Month: अक्टूबर 2022

परमेश्वर का कोमल अनुग्रह

कवि एमिली डिकिंसन ने लिखा, “सब सच बोलो, लेकिन तिरछा बोलो,” यह सुझाव देते हुए कि, परमेश्वर की सच्चाई और महिमा कमजोर मनुष्य-जाति को एक ही बार में इसे पूरी रीति से समझने या ग्रहण करने के लिए “अति उज्ज्वल” है, हमारे लिए ये उत्तम है कि हम परमेश्वर के अनुग्रह और सच्चाई को ग्रहण करे और “तिरछी”—कोमल, अप्रत्यक्ष—तरीकों में साझा करें। क्योंकि "सत्य को धीरे-धीरे चकाचौंध करना चाहिए / या हर आदमी अंधा हो जाएगा।"प्रेरित पौलुस ने इफिसियों 4 में इसी तरह का तर्क दिया जब उसने विश्वासियों को “पूरी रीति से दीन और नम्र” होने और “धैर्य रखने और प्रेम से एक दूसरे की सहने” के लिए आग्रह किया (पद 2)। पौलुस ने समझाया, विश्वासियों की नींव एक दूसरे के साथ नम्रता और अनुग्रह, मसीह के साथ हमारा अनुग्रहपूर्ण तरीका है। उसके देहधारण में (पद 9-10), यीशु ने अपने आप को शांत, सौम्य तरीकों से प्रकट किया जो लोगों को उस पर भरोसा करने और उसे ग्रहण करने के लिए आवश्यकता थी।

और वह अपने आप को ऐसे कोमल, प्रेमपूर्ण तरीकों से प्रकट करना जारी रखता है—अपने लोगों को उसी तरह के दान और शक्ति प्रदान करता है जिस तरह से उन्हें विकसित होने और परिपक्व होने के लिए आवश्यक है—“...मसीह की देह उन्नति पाए, ... जब तक कि हम सब के सब विश्वास और परमेश्वर के पुत्र की पहचान में एक न हो जाए। ..और मसीह के पूरे डील-डौल तक न बढ़ जाएँ (पद 12-13)। जैसे-जैसे हम बढ़ते और परिपक्व्व होते हैं, हम आशा के लिए कहीं और देखने के प्रति कम संवेदनशील हो जाते हैं (पद 14) और यीशु के कोमल प्रेम के उदाहरण का अनुसरण करने में अधिक आश्वस्त होते हैं (पद 15-16)।

फल देखो

एक लोकप्रिय रियल्टी  शो में, चार सेलिब्रिटी जजों का एक पैनल एक ही व्यक्ति होने का दावा करने वाले तीन व्यक्तियों से सवाल पूछता है। बेशक, दो धोखेबाज हैं, लेकिन वास्तविक व्यक्ति को पहचानना पैनल पर निर्भर है । अभिनेताओं को पता चला कि अच्छे सवाल पूछने पर भी यह पता लगाना कितना मुश्किल था कि कौन है। धोखेबाजों ने सच को बरगलाया, जो टेलीविजन को मनोरंजक बना दिया ।

जब “झूठे शिक्षक” की बात आती है तो इन्हें पता लगाना टेलीविजन गेम शो से बहुत अलग है, लेकिन यह उतना ही चुनौतीपूर्ण हो सकता है और असीम रूप से अधिक महत्वपूर्ण हैं। “फाड़नेवाले भेड़िए” अक्सर हमारे पास “भेड़ों के भेस” में आते हैं, और यीशु बुद्धिमानों को भी चेतावनी देते हैं  कि “सावधान रहें” (मत्ती 7:15)। सबसे अच्छी परीक्षा अच्छे सवालों से नहीं, बल्कि अच्छी आंखें से होती है। उनके फल को देखो, क्योंकि तुम उन्हें कैसे पहचानोगे (पद 16-20)। 

पवित्र शास्त्र हमें अच्छे और बुरे फल देखने में सहायता करता है। अच्छे फल "प्रेम, आनन्द, शांति, धीरज, कृपा, भलाई, विश्वास, नम्रता और संयम” के रूप में दिखते हैं  (गलातियों 5:22-23)। हमें गौर करके ध्यान देना है, क्योंकि भेड़िये धोखे से खेलते हैं। लेकिन विश्वासियों के रूप में, “अनुग्रह और सच्चाई से परिपूर्ण” (यूहन्ना 1:14) हम सच्चे अच्छे चरवाहे की सेवा करते हैं।