Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by fabiolafrancis

MTR Hindi

Register

Excerpts are optional hand-crafted summaries of your content that can be used in your theme. Learn more about manual excerpts.

हू-आ!

अमरीकी सेना की उक्ति “हू-आ” सैन्य दस्ता द्वारा कन्ठ से उच्चारित अनुमोदन है l इसका मूल अर्थ इतिहास में खो गया, किन्तु कुछ कहते हैं यह एक पुराने परिवर्णी शब्द HUA से है - सुना गया(Heard), समझा गया(Understood), और पालन किया गया(Acknowledged) l मैंने यह शब्द आरंभिक प्रशिक्षण में सुना l

वर्षों बाद, बुधवार प्रातःकाल पुरुष बाइबल अध्ययन सभा में…

जब प्रश्न शेष हों

अक्टूबर 31, 2014 को एक प्रयोगात्मक वायुयान जांच उड़ान में टूटकर मोजावे मरुभूमि में दुर्घटनाग्रस्त हो गया l सहचालक मर गया जबकि चालक बच गया l दुर्घटना का कारण जांचकर्ता नहीं जान सके l एक अखबार ने दुर्घटना के विषय लिखा “प्रश्न शेष हैं l”

सम्पूर्ण जीवन हम संतोषजनक स्पष्टीकरण के बिना दुख अनुभव करेंगे l दूरगामी प्रभाव के साथ…

सब उसकी कृपा

हमारी जीवन यात्रा में एक आवर्तक कठिनाई क्षणिक ज़रूरतों पर अत्यधिक केन्द्रित होकर भूल जाना है कि हमारे पास क्या है l मुझे यह ताकीद मिली जब हमारी कलीसिया की गायक-मण्डली ने भजन 103 पर आधारित एक गाना गया l “हे मेरे मन, यहोवा को धन्य कह, और उसके किसी उपकार को न भूलना” (पद. 2) l हमारा प्रभु क्षमाशील,…

क्रिसमस का बलिदान

हेनरी की उत्कृष्ट कृति “The Tale of the Magi” आर्थिक संघर्ष करते एक विवाहित युवा जोड़ा, जिम और डेला की कहानी है l क्रिसमस के समय वे एक दुसरे को विशेष उपहार देना चाहते हैं, किन्तु आर्थिक तंगी के कारण वे कठोर निर्णय लेते हैं l जिम अपनी एकमात्र बहुमूल्य निधि सोने की घड़ी बेचकर डेला के खूबसूरत बालों के…

Annuals_Hindi_2016

आपके द्वारा यीशु मसीह के साथ बनाया गया रिश्ता सब रिश्तों से विशेष होगा l इसलिए हम चाहते हैं कि समस्त राष्ट्र के लोग जाने कि वह कौन है और उसके साथ व्यक्तिगत सम्बन्ध स्थापित करें l हम चाहते हैं सभी लोग अपने विश्वास में उन्नत्ति करें, मसीह के स्वरुप में और भी ढलते जाएँ, और परमेश्वर के वचन की…

सम्बन्धित शीर्षक

> odb

आप नहीं हैं

दाऊद ने योजना बनायी, फर्नीचर अभिकल्पित किया, सामग्री इकट्ठा किया, समस्त प्रबंध किया (देखें 1 इतिहास 28:11-19) l किन्तु यरूशलेम का प्रथम मंदिर दाऊद का नहीं, सुलेमान का मंदिर कहलाता है l

क्योंकि परमेश्वर ने कहा था, “तू घर बनवाने न पाएगा” (1 इतिहास 17:4) l परमेश्वर दाऊद के पुत्र सुलेमान को मंदिर बनाने के लिए चुना था, इस इनकार का प्रतिउत्तर अनुकरणीय था l वह परमेश्वर के कार्य पर केन्द्रित रहा (पद.16-25) l उसकी आत्मा धन्वादित थी l उसने सम्पूर्ण प्रयास किया और मंदिर बनाने में योग्य लोगों से सुलेमान की मदद करवायी (देखें 1 इतिहास 22) l

बाइबिल टीकाकार जे. जी, मेक्कोन्विल ने लिखा : “अक्सर हमें स्वीकार करना होगा कि मसीही सेवा के रूप में जो कार्य हम करना पसंद करेंगे, वो नहीं है जिसके लिए हम योग्य हैं, और जिसके लिए परमेश्वर हमें बुलाया है l यह दाऊद की तरह हो सकता है, कार्य का आरंभ, जो भविष्य में और भी भव्य होगा l

दाऊद ने अपनी नहीं, परमेश्वर की महिमा खोजी l उसने परमेश्वर के मंदिर के लिए विश्वासयोग्यता से सब कुछ किया, उसके लिए एक मजबूत नींव डाला जो उसके बाद कार्य को संपन्न करनेवाला था l काश हम भी, उसी तरह, परमेश्वर का चुना हुआ कार्य धन्यवादी हृदय से करें! जाहिर है कि हमारा प्रेमी परमेश्वर  “अधिक भव्य” ही करेगा l

उसका अद्भुत चेहरा

मेरा चार वर्षीय बेटा जिज्ञासु है और निरंतर बातें करता है l मुझे उससे बातें करना पसंद है, किन्तु वह अपनी पीठ मेरी ओर करके बातें करने की खेदजनक आदत बना ली है l मैं अक्सर कहती हूँ, “मैं तुम्हारी सुन नहीं सकती-कृपया मेरी ओर देखकर बातें करो l”

कभी-कभी परमेश्वर हमसे भी यही कहता है-इसलिए नहीं कि वह सुन नहीं सकता, किन्तु हम वास्तव में “उसे देखे बिना” उससे बातचीत करना चाहते हैं l हम प्रार्थना करते समय अपने प्रश्नों में उलझकर और स्वकेन्द्रित रहकर, भूल जाते हैं किससे प्रार्थना कर रहे हैं l मेरे बेटे की तरह, हम उसकी ओर केन्द्रित हुए बिना प्रश्न करते हैं जिससे हम बातचीत कर रहे हैं l

हम, परमेश्वर कौन है और उसने क्या किया है, के विषय खुद को याद दिलाकर अपने अनेक चिंताओं को संबोधित कर सकते हैं l केवल पुनः केन्द्रित होकर, ही हम उसके चरित्र को जानकर सुख पाते हैं : कि वह प्रेमी, क्षमाशील, प्रभु, और अनुग्रहकारी है l

भजनकार का विश्वास था कि हम परमेश्वर का मुख निरंतर निहारें (भजन 105:4) l  दाऊद द्वारा अगुओं को उपासना और प्रार्थना के लिए नियुक्ति पर, उसने लोगों को परमेश्वर के चरित्र की प्रशंसा करने और उसके पूर्व विश्वासयोग्यता की चर्चा करने को उत्साहित किया (1 इतिहास 16:8-27) l

परमेश्वर का खूबसूरत चेहरा निहारने पर, हम सामर्थ्य और सुख पाते हैं जो हमें हमारे अनुत्तरित प्रश्नों के मध्य भी संभालता हैं l

सुख का पलना

मेरी सहेली ने मुझे अपने चार दिन की बेटी को गोद में लेने का सौभाग्य दिया l बच्चावह मेरे गोद में आने के बाद ही हलचल करने लगा l मैंने उसे दुलारा, अपने गाल उसके सिर से लगाया, और उसे चुप करने के लिए हिलाते हुए एक गीत गुनगुनाने लगी l इन प्रयासों के साथ, दस वर्षों के अपने लालन-पालन अनुभव के बाद भी, मैं उसे शांत न कर सकी l मैंने उसे उसकी अधीर माँ के बाहों में डालने तक वह अत्यंत परेशान रही l तुरन ही वह शांत हो गई; उसका रोना बंद हो गया और उसकी बेचैनी उसके भरोसेमंद सुरक्षा में तब्दील हो गई l  मेरी सहेली अपनी बेटी को गोद लेना और उसकी परेशानी दूर करना जानती थी l

परमेश्वर अपने बच्चों को माता की तरह सुख देता है : कोमल, भरोसेमंद, और बच्चे को शांत करने में चिन्ताशील l हमारे थकित अथवा परेशान होने पर, वह हमें अपनी बाहों में उठाता है l हमारा पिता और सृष्टिकर्ता होकर, वह हमें निकटता से जानता है l “जिसका मन तुझ में धीरज धरे हुए है, उसकी तू पूर्ण शांति के साथ रक्षा करता है, क्योंकि वह तुझ पर भरोसा रखता है” (यशा. 26:3) l

जब हमें संसार का भारी बोझ दबाए, हम इस ज्ञान में सुख पाते हैं कि वह प्रेमी अभिभावक की तरह हमें अर्थात् अपने बच्चों को सुरक्षित रखता और उनके लिए लड़ता है l