Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by जॉन ब्लेस

शांत जीवन जीना

आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं? हम सभी ने इस प्रश्न को बच्चों के रूप में और कभी-कभी व्यस्क के रूप में भी सुना है l प्रश्न जिज्ञासा में उत्पन्न हुआ है, और उत्तर अक्सर महत्वकांक्षा के संकेत के रूप में सुना जाता है l मेरे जवाब वर्षों के दौरान आकार लेते गए, जो एक चरवाहा के रूप में शुरू हुआ, उसके बाद एक ट्रक ड्राईवर, उसके बाद एक सैनिक और मैं कॉलेज में प्रवेश करके एक डॉक्टर बनने की ओर बढ़ा l हालाँकि, मैं एक बार भी याद नहीं कर सकता कि किसी ने सुझाव दिया था या मैंने जानबूझकर “शांत जीवन” का पीछा किया था l

फिर भी पौलुस ने थिस्सलुनीकियों को यही बताया l पहले, उसने उनसे एक दूसरे से और परमेश्वर के सम्पूर्ण परिवार से और अधिक प्रेम करने का निवेदन किया (1 थिस्सलुनीकियों 4:10) l फिर उसने उन्हें एक सामान्य नसीहत दी जिसमें उनके हाथों द्वारा कोई भी  विशिष्ट काम सम्मिलित होगा l “चुपचाप रहने . . . का प्रयत्न करो” (पद.11) l अब पौलुस का वास्तव में क्या मतलब था? उसने स्पष्ट किया : “[तुम] अपना-अपना काम काज करने और अपने अपने हाथों से कमाने का प्रयत्न करो” ताकि बाहरवाले तुम्हें आदर दें और तुम किसी के लिए बोझ न बनो (पद.11-12) l हम बच्चों को उनके गुण या जुनून का पीछा करने में हतोत्साहित नहीं करना चाहते हैं, लेकिन शायद हम उन्हें प्रोत्साहित कर सकते हैं कि वे जो कुछ भी करना चाहते हैं, वे शांत भाव से करें l

जिस संसार में हम निवास करते हैं, महत्वकांक्षी और शांत शब्द इससे और अधिक अलग प्रतीत नहीं हो सकते थे l लेकिन वचन हमेशा प्रासंगिक हैं, इसलिए शायद हमें इस बात पर विचार करना चाहिए कि शांत जीवन जीना में कैसा महसूस हो सकता है?

अपने हथियारबंदी पर भरोसा करें

एक युवा लेखक के रूप में जब मैं लेखन कार्यशाला में होता था अक्सर अपने विषय अनिश्चित होता था l मैं अपने चारोंओर देखता था और कमरों को असाधारण व्यक्तियों से भरा हुआ पाता था, यदि आप वास्तव में देखेंगे – औपचारिक प्रशिक्षण या वर्षों के अनुभव के साथ l मेरे पास इनमें से कोई भी नहीं था l परन्तु मेरे पास सुनने के कान थे जो बाइबल के किंग जेम्स अनुवाद(King James Version) की भाषा और उच्चारण और आवाज़ के उतार-चढ़ाव द्वारा साकार स्वरुप में आकार प्राप्त थे l एक प्रकार से, जो मैं करता था, यह ही मेरी अधिक हथियारबंदी थी, और उसके द्वारा मेरी लेखन शैली और आवाज़ मेरे लिए और मेरी आशा है कि दूसरों का आनंद बन गया है l 

हमें यह चिन्ह दिखायी नहीं देता है कि जब गोलियात से लड़ने के लिए शाऊल का हथियार धारण करने की बात आयी तो वह युवा चरवाहा दाऊद अपने विषय अनिश्चित था (1 शमूएल 17:38-39) l वह उसे पहनकर बिलकुल चल नहीं पा रहा था l दाऊद ने समझ लिया कि एक व्यक्ति का कवच दूसरे के लिए कैदखाना बन सकता है – “इन्हें पहिने हुए मुझ से चला नहीं जाता” (पद.39) l इसलिए उसे उसपर भरोसा था जो वह जानता था l परमेश्वर ने उसे उस क्षण के लिए तैयार किया था जिसकी ज़रूरत थी (पद.34-35) l दाऊद अपनी हथियारबंदी के रूप में, गोफन और पत्थर से परिचित था, और परमेश्वर ने उस दिन इस्राएल के योद्धाओं को हर्ष दिलाने के लिए उन्हीं का उपयोग किया l

क्या आपने कभी अपने विषय अनिश्चित महसूस किया है, सोचते हुए कि यदि मेरे पास वह होता जो किसी और के पास है, तब मेरा जीवन भिन्न होता? उन वरदानों और अनुभवों पर विचार करें जो परमेश्वर ने ख़ास तौर पर आपको दिया है l परमेश्वर द्वारा आपको दी गयी हथियारबंदी पर भरोसा करें l

अंतिम शब्द

उसका नाम सारालिन था, और स्कूल में साथ पढ़ते समय मैं उसका दीवाना था l उसकी मुस्कराहट अद्भुत थी l मुझे नहीं मालूम कि वह उसके प्रति मेरी दीवानगी के विषय जानती थी, परन्तु मुझे शक है कि वह जानती थी l स्नातक की पढ़ाई के बाद मुझे नहीं मालूम वह कहाँ चली गयी l हम दोनों का जीवन अलग- अलग रास्ते पर चल दिया जैसा कि जीवनों के साथ होता है l

मैं कुछ ऑनलाइन मंचों(forum) के माध्यम से अपने स्नातक कक्षा के साथ सम्बन्ध रखता हूँ, और मैं सारलिन की मृत्यु के विषय सुनकर अत्यंत दुखित हुआ l मैं सोचता रहा कि इन बीते वर्षों में उसके जीवन ने कौन सी दिशा ली थी l मेरी उम्र बढ़ने के साथ ऐसी बातें और भी अधिक हो रही हैं, मित्रों और परिवार को खोने का अनुभव l परन्तु हममें से अनेक इसके विषय बात नहीं करना चाहते हैं l

जबकि हम अभी भी दुखित होते हैं, पौलुस जिस आशा के विषय बात करता है वह यह है कि मृत्यु अंत नहीं है (1 कुरिन्थियों 15:54-55) l कुछ है जो उसके बाद आने वाला है, एक अन्य शब्द : पुनरुत्थान l पौलुस उस आशा को मसीह के पुनरुत्थान की सच्चाई में स्थापित करता है (पद.12), और कहता है “और यदि मसीह नहीं जी उठा, तो हमारा प्रचार करना भी व्यर्थ है, और तुम्हारा विश्वास भी व्यर्थ है” (पद.14) l यदि विश्वासी के रूप में हमारी आशा केवल इसी संसार तक सिमित है, तो यह केवल दुर्गति है (पद.19) l

“जो मसीह में सो गए हैं” (पद.18) हम उन्हें एक दिन फिर देखेंगे – दादा-दादी, नाना-नानी और माता-पिता, मित्र और पड़ोसी, या शायद स्कूल के मित्र जिनसे हम प्रेम करते थे l

मृत्यु के पास अंतिम अधिकार नहीं है l पुनरुत्थान के पास है l

गाने का एक कारण

एक व्यक्ति के लिए जो नियमावली के अनुसार जीवन जीता है, कहने का अर्थ है कि, यह एक बड़ी हार महसूस हो रही थी l मैं क्या करता? ठीक है, मुझे नींद आ गयी l जब हमारे बच्चे शाम को बाहर जाते हैं उन्हें दिए गए समय में ही घर लौटना होता है l वे अच्छे बच्चे हैं, परन्तु मेरी आदत हो गयी है कि उनके हाथों से सामने वाले दरवाजे की घुंडी घुमाने की आवाज़ आने तक मैं इंतज़ार करूँ l मुझे ऐसा करने की ज़रूरत नहीं है : मैंने ऐसा करने का चुनाव किया है l परन्तु एक रात मैंने अपनी बेटी को मुस्कराकर मुझे कहते हुए सुना, “पापा, मैं सुरक्षित हूँ l आपको सो जाना चाहिए l” हमारे श्रेष्ट इरादों के बावजूद, पिता अपने प्रहरी स्थानों पर सो जाते हैं l यह नम्र करने वाली बात थी, और यह मानवीय है l

परन्तु यह परमेश्वर के साथ कभी नहीं होता है l भजन 121 उसके विषय जो अपने बच्चों का निगहबान और संरक्षक हैं का पुनः आश्वस्त करनेवाला एक गीत है l भजनकार घोषित करता है कि परमेश्वर जो हमारी हिफ़ाजत करता है “कभी न ऊंघेगा” (पद.3) l और इस बात पर बल देने के लिए, वह पद.4 में इस सच्चाई को दोहराता है : वह “न ऊंघेगा और न सोएगा l”

क्या कभी आप कल्पना कर सकते हैं? परमेश्वर अपने प्रहरी स्थान पर कभी नहीं सोता है l वह सदैव हमारी हिफ़ाजत करता है – बेटा और बेटी और चाचा और चाची और माता, और पिता सभों की l यह इतना आवश्यक नहीं कि यह उसे करना होगा, परन्तु इसके बदले कि, अपने प्रेम के कारण, वह ऐसा करता है l इस प्रतिज्ञा के विषय गाने लायक है l

शेखी मारना

वास्तविक होने का अर्थ क्या होता है? छोटे बच्चों की पुस्तक द वेलवेटीन रैबिट(The Velveteen Rabbit) में इस बड़े प्रश्न का उत्तर दिया गया है l यह नर्सरी(शिशु सदन) में खिलौनों और वेलवेटीन खरगोश की कहानी है जिसमें वह वास्तविक बनने के लिए एक बच्चे को उसे प्यार करने की अनुमति देता है l एक और खिलौना वृद्ध और बुद्धिमान स्किन घोड़ा था l उसने “मशीनी खिलौने को शेखी मारते और इठलाते देखा था, और धीरे-धीरे टूटकर . . . और समाप्त होते देखा था l” वे प्रभावशाली और अच्छे दिखाई देते थे, किन्तु जब प्रेम करने की बात आयी उस समय उनका शेखी बघारना आख़िरकार व्यर्थ निकला l

शेखी मारना प्रबलता से आरम्भ होता है, परन्तु आखिर में यह धूमिल हो जाता है l यिर्मयाह तीन ऐसे क्षेत्र बताता है जहां यह प्रगट है : “बुद्धिमत्ता . . . ताकत . . . धन” (यिर्मयाह 9:23) l बुद्धिमान वृद्ध नबी अपने लम्बे अनुभव से एक या दो बातें जानता था, और उसने प्रभु की सच्चाई द्वारा ऐसे घमण्ड का सामना किया : “परन्तु जो घमण्ड करे वह इसी बात पर घमण्ड करे, कि वह मुझे जानता और समझता है, कि मैं ही वह यहोवा हूँ l (पद.24) l

आइए हम, बच्चे, अपने परमेश्वर, हमारे अच्छे पिता के विषय घमण्ड करें l उसके महान प्रेम की कहानी में, आप और हम एक अद्भुत तरीके से बढ़ते हैं और अधिकाधिक वास्तविक बनते जाते हैं l

अपने प्रचार का अभ्यास

पासवान और संपादक इयूजीन पीटरसन को स्विट्ज़रलैंड के चिकित्सक और उच्च आदर प्राप्त पास्त्रीय परामर्शदाता पॉल टोर्नियर का व्याख्यान सुनने का अवसर मिला l पीटरसन ने डॉक्टर के कार्यों को पढ़ा था, और चंगाई के प्रति उनके दृष्टिकोण की प्रशंसा की थी l व्याख्यान ने पीटरसन पर एक गहरी छाप छोड़ी l जब वे सुन रहे थे, उनको महसूस हुआ कि टोर्नियर के कथनी और करनी में अंतर नहीं था l पीटरसन ने अपने अनुभव का वर्णन करने के लिए इस शब्द का चुनाव किया : “अनुरूपता l यह सबसे अच्छा शब्द है जो मैं ढूढ़ सकता हूँ l”

अनुरूपता (Congruence) – इसको कुछ लोग ”अपने प्रचार का अभ्यास करना” या “अपनी कथनी को करनी में बदलना” संबोधित करते हैं l प्रेरित यूहन्ना बल देते हैं कि यदि हममें से कोई “यह कहता है कि मैं ज्योति में हूँ और अपने भाई से बैर रखता” है तो वह अब तक “अन्धकार ही में है” (1 यूहन्ना 2:9) l निष्कर्ष यह है, हमारे जीवन और हमारे कार्य बस मेल नहीं खाते हैं l यूहन्ना आगे कहता हैं कि ऐसे लोग “नहीं [जानते] कि कहाँ [जाते] हैं” (पद.11) l यह शब्द जिसका उन्होंने यह बताने के लिए चुनाव किया कि परस्पर-विरोधी हमें किस प्रकार छोड़ जाता है? दृष्टिहीन l

वचन के प्रकाश को हमारे मार्गों को आलोकित करने की अनुमति देने के द्वारा परमेश्वर के साथ निकटता से पंक्तिबद्ध रहकर जीवन जीना हमें दृष्टिहीन होने से बचाता है l परिणाम एक धर्मी दृष्टिकोण होता है जो हमारे दिनों को स्पष्टता देता है और उन्हें केन्द्रित करता है – हमारी कथनी और करनी अनुरूप होते हैं l जब दूसरे यह देखते हैं, प्रभाव आवश्यक रूप से किसी ऐसे व्यक्ति का नहीं है जिसे सभी स्थान की जानकारी है जहाँ वह जा रहा है, परन्तु ऐसे व्यक्ति का है जो स्पष्टता से जानता है वह किसका अनुगामी है l

अवसर को जाने न दें

“अपने बच्चों को चाँद दिखाने का मौका कभी न चूकें!” उन्होंने कहा l इससे पूर्व कि सप्ताह के मध्य होनेवाली प्रार्थना सभा आरंभ हो, हमलोगों का एक समूह पिछली रात के शरद पूर्णिमा के विषय बातचीत कर रहे थे l पूर्णिमा अत्यधिक आकर्षक था, जब वह क्षितिज पर बैठा हुआ प्रतीत हो रहा था l श्रीमति वेब, परमेश्वर की सर्वश्रेष्ठ सृष्टि से प्रेम करनेवाली एक बुज़ुर्ग महिला, हमारी बातचीत में बुज़ुर्ग आवाज़ थी, l वह मेरी पत्नी को जानती थी और उस समय हमारे पास दो बच्चे थे, और वह हमारे बच्चों की उचित परवरिश में मेरी सहायता करना चाहती थी l  “अपने बच्चों को चाँद दिखाने का मौका कभी न चूकना!”

श्रीमति वेब एक अच्छी भजनकार हो सकती थी l उनके प्रकार का आकर्षण दाऊद के खगोलीय पिंडों के वर्णन में प्रतिबिंबित है जिनकी “न तो कोई बोली है  . . . [फिर भी] उनका स्वर सारी पृथ्वी पर गूंज गया है,  और उनके वचन जगत की छोर तक पहुँच गए हैं” (भजन 19:3-4) l न भजनकार और न ही श्रीमति वेब चाँद अथवा तारों की उपासना करने का इरादा रखते थे, किन्तु इसके बदले उनके पीछे रचनात्मक हाथों की l कायनात और अन्तरिक्ष पूरी तौर से परमेश्वर की महिमा प्रगट करते हैं (पद.1) l

हम भी अपने चारोंओर के लोगों – छोटे बच्चों और किशोर से लेकर पति-पत्नियों और पड़ोसियों - तक को हमारे चारोंओर परमेश्वर की महिमा की घोषणाओं और प्रकाशनों को ठहरकर, देखने, और सुनने के लिए उत्साहित कर सकते हैं l उसके हाथों के कार्यों की ओर आकर्षण हमें समस्त प्रभाव के पीछे उस अद्भुत परमेश्वर की उपासना करने की ओर नेतृत्व  करता है l कभी भी अवसर को जाने न दें l

दया का एक जीवित स्मारक

मेरी परवरिश परम्पराओं से पूर्ण कलीसिया में हुयी l किसी प्रिय परिवार के सदस्य या मित्र की मृत्यु हो जाने की स्थिति में ही कोई भूमिका निभाता हुआ दिखाई देता था l अक्सर चर्च के एक बेंच पर या संभवतः हॉल में जल्द ही एक ताम्र प्लेट पर एक तस्वीर इन शब्दों के साथ लगी हुयी दिखाई देती थी :…

आशा पुनःस्थापित

क्या सूर्य पूरब में उदय होता है? क्या आकाश नीला है? क्या समुद्र नमकीन है? क्या कोबाल्ट(धातु) का एटॉमिक वजन 58.9 है? वाकई, उस अंतिम प्रश्न का उत्तर आप तभी जानेंगे यदि आप विज्ञान में दिलचस्पी लेते हैं या ऊपरी तौर से विवरण में दिलचस्पी लेते हैं, किन्तु उन दूसरे प्रश्नों के उत्तर स्वाभाविक हैं : वाकई l वास्तव में, इस प्रकार के प्रश्नों में आमतौर पर कटाक्ष की झलक मिली होती है l

यदि हम सावधान नहीं हैं, हमारे आधुनिक – कभी-कभी कलांत – कान उस अशक्त व्यक्ति  के प्रति यीशु के प्रश्न में कटाक्ष का अंश सुन सकते हैं : “क्या तू चंगा होना चाहता है?” (यूहन्ना 5:6) l स्वाभाविक उत्तर प्रतीत हो सकता है, “क्या आप मेरे साथ मज़ाक कर रहे हैं?! मैं अड़तीस वर्षों से सहायता का इंतज़ार कर रहा हूँ!” किन्तु यहाँ पर कटाक्ष उपस्थित नहीं है, यह सच्चाई से सबसे दूर की बात है l यीशु के शब्द सदैव करुणा से भरे होते हैं, और उसके प्रश्न हमेशा हमारी भलाई के लिए होते हैं l

यीशु जानता था कि वह व्यक्ति चंगा होना चाहता था l उसे यह भी ज्ञात था कि संभवत: एक लम्बा अरसा बीतने के बाद भी किसी ने देखभाल की पेशकश नहीं की थी l दिव्य आश्चर्यक्रम के पहले, यीशु की इच्छा उसमें आशा को पुनःस्थापित करनी थी जो ठण्डी हो चुकी थी l उसने ऐसा अपेक्षाकृत प्रश्न पूछने के द्वारा किया, और उसके बाद उसे प्रतिउत्तर देने के तरीके बताकर : “उठ, अपनी खाट उठा, और चल फिर” (पद.8) l हम उस अशक्त व्यक्ति की तरह हैं, हममे से हर एक अपने जीवनों में ऐसे स्थानों पर हैं जहां आशा मुर्झा चुकी है l वह हमें देखता है और करुणा के साथ उस आशा में पुनः विश्वास करने और उसमें विश्वास करने के लिए नेवता देता है l