हमारी प्रतिदिन की रोटी

प्रेम की सुन्दरता

“जाराब टपैटियो” जिसे मैक्सिको के हैट डांसर के रूप में भी जाना जाता है, में रोमांस का आनन्द होता है। इस अपबीट डांस के दौरान, पुरुष अपना टोप भूमी पर रख देता है। अन्त में एक महिला उस टोप को उठा लेती है और अपने चुम्बन के रोमांस को गुप्त रखने के लिए दोनों इस टोप के पीछे छिप जाते हैं।

यह डांस मुझे विवाह में विश्वासयोग्यता की महत्वपूर्णता का स्मरण करवाता है। नीतिवचन 5 में अनैतिकता के ऊँचे मूल्य के बारे में बात करने के पश्चात, हम पढ़ते हैं कि विवाह विशिष्ट है। “तू अपने ही कुण्ड से पानी, और अपने ही कूएँ के सोते का जल पिया करना” (पद 15)। मंच पर दस दम्पत्ति जाराब डांस करते हैं, फिर भी प्रत्येक व्यक्ति का ध्यान अपने ही साथी पर केन्द्रित रहता है। हम अपने विवाहित साथी के साथ एक गहन और अविभाजित समर्पण का आनन्द ले सकते हैं (पद 18)।

हमारे रोमांस पर भी ध्यान दिया जा रहा है। डांसर, जब वे अपने साथी के साथ आनन्द मना रहे हैं, जानते हैं कोई देख रहा है। उसी प्रकार, हम पढ़ते हैं कि “क्योंकि मनुष्य के मार्ग यहोवा की दृष्‍टि से छिपे नहीं हैं, और वह उसके सब मार्गों पर ध्यान करता है” (पद 21)। परमेश्वर हमारे विवाहों को सुरक्षित रखना चाहता है, इसलिए वह निरन्तर हमें देख रहा है। परमेश्वर करे कि हम एक दूसरे के प्रति विश्वासयोग्यता दिखाने के द्वारा उसे प्रसन्न करें।

ठीक जाराब के समान जीवन में भी एक ताल का पालन करना अनिवार्य है। जब हम उसके प्रति विश्वासयोग्य रहने के द्वारा अपने सृष्टिकर्ता के साथ ताल में रहते हैं-चाहे हम विवाहित या अविवाहित हों-हम आशीष प्राप्त करेंगे।

प्रश्नों के साथ आराधना करना

यात्रियों के समूह में एक लम्बी (या छोटी) यात्रा पर जाते हुए किसी के द्वारा यह पूछना असामान्य नहीं है, “क्या हम पहुँच गए हैं?” किस ने बच्चों का बड़ों के ओंठो से आते हुए इन सार्वभौमिक प्रश्नों को नहीं सुना होगा, जो अपनी मंजिल पर पहुँचने के लिए उत्सुक हैं? परन्तु सभी आयु वर्ग के लोग यही प्रश्न पूछने की ओर प्रवृत होते हैं, जब वे जीवन की चुनौतियों से थक जाते हैं, जो कभी भी समाप्त होती प्रतीत नहीं होती। 

भजन संहिता 13 में ऐसी ही परिस्थिति दाऊद के साथ भी है। दो पदों में चार बार (पद 1-2) दाऊद-जिसे भुला दिए जाने, छोड दिए जाने और परास्त हो जाने का अहसास हुआ-दुखित होता है “कब तक?” पद दो में वह पूछता है, “मैं कब तक अपने मन ही मन में युक्तियाँ करता रहूँ?” भजन संहिता, जैसे यह भजन, जिनमें विलाप सम्मिलित है, हमें प्रत्यक्ष रूप से आराधना के रूप में अपने प्रश्नों के साथ प्रभु के पास आने की अनुमति देता है। आखिरकार, तनाव और दुःख के लम्बे समय में बात करने के लिए परमेश्वर से अच्छा और कौन हो सकता है? हम बीमारी, दुःख और परिजनों से दूर होने और सम्बन्धों में आई कठिनाइयों और अपने संघर्षों को उसके समक्ष ला सकते हैं। 

जब हमारे पास प्रश्न हों, तब भी आराधना रुकनी नहीं चाहिए। स्वर्ग का परमप्रधान परमेश्वर हमारा स्वागत करता है कि हम अपने चिंता-युक्त प्रश्नों को उसके पास लेकर आएँl और सम्भवतः, समय के दौरान हमारे प्रश्न विनतियों और प्रभु के लिए हमारे भरोसे और स्तवन के भावों में बदल जाएँ (पद 3-6)। 

आप क्या त्याग सकते हैं?

“वह कौन सी एक चीज़ है जिसे आप नहीं त्याग सकते हैं?” रेडियो पर एक होस्ट ने पूछा। श्रोताओं ने बहुत ही रोचक जवाब दिए। कुछ ने अपने परिवार बताए, पतियों ने अपनी मृत पत्नी की यादों को बताया। कुछ ने बताया कि वे अपने सपनों, जैसे कि संगीत में प्रसिद्ध होना या माँ बनना, को नहीं छोड़ सकते हैं। हम सभी के पास कुछ न कुछ है जिसे हम प्रतिदिन संजोकर रखते हैं-कोई व्यक्ति, कोई उत्साह, कोई सम्पत्ति-कोई न कोई ऐसी बात जिसे हम त्याग नहीं सकते हैं।

होशे की पुस्तक में, परमेश्वर हमें बताता है कि वह अपने चुने हुए लोग, अपने निज भाग, इस्राएल को कभी नहीं त्यागेगा। इस्राएल के प्रेमी पति के रूप में परमेश्वर ने उसे सबकुछ उपलब्ध करवाया जिसकी उसे आवश्यकता थी: भूमि, भोजन, पानी, वस्त्र और सुरक्षा। फिर भी एक व्यभिचारी पत्नी के रूप में इस्राएल ने परमेश्वर को अस्वीकार किया और अपनी खुशी और सुरक्षा कहीं ओर खोजी। जितना परमेश्वर उसके पीछे-पीछे आया, वह उतनी ही भटकती चली गई (होशे 11:2)। परन्तु यद्यपि उसने उसे बुरी तरह से आहत किया था, फिर भी वह उसे कभी नहीं त्यागेगा (पद 8)। उसका छुटकारा करने के लिए वह उसे अनुशासित करेगा; उसकी इच्छा उसके साथ सम्बन्ध को फिर से स्थापित करने की थी (पद 11)।

आज, परमेश्वर की समस्त सन्तान उसी आश्वासन को प्राप्त कर सकती है: हमारे लिए उसका प्रेम ऐसा प्रेम है जो हमें कभी जाने नहीं देगा (रोमियों 8:37-39)। यदि हम भटक कर उससे दूर हो गये हैं, तो वह हमारे वापिस लौटने के लिए इच्छा रखता हैl जब परमेश्वर हमें अनुशासित करता है, तो हमे सांत्वना मिल सकती है कि यह उसके हमारे पीछे-पीछे आने का चिह्न है, न कि उसके त्याग दिए जाने का चिह्न। हम उसके निज भाग हैं; वह हमें कभी नहीं त्यागेगा।





हमारे साथ जुड़ें

हमारा पता:

Our Daily Bread India Foundation, Old No. 67/4, New No. 36, Spur Tank Road, Chetpet,Chennai, Tamil Nadu - 600 031

कॉल करे: M: [91] 950 003 7162 | P: [91] 44 2836 3734/43

ई-मेल भेजे: india@odb.org

लैक करे: www.facebook.com/OurDailyBreadHindi