेश्वर ने मुझे क्षमा कर दिया है और वह अपने अनुयायियों से भी ऐसा ही करने की उम्मीद करता है l” परमेश्वर ने ग्लेडिस को दिखाया कि क्षमा करने की कुंजी यह है कि दूसरों ने हमारे साथ जो किया है उस पर ध्यान केन्द्रित करना बंद करें और यीशु ने हमारे लिए जो किया है उस पर ध्यान केन्द्रित करें l मसीह के सतानेवालों के प्रति उसके शब्द थे “हे पिता, इन्हें क्षमा कर, क्योंकि ये जानते नहीं कि क्या कर रहे हैं” (लूका 23:34) इस प्रकार यीशु की क्षमा के विषय जकर्याह की याजकीय नबूवत पूरा हुआ (1:77) l

जबकि हम में से अधिकांश एक अकल्पनीय त्रासदी को सहन नहीं करेंगे जैसा कि ओडिशा में हुआ, हम में से हर एक के साथ किसी न किसी तरह से अन्याय हुआ है l कोई पति या पत्नी धोखा देती है l कोई बच्चा विद्रोह करता है l कोई कर्मचारी अनुचित व्यवहार करता है l हम किस तरह व्यवहार करते हैं? शायद हम अपने उद्धारकर्ता के आदर्श की ओर देखते हैं l तिरस्कार और क्रूरता के सामने, वह क्षमा करता है l यह यीशु के द्वारा हमारे पापों की क्षमा ही है कि हम, हम लोग, उद्धार पाते हैं, जिसमें दूसरों को क्षमा करने की योग्यता शामिल है l और ग्लेडिस स्टेंस की तरह, हम अपनी कड़वाहट को त्यागकर क्षमा करने के लिए अपने हृदय खोल सकते हैं l

ज़रूरत उसके मार्गदर्शन की

अंकल ज़ाकी विद्वान केनेथ बैली के मित्र से अधिक थे; वे विशाल सहारा रेगिस्तान में चुनौतीपूर्ण भ्रमण में उनके विश्वसनीय मार्गदर्शक थे l अंकल ज़ाकी का अनुसरण करते हुए, बैली कहते हैं कि वे और उनकी टीम उन पर अपना पूरा भरोसा रख रहे हैं l संक्षेप में, वे पुष्टि कर रहे थे, “हम नहीं जानते कि हम कहाँ जा रहे हैं, और यदि आप हमें गलत मार्ग पर छोड़ देते हैं तो हम सब मर जाएंगे l हमने आपके मार्गदर्शन में अपना पूरा भरोसा रखा है l”

अत्यधिक थकान और मनोव्यथा के समय, दाऊद ने किसी भी मानव मार्गदर्शक से परे देखा, उस परमेश्वर के मार्गदर्शन को खोजा जिसकी वह सेवा करता था l भजन 61:2 में हम पढ़ते हैं, “मूर्छा खाते समय मैं पृथ्वी की छोर से भी तुझे पुकारूँगा, जो चट्टान मेरे लिए ऊंची है, उस पर मुझ को ले चल l” वह कामना करता था कि वह परमेश्वर की उपस्थिति में फिर से सुरक्षा और आराम प्राप्त कर सकेगा (पद.3-4) l  

जीवन में लोगों को परमेश्वर के मार्गदर्शन की सख्त ज़रूरत है, जो पवित्रशास्त्र में उन भेड़ों के रूप में वर्णित हैं जो “भटक गए हैं” (यशायाह 53:6) l यदि हम अपने ऊपर छोड़ दिए जाएँ, हम टूटे संसार के रगिस्तान में निराशाजनक ढंग से खो जाएंगे l

लेकिन हम अपने ऊपर नहीं छोड़े गए हैं! हमारे पास एक चरवाहा है जो हमें “सुखदाई जल के झरने के पास ले चलता है,” हमारी आत्माओं को तरोताज़ा करता है, और हमारा मार्गदर्शन करता है (भजन 23:2-3) l

आज आप कहाँ पर उसकी अगुवाई चाहते हैं? उसे पुकारें l वह आपको कभी नहीं छोड़ेगा l