Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by कटारा पैटन

मजबूती से समाप्त करें

जैसे मैं अपने 40 मिनट के व्यायाम को समाप्त करने वाला होता हूँ, मैं लगभग गारंटी के साथ कह सकता हूं कि मेरा कोच चिल्लाएगा, “मजबूती से समाप्त करो” । मैं जानता हूँ  कि प्रत्येक निजी टरेनर या ग्रुप फिटनैस लीड़र इन वाक्यांशों को व्यायाम समाप्त होने के कुछ मिनटों पहले उपयोग करते हैं । वे जानते हैं कि  व्यायाम का अंत उतना ही महत्वपूर्ण जितना है जितना उसका शुरुआत। और वे जानते हैं  की मानव शरीर में प्रवृति होती है कि थोड़ी देर हरकत करने के बाद बाद सुस्त पड़ जाता है। ।

यीशु के साथ हमारी यात्रा के लिए भी यही बात सच है। पौलुस जब यरुश्लेम की ओर बढ़ा तो उसने इफेसुस की कलीसिया के प्राचीनों को कहा कि उसे मजबूती से खत्म करने की जरूरत थी, जहां उसे निश्चित था कि वह मसीह के एक प्रेरित के रूप में ज्यादा सताव का सामना करेगा (प्रेरितों  के काम 20:17–24) । हालांकि पौलुस उससे अप्रभावित रहा। उसका एक मिशन था, और वह था उस यात्रा को समाप्त करना जो उसने शुरू की थी और वह करना था जिसे करने के लिए परमेश्वर ने उसे बुलाया था। उसका एक काम था —“ परमेश्वर के अनुग्रह का सुसमाचार सुनाना” (पद 24)। और वह मजबूती से खत्म करना चाहता था। भले ही कठिनाई उसका इंतजार कर रही थी  (पद 23), वह समाप्ति  की ओर दौड़ता रहा, वह अपनी यात्रा में दृढ़ रहने के लिए केंद्रित और दृढ़ था।

चाहे हम अपनी शारीरिक मांसपेशियों का व्यायाम कर रहे हों या कार्यों, शब्दों और कर्मों के माध्यम से परमेश्वर द्वारा दी गई अपनी  क्षमताओं का काम कर रहे हों, हमें भी मजबूती से खत्म करने के लिए अनुस्मारक द्वारा प्रोत्साहित किया जा सकता है। “थके हुए न हों” (गलातियों 6:9)। हार मत मानो। ईश्वर आपको वह प्रदान करेगा जो आपको मजबूती से खत्म करने के लिए चाहिए।

बुद्धिमान सलाहकार

जब मैं सैमनरी में पढ़ रहा था, तब मैं पूर्णकालिक काम करता था l उसके साथ पुरोहिताई आवर्तन और एक चर्च में प्रशिक्षण(internship) l मैं व्यस्त था। जब मेरे पिता मुझसे मिलने आए, तो उन्होंने मुझसे कहा, “तुम वास्तव में विफल हो जाओगे l” मैंने उनकी सलाह को यह माँनते हुए हल्के में लिया कि वह पुरानी पीढ़ी के व्यक्ति हैं और परिणाम प्राप्त करने में मेरे मेहनत को नहीं समझ पा रहे हैं ।

मैं विफल तो नहीं हुआ l परंतु मैंने बहुत कठोर सूखेपन का अनुभव किया जिसमें मैं निराशा में चला गया l उस समय से, मैंने चेतावनियों को सुनना सीख लिया है─विशेषकर अपने प्रियों से ─बहुत सावधानी के साथ l 

इससे मुझे मूसा की कहानी याद आ गई l वह भी इस्राएल का न्यायी होकर बड़े परिश्रम से कार्य कर रहा था (निर्गमन 18:13)। फिर भी उसने अपने ससुर की चेतावनी को मानना उचित समझा (पद 17-18)। यित्रो बहुत व्यस्त नहीं था, परंतु वह मूसा और उसके परिवार से प्रेम करता था और आनेवाली परेशानियों को जानता था l शायद इसीलिए मूसा यित्रो की बात सुन सका और उसकी सलाह को माना l मूसा ने छोटे विवादों को सुलझाने के लिए “ऐसे पुरुषों को छांट [लिया] जो गुणी” थे, और उसने कठिन मामलों को स्वयं हल किया (पद. 21-22)। क्योंकि उसने यित्रो की बात सुनी, उसने अपने काम को पुनःव्यवस्थित किया, और अपना बोझ साझा करने के लिए दूसरों को सुपुर्द किया, इसलिए वह जीवन के उस काल में विफल नहीं हुआ l 

हममें से बहुत से लोग परमेश्वर का कार्य, अपना परिवार, और अन्यों को बहुत गंभीरता से─और भी भावप्रवणता से लेते हैं l परंतु फिर भी हमें अपने भरोसेमंद प्रिय लोगों की सलाह मानना चाहिए और अपने समस्त कार्यों में परमेश्वर की बुद्धि और सामर्थ पर भरोसा करना चाहिए।

अपने समय को पुनः प्राप्त करना

मेरी माँ ने मेरे साथ साझा किया कि कैसे उन्होंने कॉलेज जाना नहीं चुना ताकि वह 1960 में मेरे पिता से शादी कर सकें, लेकिन उन्होंने हमेशा एक गृह अर्थशास्त्र शिक्षक बनने के सपने को पकड़े रखा। तीन बच्चों के बाद, हालांकि उन्हें कभी कॉलेज की डिग्री नहीं मिली, लेकिन वह एक सरकारी संस्थान के लिए पोषण विशेषज्ञ सहयोगी बन गईं। उसने स्वास्थ्यप्रद भोजन विकल्पों को प्रदर्शित करने के लिए भोजन पकाया─बिल्कुल एक गृह अर्थशास्त्र शिक्षक की तरह। जब उन्होंने अपने जीवन की घटनाओं का वर्णन करने के बाद मेरे साथ अपना सपना साझा किया, तो उन्होंने इस बात को स्वीकारा कि परमेश्वर ने वास्तव में उनकी प्रार्थना सुनी और उनके हृदय की इच्छाओं को पूरा किया।

जीवन हमारे लिए ऐसा ही हो सकता है। हमारी योजनाएं एक तरफ इशारा करती हैं, लेकिन वास्तविकता दूसरी तरफ जाती है। लेकिन परमेश्वर के साथ, हमारे समय और जीवन को उसकी करुणा, प्रेम और बहाली के सुंदर प्रदर्शनों में बदला जा सकता है। परमेश्वर ने यहूदा के लोगों से कहा (योएल 2:21) कि वह उन्हें उनके खोए हुए या नष्ट किए गए वर्षों के लिए "प्रतिफल" देगा─जो एक "टिड्डियों के झुंड" द्वारा लाये गए (पद. 25)। वह हमारे सामने आने वाली चुनौतियों और अधूरे सपनों में हमारी मदद करने के लिए काम करना जारी रखता है। क्योंकि हम एक ऐसे मुक्तिदाता परमेश्वर की सेवा करते हैं जो उसके लिए हमारे बलिदानों का सम्मान और प्रतिफल देता है (मत्ती 19:29)।

चाहे हम एक विनाशकारी चुनौती का सामना कर रहे हों या अधूरे सपनों का समय हो, हम उस परमेश्वर को पुकारे जो पुनर्स्थापित करता है और उसकी स्तुति करे।

अगुवे के पीछे चलो

शब्द नहीं हैं। बस संगीत और चलती। COVID-19 महामारी के बीच चौबीस घंटे की ज़ुम्बा मैराथन के दौरान, दुनिया भर के हजारों लोगों ने एक साथ काम किया और वस्तुतः भारत, चीन, मैक्सिको, अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका, यूरोप के कुछ हिस्सों और कई अन्य स्थानों के प्रशिक्षकों का अनुसरण किया। . ये विविध व्यक्ति बिना किसी भाषा अवरोध के एक साथ आगे बढ़ने में सक्षम थे। क्यों? क्योंकि 1990 के दशक के मध्य में एक कोलंबियाई एरोबिक्स प्रशिक्षक द्वारा बनाए गए ज़ुम्बा अभ्यास के प्रशिक्षकों ने संवाद करने के लिए अशाब्दिक संकेतों का उपयोग किया। कक्षा के प्रशिक्षक चलते हैं, और छात्र उनके नेतृत्व का अनुसरण करते हैं। वे बिना किसी बोले या चिल्लाए शब्दों का पालन करते हैं।

शब्द कभी-कभी रास्ते में आ सकते हैं और बाधाएं पैदा कर सकते हैं। वे भ्रम पैदा कर सकते हैं जैसे कि कुरिन्थियों ने अनुभव किया, जैसा कि उन्हें पौलुस की पहली पत्री में बताया गया है। यह विशेष खाद्य पदार्थों के खाने से संबंधित विवादित मामलों के अलग-अलग विचारों के कारण उत्पन्न भ्रम था (1 कुरिन्थियों 10:27-30)। लेकिन हमारे कार्य बाधाओं और भ्रम को भी पार कर सकते हैं। जैसा कि आज के मार्ग में पौलुस कहता है, हमें लोगों को यह दिखाना चाहिए कि कैसे हम अपने कार्यों के द्वारा यीशु का अनुसरण करें—“बहुतों की भलाई” की तलाश में (10:32–33)। हम दुनिया को उस पर विश्वास करने के लिए आमंत्रित करते हैं जब हम “मसीह के उदाहरण का अनुसरण करते हैं” (11:1)।

जैसा कि किसी ने एक बार कहा था, “हर समय सुसमाचार का प्रचार करो। जरूरत पड़ने पर शब्दों का प्रयोग करें।“ जब हम यीशु की अगुवाई का अनुसरण करते हैं, तो वह हमारे कार्यों को हमारे विश्वास की वास्तविकता के लिए दूसरों को निर्देशित करने के लिए मार्गदर्शन कर सकता है। और हो सकता है कि हमारे वचन और कार्य “सब कुछ परमेश्वर की महिमा के लिए” (10:31) हों।

कुम्हार का चाक

1952 में, एक दुकान में अनाड़ी या लापरवाह लोगों को सामान तोड़ने से रोकने के प्रयास में, एक दुकान मालिक ने एक संकेत पोस्ट किया जिसमें लिखा था: "आप इसे तोड़ते हैं, आप इसे खरीदते हैं।" आकर्षक वाक्यांश ने ग्राहकों के लिए चेतावनी का काम किया। इस तरह के संकेत अब कई बुटीक/वस्त्रालय में देखे जा सकते हैं।

विपरीततया एक असली कुम्हार की दुकान में एक अलग चिन्ह लगाया जा सकता है। यह कहेगा : "यदि आप इसे तोड़ते हैं, तो हम इसे कुछ बेहतर बना देंगे।" और ठीक यही यिर्मयाह 18 में प्रकट  है।

यिर्मयाह एक कुम्हार के घर जाता है और देखता है कि कुम्हार अपने हाथों से "विकृत" मिट्टी को आकार दे रहा है, सावधानी से सामग्री को संभाल रहा है और उसका “दूसरा बर्तन” बना रहा है (पद 4)। भविष्यवक्ता हमें याद दिलाता है कि परमेश्वर वास्तव में एक कुशल कुम्हार है, और हम मिट्टी हैं। वह सर्वशक्तिमान है और वह जो कुछ भी बनाता है उसका उपयोग बुराई को नष्ट करने और हममें सुंदरता पैदा करने अर्थात् दोनों के लिए कर सकता है।

परमेश्वर हमें तब भी आकार दे सकता है जब हम विकृत हैं या टूट गए हैं । वह, कुशल कुम्हार, हमारे टूटे हुए टुकड़ों से नए और कीमती मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए तैयार है। परमेश्वर हमारे टूटे हुए जीवन, गलतियों और पिछले पापों को अनुपयोगी सामग्री के रूप में नहीं देखता है। इसके बजाय, वह हमारे टुकड़ों को उठाता है और उन्हें वैसा ही नया आकार देता है जैसा वह सबसे अच्छा देखता है।

हमारे टूटेपन में भी, हमारे सिद्ध कुम्हार के लिए हमारी बहुत उपयोगिता है। उसके हाथों में, हमारे जीवन के टूटे हुए टुकड़े सुंदर बर्तन में बदले जा सकता हैं’ जिनका उपयोग उसके द्वारा किया जा सकता है (पद 4)।

क्षमा का रेखा-चित्र उकेरें

छोटा, लाल आयताकार बॉक्स जादुई था। एक बच्चे के रूप में, मैं इसके साथ घंटों खेल सकता था। जब मैं बॉक्स पर एक बटन घुमाता, तो मैं इसकी स्क्रीन पर एक क्षैतिज रेखा बना सकता था। दूसरे बटन को घुमाकर देखने पर - एक लंबवत रेखा। जब मैंने दोनों बटन एक साथ घुमाता था, तो मैं विकर्ण रेखाएँ, वृत्त और रचनात्मक डिज़ाइन बना सकता था। लेकिन असली जादू तब आया जब मैंने अपने एच ए स्केच(Etch A Sketch) खिलोने को उल्टा कर दिया, उसे थोड़ा हिलाया और उसे दाहिनी ओर से उठाया l एक खाली स्क्रीन दिखाई दी, जिससे मुझे एक नया डिज़ाइन बनाने का अवसर मिला।

परमेश्वर की क्षमा उस एच ए स्केच(Etch A Sketch) की तरह कार्य करती है। वह हमारे पापों को मिटा देता है, हमारे लिए एक स्वच्छ चित्रफलक बनाता है। यहां तक ​​कि अगर हम अपने द्वारा की गई गलतियों को याद करते हैं, तो भी परमेश्वर क्षमा करना और भूल जाना पसंद करता है। उसने उन्हें मिटा दिया है और हमारे पापों को हमारे विरुद्ध नहीं रखता है। वह हमारे पापपूर्ण कार्यों के अनुसार हमारे साथ व्यवहार नहीं करता (भजन संहिता 103:10) परन्तु क्षमा के द्वारा अनुग्रह को बढ़ाता है। जब हम परमेश्वर से क्षमा मांगते हैं तो हमारे पास एक साफ पटिया होती है—एक नया जीवन हमारी प्रतीक्षा कर रहा होता है। हमें उसके अद्भुत उपहार के कारण हम अपराध और शर्म से छुटकारा पा सकते हैं।

भजनकार हमें स्मरण दिलाता है कि उदयाचल अस्ताचल से जितनी दूर है, उसने हमारे अपराधों को हम से उतनी ही दूर कर दिया है (पद 12)। अर्थात् आप उससे जितना अधिक दूर जा सकते हैं!  परमेश्वर की दृष्टि में, हमारे पाप अब लाल रंग के अक्षर या खराब चित्र की तरह हमसे चिपके नहीं रहते। आनन्दित होने और परमेश्वर को उसके अद्भुत अनुग्रह और दया के लिए धन्यवाद देने का यही कारण है।