Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by बिल क्राऊडर

हमारा परमेश्वर कितना महान है!

लोगों को पहचानने के लिए उंगलियों के निशान लम्बे समय से इस्तेमाल किये गये है, पर उनके प्रतियां बनाकर धोखा दिया जा सकता है। उसी प्रकार से, मनुष्य की आंख की पुतली का पैटर्न आईडी के लिए एक विश्वसनीय स्रोत है, जब तक  कोई परिणाम गलत करने के लिए कांटेक्टलेंस पहन कर पैटर्न बदल नहीं देता। किसी व्यक्ति को पहचानने के लिए बॉयोमीट्रिक (शारीरिक चिन्ह) के उपयोग को असफल किया जा सकता है। तो, एक विशिष्ट पहचान के लक्षणों का कैसे पता चलता है?  सबकी रक्त–वाहिकाओं का पैटर्न अद्वितीय है और नकल के लिए लगभग असम्भव। आपका अपना निजी नसों का नक्शा  एक खास तरह की आपकी पहचान है जो  आपको सब से अलग करता है।

मनुष्य की ऐसी जटिलताओं पर विचार करने से उस सृष्टिकर्ता के लिए आराधना और आश्चर्य की भावना पैदा होनी चाहिए जिसने हमें बनाया है। दाउद ने हमें याद दिलाया कि “हम भयभीत और अद्भुत तरीके से बनाए गए हैं” भजनसंहिता 139:14, और यह निश्चित रूप से जश्न मनाने लायक है। वास्तव में भजन संहिता 111:2 हमें स्मरण दिलाता है: “यहोवा के काम महान हैं जो उन से प्रसन्न होते हैं वे उन पर विचार करते हैं।”

हमारे ध्यान के और भी अधिक योग्य स्वयं दिव्य निर्माता हैं। परमेश्वर के महान कार्यों का जश्न मनाते हुए, हमें उसके लिये भी जश्न मनाना चाहिए! उसके काम महान हैं लेकिन वह उससे भी बड़ा है जिससे भजनकार को प्रार्थना करने के लिए प्रेरित किया, “क्योंकि तू महान है और अद्भुत काम करता है केवल तू ही परमेश्वर है”  ( 86:10)।

आज जैसे हम परमेश्वर के कार्य की महानता पर विचार करते है, हम इस बात पर भी अचम्भा करें कि वह कौन है।

प्रार्थना का सार

जब अब्राहम लिंकन संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बने, तो उन्हें एक खंडित राष्ट्र का नेतृत्व करने का काम सौंपा गया। लिंकन को एक बुद्धिमान नेता और उच्च नैतिक चरित्र के व्यक्ति के रूप में देखा जाता है, लेकिन उनके चरित्र का एक अन्य तत्व, शायद, बाकी सब चीजों की नींव था। वह यह समझ गए थे कि जो काम उनके हाथ में है उसके लिए वह अपर्याप्त है। उस अपर्याप्तता पर उनकी प्रतिक्रिया? लिंकन ने कहा, "मैं कई बार अपने घुटनों पर इस भारी भोझ के कारण आया कि मेरे पास और कोई जगह नहीं है जाने के लिए। मेरी अपनी बुद्धि और मुझसे सम्बंधित सब कुछ उस दिन के लिए अपर्याप्त महसूस हुआ ।”

जब हम जीवन की चुनौतियों और अपने स्वयं के सीमित ज्ञान, समझ या सामर्थ की पकड़ में आते हैं, तो हम पाते हैं, लिंकन की तरह, हम पूरी तरह से यीशु पर निर्भर हैं─जिसकी कोई सीमा नहीं है। पतरस ने हमें इस निर्भरता की याद दिलाई जब उसने लिखा, "अपनी सारी चिन्ता उसी पर डाल दो, क्योंकि उस को तुम्हारा ध्यान है" (1 पतरस 5:7)।

अपने बच्चों के लिए परमेश्वर का प्रेम, उसकी पूर्ण शक्ति के साथ, उसे वह सिद्ध व्यक्ति बनाता है जिसके पास हम अपनी कमजोरियों के साथ जा सकते है—और यही प्रार्थना का सार है। हम यीशु के पास जाते हैं यह स्वीकार करते हुए (और स्वयं) कि हम अपर्याप्त हैं और वह अनंतकाल तक के लिए प्रयाप्त है। लिंकन ने कहा कि उन्हें लगा कि उनके पास "कोई जगह नहीं जाने के लिए।" लेकिन जब हम हमारे प्रति परमेश्वर की बड़ी परवाह को समझना शुरू करते हैं, तो यह अद्भुत रूप से अच्छी खबर है। हम उसके पास जा सकते हैं!

भूला नहीं

जब हम ऐतिहासिक, अग्रणी मिशनरियों के बारे में सोचते हैं, तो चार्ल्स रेनियस (1790-1838) का नाम दिमाग में नहीं आता। शायद चाहिए। जर्मनी में जन्मे, रेनियस इस क्षेत्र के पहले मिशनरियों में से एक के रूप में तमिलनाडु के तिरुनेलवेली आए। उन्होंने 90 से अधिक गांवों में यीशु के संदेश को पहुँचाया और थोड़े समय में 3000 धर्मान्तरित हुए। उन्होंने तमिल भाषा में बाइबल  के ग्रंथों के लेखक और अनुवादक के रूप में कार्य किया, और उन्हें लोकप्रिय रूप से "तिरुनेलवेली का प्रेरित" और संस्थापकों में से एक माना जाता है। दक्षिण भारतीय चर्च के पिता।

रेनियस के राज्य सेवा के उल्लेखनीय जीवन को कुछ लोगों ने भुला दिया होगा, लेकिन उनकी आध्यात्मिक सेवा को परमेश्वर कभी नहीं भूलेंगे। वह काम भी नहीं करेंगे जो तुम परमेश्वर के लिए करते हो। इब्रानियों को लिखी चिट्ठी हमें इन शब्दों से प्रोत्साहित करती है, “परमेश्वर अन्यायी नहीं; वह तेरे काम को और उस प्रेम को न भूलेगा जैसा तू ने उस से दिखाया है, जैसा तू ने उसकी प्रजा की सहायता की है, और उसकी सहायता करता रहता है" (6:10)। परमेश्वर की विश्वासयोग्यता को कभी भी कम करके नहीं आंका जा सकता है, क्योंकि वह अपने नाम में की गई हर चीज को वास्तव में जानता और याद रखता है। और इसलिए इब्रानियों ने हमें प्रोत्साहित किया है, "उनका अनुकरण करो जो विश्वास और धीरज के द्वारा प्रतिज्ञा की हुई वस्तु के वारिस होते हैं" (v 12)।

यदि हम अपने चर्च या समुदाय में पर्दे के पीछे सेवा करते हैं, तो यह महसूस करना आसान हो सकता है कि हमारे श्रम की सराहना नहीं की गई है। हिम्मत न हारना। हमारे काम को हमारे आस-पास के लोगों द्वारा मान्यता दी जाए या पुरस्कृत किया जाए या नहीं, परमेश्वर विश्वासयोग्य है। वह हमें कभी नहीं भूलेगा।

वास्तविक आशा

1980 के दशक की शुरुआत में, भारत एक उज्ज्वल भविष्य की प्रत्याशा से भर गया था। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद अशांति के बावजूद उनके बेटे राजीव गांधी को भारी बहुमत के साथ सत्ता सँभालने के लिए वोट दिया गया था। युवा, सुशिक्षित प्रधान मंत्री ने पद ग्रहण किया, और लोगों को आराम की अवधि की आशा थी। लेकिन राष्ट्रीय अशांति के बाद भोपाल गैस त्रासदी, बोफोर्स कांड और श्रीलंका में "शांति" सैनिकों का अनुचित हस्तक्षेप हुआ। राजीव गांधी की हत्या कर दी गई और उस पहले के आशावादी समाज के स्वीकृत मानदंडों को ध्वस्त कर दिया गया। आशावाद बस पर्याप्त नहीं था, और इसके मद्देनजर मोहभंग हो गया।

फिर, 1967 में, धर्मशास्त्री जुर्गन मोल्टमैन के ए थियोलॉजी ऑफ होप (A Theology of Hope) ने एक स्पष्ट दृष्टि की ओर इशारा किया। यह रास्ता आशावाद का नहीं बल्कि आशा का रास्ता था। दोनों एक ही बात नहीं हैं। मोल्टमैन ने पुष्टि की कि आशावाद इस समय की परिस्थितियों पर आधारित है, लेकिन आशा परमेश्वर की विश्वासयोग्यता में निहित है—हमारी स्थिति चाहे जो भी हो।

इस आशा का स्रोत क्या है? पतरस ने लिखा, “हमारे प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर और पिता का धन्यवाद दो, जिस ने यीशु मसीह के मरे हुओं में से जी उठने के द्वारा, अपनी बड़ी दया से हमें जीवित आशा के लिये नया जन्म दिया"(1 पतरस 1:3)। हमारे विश्वासयोग्य परमेश्वर ने अपने पुत्र, यीशु के द्वारा मृत्यु पर विजय प्राप्त की है! इस सबसे बड़ी जीत की वास्तविकता हमें महज आशावाद से परे एक मजबूत, मजबूत आशा की ओर ले जाती है - हर दिन और हर परिस्थिति में।

खूबसूरती से टूटा हुआ

हमारी बस आखिरकार हमारे बहुप्रतीक्षित मंजील पर पहुँच गई──इस्राएल में एक पुरातात्विक खुदाई स्थल, जहाँ हम वास्तव में अपना खुद की कुछ खुदाई कार्य करने वाले थेl  साइट के निदेशक ने समझाया कि हम जो कुछ भी खोजेंगे हो सकता हैं वह हजारों सालों से छूटा हुआ हो। मिट्टी के बर्तनों के टूटे टुकड़े खोदकर, हमें ऐसा लगा जैसे हम इतिहास को छू रहे हैं। एक लंबे समय के बाद, हमें एक कार्यस्थल की ओर ले जाया गया, जहां उन टूटे हुए टुकड़े──विशाल फूलदानों से, जो बहुत पहले बिखर गए थे──एक साथ वापस जोड़े जा रहे थे।

तस्वीर एकदम साफ थी। सदियों पुरानी टूटी हुई मिट्टी के बर्तनों का पुनर्निर्माण करने वाले कारीगर परमेश्वर का एक सुंदर प्रतिनिधित्व करते थे जो टूटी हुई चीजों को ठीक करना पसंद करते थे। भजन संहिता 31:12 में, दाऊद ने लिखा, “मैं मृतक के समान लोगों के मन से बिसर गया; मैं टूटे बर्तन के समान हो गया हूँ।” हालाँकि इस भजन को लिखने का कोई अवसर नहीं दिया गया है, दाऊद के जीवन की कठिनाइयों को अक्सर उसके विलापों में स्वर मिलता था—बिल्कुल इस तरह। गीत उसे खतरा, दुश्मनों और निराशा से टूट जाने के रूप में वर्णित करता है।

तो, वह मदद के लिए कहाँ गया? पद 16 में, दाऊद परमेश्वर से दोहाई देता है, "अपने दास पर अपने मुँह का प्रकाश चमका; अपनी करुणा से मेरा उद्धार कर।”

वह परमेश्वर जो दाऊद के भरोसे का पात्र था, वही परमेश्वर है जो आज भी टूटी-फूटी चीजों को ठीक करता है। वह केवल इतना चाहता है कि हम उसे पुकारें और उसके अटूट प्रेम पर भरोसा करें।

एक धन्यवाद हृदय

प्राचीन रोम(ई.पू.4 - ई.सन् 65) का महान दर्शनशास्त्री, सेनेका पर एक बार महारानी मेसालिना द्वारा व्यभिचार का आरोप लगाया गया । राज्यसभा द्वारा सेनेका को मृत्यु दंड देने के बाद, सम्राट क्लौदिउस ने उसे इसके बदले कोर्सिका(एक द्वीप) में निर्वासित कर दिया, शायद इसलिए कि उसने अनुमान लगाया कि आरोप झूठा था । प्राणदंड के इस स्थगन ने शायद कृतज्ञता के उसके दृष्टिकोण को आकार दिया होगा जब उसने लिखा : मानववध, तानाशाह, चोर, व्यभिचारी, डकैत, पवित्र वस्तु दूषक, और देशद्रोही हमेशा रहेंगे, लेकिन इन सभी से बदतर कृतघ्नता का आपराध है । 

सेनेका का समकालीन, प्रेरित पौलुस शायद सहमत होता । रोमियों 1:21 में, उसने लिखा कि मानव जाति के पतन का कारण यह था कि उन्होंने परमेश्वर को धन्यवाद देने से इनकार किया । कुलुस्से की कलीसिया को लिखते हुए, पौलुस ने मसीह में साथी विश्वासियों को कृतज्ञता के प्रति चुनौती दी । उसने कहा कि हमें अधिकाधिक धन्यवाद करते” रहना है (कुलुस्सियों 2:7) । जब हम परमेश्वर की शांति को “अपने हृदय में अधिकाई से बसने” देते हैं, हम धन्यवाद के साथ प्रत्युत्तर देते हैं (3:15) । वास्तव में, धन्यवाद हमारी प्रार्थनाओं को चरितार्थ करे (4:2) । 

हमारे प्रति परमेश्वर की महान भलाइयाँ हमें जीवन की महान वास्तविकताओं में से एक की याद दिलाती है । वह न केवल हमारे प्रेम और आराधना के योग्य है, वह हमारे धन्यवादी हृदय के योग्य भी है । सब कुछ जो जीवन में अच्छा है उसी की ओर से आता है (याकूब 1:17) । 

सब कुछ के साथ जो हम मसीह में हैं, कृतज्ञता को साँस लेने के समान स्वभाविक होना चाहिए । हम उसके प्रति अपना धन्यवाद प्रगट करते हुए परमेश्वर के उदार दानों का प्रत्युत्तर दें । 

आत्मा से अंतर्दृष्टि

जब वह फ़्रांसिसी सैनिक अपने सैनिक मोर्चाबंदी को मजबूत करने के लिए, मरुभूमि के रेत में खोद रहा था, उसे बिलकुल नहीं पता था कि वह एक महत्वपूर्ण खोज करेगा l एक और बेलचा भर रेत को हटाते हुए, उसने एक पत्थर देखा l केवल एक पत्थर नहीं l यह रोज़ेटा पाषाण (Rosetta Stone) था, जिसमें तीन भाषाओं में लिखे टॉलेमी पंचम के क़ानून और शासन प्रणाली थे l वह पत्थर (अब ब्रिटिश संग्रहालय में रखा है) उन्नीसवीं सदी के सबसे महत्वपूर्ण पुरातात्विक खोज में से एक होगा, जो प्राचीन मिस्र के लेखन जिसे चित्रलिपि (hieroglyphics) के नाम से जाना जाता है के रहस्यों को उजागर करने में मदद करेगा l 

हममें से कई लोगों के लिए, पवित्रशास्त्र का बहुत सा हिस्सा गहरे रहस्य में लिपटा हुआ है l फिर भी, क्रूस की मृत्यु से पूर्व की रात में, यीशु ने अपने अनुयायियों से वादा किया कि वह पवित्र आत्मा भेजेगा l उसने उनसे कहा, “परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपने ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा” (यूहन्ना 16:13) l एक अर्थ में, पवित्र आत्मा, हमारा दिव्य रोज़ेटा पत्थर है, जो सत्य पर प्रकाश डालता है जिसमें बाइबल के रहस्यों के सत्य शामिल हैं l  

जब हमें पवित्रशास्त्र में दी गयी हर चीज़ की पूर्ण समझ का वादा नहीं किया गया है, तो हमें भरोसा हो सकता है कि आत्मा द्वारा हम यीशु का अनुसरण करने के लिए हमारे लिए आवश्यक हर चीज़ को समझ सकते हैं l वह उन महत्वपूर्ण सच्चाइयों में हमारा मार्गदर्शन करेगा l 

याद करें और उत्सव मनाएँ

6 दिसम्बर 1907 को, अमेरिकी राज्य वेस्ट वर्जिनिया में विस्फोटों ने एक छोटे समुदाय को हिलाकर रख दिया, जो कोयला-खनन उद्योग के इतिहास में सबसे खराब आपदाओं में से एक था l कुछ 360 खनिक मारे गए, और यह अनुमान लगाया गया कि इस भीषण त्रासदी ने लगभग 250 विधवाओं और 1000 बच्चों को बिना पिता के पीछे छोड़ दिया l इतिहासकार बताते हैं कि स्मारक सभा विकास का अनुकूल सेवा स्थान बन गया, जिसमें से अमेरिका में फादर्स डे का उत्सव अंततः आरम्भ होनेवाला था l बड़े नुक्सान में से स्मृति निकली और── आखिरकार──उत्सव l 

मानव इतहास में सबसे बड़ी त्रासदी तब हुई जब मानव ने अपने सृष्टिकर्ता को क्रूस पर चढ़ाया l फिर भी, उस अँधेरे क्षण ने स्मृति और उत्सव दोनों को उत्पन्न किया l जिस रात वह क्रूस पर चढ़नेवाला था, उससे पहले वाली रात में, यीशु ने इस्राएल के फसह के तत्वों को लिया और अपना स्वयं का स्मारक उत्सव बनाया l लूका का आलेख इस तरह से दृश्य का वर्णन है : “फिर उसने रोटी ली, और धन्यवाद करके तोड़ी, और उनको यह कहते हुए दी, ‘यह मेरी देह है जो तुम्हारे लिए दी जाती है : मेरे स्मरण के लिए यही किया करो’” (22:19) l 

आज भी, जब भी हम प्रभु भोज लेते हैं, हम हमारे लिए उसके महान, असीम प्रेम का आदर करते हैं──हमारे बचाव की लागत को याद करते हैं और जीवन के उपहार का जश्न मनाते हैं जो उसके बलिदान ने उत्पन्न किया l जैसा कि चार्ल्स वेस्ली ने अपने महान भजन में कहा, “अद्भुत प्रेम! संभव कैसे कि तू, मेरा परमेश्वर, मेरे लिए मर जाए?”

दुःख में आशा

जब कैब ड्राईवर हमें हवाई अड्डे ले गया, उसने हमें अपनी कहानी बतायी । वह 17 साल की उम्र में गरीबी और कष्ट को दूर करने अकेले शहर आया था । अब 11 साल बाद, उसके पास उसका खुद का परिवार है और वह उनके लिए जो उनके पैतृक गांव में अनुपलब्ध था प्रदान करने में सक्षम है । लेकिन उसे दुःख है कि वह अभी भी अपने माता-पिता और भाई-बहनों से अलग है । उसने हमें बताया कि उसकी यात्रा कठिन रही है जो पूरी नहीं होगी जब तक कि वह अपने परिवार के साथ फिर से जुड़ नहीं जाता ।

इस जिन्दगी में अपने प्रिय जनों से अलग होना कठिन है, पर मृत्यु में किसी प्रियजन को खोना और भी कठिन है और एक नुकसान की भावना उत्पन्न करती है जो तब तक सही नहीं किया जाएगा जब तक हम उनके साथ फिर से जुड़ नहीं जाते । जब थिस्लुनीके के नए विश्वासियों ने इस तरह के नुकसान के बारे में सोचा, तो पौलुस ने लिखा, “हे भाइयो, हम नहीं चाहते, कि तुम उनके विषय में जो सोते हैं, अज्ञानी रहो; ऐसा न हो कि तुम दूसरों के समान शोक करो जिन्हें आशा नहीं” (1 थिस्सलुनीकियों 4:13) । उसने समझाया कि यीशु में विश्वासियों के रूप में, हम एक अद्भुत मिलन की उम्मीद में जी सकते है──मसीह की उपस्थिति में हमेशा के लिए एक साथ (पद.17) l 

कुछ अनुभव हमें उतनी ही गहराई से चिह्नित करती है जितनी गहराई से हम अलगाव सहते है, लेकिन यीशु में हमें फिर से मिलने की आशा है । और दुख और हानि के मध्य हम उस स्थायी वायदे में वह आराम पा सकते है जो हमें चाहिए (पद.18) l