Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by लेस्ली कोह

लम्बी दूरी

चूंकि उनके साथियों को एक-एक करके पदोन्नत किया गया था, बेंजामिन नहीं चाहते हुए भी थोड़ी ईर्ष्या महसूस की l “आप अभी तक प्रबंधक कैसे नहीं हैं? आप इसके लायक हैं, ”दोस्तों ने उससे कहा । लेकिन बेन ने अपना कैरियर/जीविका परमेश्वर पर छोड़ने का फैसला किया । "अगर यह मेरे लिए परमेश्वर की योजना है, तो मैं अपना काम अच्छी तरह से करूंगा," उसने जवाब दिया ।

कई साल बाद, बेन को आखिरकार पदोन्नत कर दिया गया । तब तक, उसके अतिरिक्त अनुभव ने उसे आत्मविश्वास से अपना काम करने में सक्षम बना दिया और उसे अधीनस्थों का सम्मान मिला । इस बीच, उसके कुछ साथी, अभी भी अपनी पर्यवेक्षी(supervisory) जिम्मेदारियों से जूझ रहे थे, क्योंकि वे तैयार होने से पहले ही पदोन्नत हो चुके थे । बेन ने महसूस किया कि परमेश्वर उसे “लम्बे मार्ग” से ले गया था ताकि वह अपनी भूमिका के लिए बेहतर तैयार हो सके ।

जब परमेश्वर ने इस्राएलियों को मिस्र से बाहर निकाला (निर्गमन 13: 17-18), तो उसने एक लंबा रास्ता चुना क्योंकि कनान के लिए "छोटा मार्ग/shortcut" जोखिम से भरा था । बाइबल के टिप्पणीकारों पर ध्यान दें, लम्बी यात्रा, उन्हें बाद की लड़ाइयों के लिए शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से मजबूत बनाने के लिए और अधिक समय दिया ।

सबसे छोटा रास्ता हमेशा सबसे अच्छा नहीं होता है । कभी-कभी परमेश्वर हमें जीवन में लंबा रास्ता तय करने देता है, चाहे वह हमारे कैरियर/जीविका में हो या अन्य प्रयासों में, ताकि हम आगे की यात्रा के लिए बेहतर तरीके से तैयार हों । जब चीजें बहुत जल्दी होती नहीं लगती हैं, तो हम परमेश्वर पर भरोसा कर सकते हैं - जो हमारा नेतृत्व और मार्गदर्शन करता है ।

जोखिम भरा एक चक्करदार मार्ग

यह तो समय की बर्बादी है, हेमा ने सोचा । उसकी बीमा एजेंट फिर से मिलने के लिए जोर दे रही थी । हेमा को पता था कि यह बिक्री का एक और उबाऊ समय होगा, लेकिन उसने इसे अपने विश्वास के बारे में बात करने के लिए एक अवसर की तलाश में उपयोग करने का फैसला किया ।

यह देखते हुए कि एजेंट की भौहों पर टैटू था, उसने संकोच के साथ पूछा कि क्यों और पता चला कि महिला ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसे लगा कि यह उसकी किस्मत खोलेगा । हेमा का सवाल वित्त के बारे में एक नियमित बातचीत से एक जोखिम भरा चक्कर की ओर था, लेकिन इसने भाग्य और विश्वास के बारे में एक बातचीत का दरवाजा खोल दिया, जिससे उसे इस बारे में बात करने का मौका मिला कि वह क्यों यीशु पर निर्भर है । वह "व्यर्थ" घंटा एक दिव्य नियुक्ति बन गयी ।

यीशु ने भी एक जोखिम भरा चक्करदार मार्ग लिया l यहूदिया से गलील की यात्रा करते हुए, वह अपना मार्ग बदलकर एक सामरी से बातचीत करने गया, जो एक यहूदी के लिए अकल्पनीय है । इससे भी बदतर, वह एक व्यभिचारी महिला थी जिससे अन्य सामरी लोग भी बचते थे l फिर भी उसने अपना वार्तालाप समाप्त किया, जिसके कारण बहुतों का उद्धार हुआ (यूहन्ना 4:1-26, 39-42) l

क्या आप किसी ऐसे व्यक्ति से मिल रहे हैं जिसे आप वास्तव में नहीं देखना चाहते हैं? क्या आपका सामना एक ऐसे पड़ोसी से होता है जिससे आप आमतौर पर बचते हैं? बाइबल हमें हमेशा तैयार रहने की याद दिलाती है – ”समय और असमय” – सुसमाचार साझा कर (2 तीमुथियुस 4: 2) । "जोखिम भरा चक्करदार मार्ग" लेने पर विचार करें । कौन जानता है, परमेश्वर आपको आज उसके बारे में किसी से बात करने का एक दिव्य अवसर दे रहा हो!

अलगाव में एकता

अपने सहयोगी तरुण के साथ एक परियोजना में लगाएं गए, अशोक को एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा : उसके और तरुण के बहुत अलग विचार थे कि कैसे कार्य आरंभ करें l जबकि वे एक दूसरे के मत का सम्मान करते थे, उनके दृष्टिकोण इतने अलग थे कि संघर्ष आसन्न लग रहा था l इससे पहले कि संघर्ष शुरू हुआ, हालाँकि, दोनों लोग अपने मालिक के साथ अपने मतभेदों पर चर्चा करने के लिए सहमत हुए, जिन्होंने उन्हें अलग-अलग टीमों में डाल दिया l यह एक समझदारी भरा कदम था l उस दिन, अशोक ने यह सबक सीखा : एकजुट होना का मतलब हमेशा एक साथ काम करना नहीं है l

अब्राहम को इस सच्चाई का एहसास हुआ होगा जब उसने सुझाव दिया था कि वह और लूत बेतेल में अपने अलग मार्ग को चुन लें (उत्पत्ति 13:5-9) l यह देखते हुए कि उनके दोनों झुंडों के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी, अब्राहम ने समझदारी से साहचर्य छोड़ दी l लेकिन पहले, उसने बल देकर कहा कि वे “बाई-बंधू” (पद.8) हैं, लूत को आपसी सम्बन्ध याद दिलाया l फिर, अत्यधिक विनम्रता के साथ, उन्होंने अपने भतिजे को पहली पसंद (पद.9) दी, भले ही वह अब्राहम, वरिष्ठ व्यक्ति था l यह वैसे था, जैसा कि एक पास्टर ने वर्णन किया है, “एक सामंजस्यपूर्ण अलगाव l”

परमेश्वर द्वारा अद्वितीय रूप से बनाए जाने के कारण, हम पाते हैं कि हम एक ही लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कभी-कभी अलग रहकर बेहतर काम करते हैं l विविधता में एक एकता है l हालाँकि, हम कभी नहीं भूलते, कि हम अभी भी परमेश्वर के परिवार में भाई-बहन हैं l हम चीजों को अलग तरीके से कर सकते हैं, लेकिन हम उद्देश्य में एकजुट रहते हैं l

क्या परमेश्वर है?

लीला कैंसर से मर रही थी, और उसका पति, तिमोथी, यह नहीं समझ पा रहा था कि एक प्रेमी परमेश्वर अपनी पत्नी को पीड़ित क्यों होने देगा l उसने ईमानदारी से एक बाइबल शिक्षक और सलाहकार के रूप में कई लोगों की सेवा उसकी की थी l “आपने ऐसा क्यों होने दिया?” उसने पुकारा l इसके बावजूद तिमोथी परमेश्वर के साथ चलने में विश्वासयोग्य रहा l

“तो अभी भी तुम परमेश्वर में विश्वास क्यों करते हो?” मैंने उससे खुलकर पूछा l “कौन सी बात तुम्हें उससे दूर नहीं जाने देता है?”

“पहले जो हुआ है, उसके कारण,” तिमोथी ने जवाब दिया l जबकि वह अब परमेश्वर को “देख” नहीं सकता था, उसने उन समयों को याद किया जब परमेश्वर ने उसकी मदद की थी और उसकी रक्षा की थी l ये संकेत थे कि परमेश्वर अभी भी उसके परिवार की देखभाल कर रहा था l “मैं उस परमेश्वर को जानता हूँ जिसमें मैं विश्वास करता हूँ जो अपने तरीके से मदद करेगा,” उसने कहा l

तिमोथी के शब्द यशायाह 8:17 में लिखी यशायाह की अभिव्यक्ति को प्रतिध्वनित करती है l यहाँ तक कि जब वह परमेश्वर की उपस्थिति महसूस नहीं कर सकता था क्योंकि उसके लोग अपने शत्रुओं की ओर से मुसीबत के लिए तैयारी कर रहे थे, वह “यहोवा की बाट [जोहेगा] l” उसने परमेश्वर में उन संकेतों के कारण भरोसा किया जो उसने अपनी निरंतर उपस्थिति के विषय दिया था (पद.18) l

ऐसे समय होते हैं जब हम महसूस कर सकते हैं कि हमारी परेशानियों में परमेश्वर हमारे साथ नहीं है l ऐसे समय में ही हम अपने जीवन में उसके कार्यों को अतीत और वर्तमान में देख सकते हैं l वे ही अदृश्य परमेश्वर के दृश्य अनुस्मारक हैं – एक परमेश्वर जो हमेशा हमारे साथ है और अपने समय और तरीके से उत्तर देगा l

योजनाएँ बाधित

वाक् चिकित्सक (speech therapist) बनने की जेन की योजना तब समाप्त हुयी जब प्रशिक्षण(internship) से पता चला कि नौकरी उनके लिए भावनात्मक रूप से बहुत चुनौतीपूर्ण थी l फिर उसे एक पत्रिका के लिए लिखने का अवसर दिया गया l उसने खुद को एक लेखक के रूप में कभी नहीं देखा था, लेकिन सालों बाद उसने अपने लेखन के माध्यम से ज़रुरात्मन्द परिवारों की वकालत करते हुए पाया l वह कहती है, “पीछे मुड़कर देखकर, मैं देख सकती हूँ कि परमेश्वर ने मेरी योजना क्यों बदली l मेरे लिए उसके पास और भी बड़ी योजना थी l”

बाइबल में बाधित योजनाओं की कई कहानियाँ हैं l अपनी दूसरी मिशनरी यात्रा पर, पौलुस ने सुसमाचार को बितूनिया में लाना चाहा, लेकिन यीशु की आत्मा ने उसे रोक दिया (प्रेरितों 16:6-7) l यह रहस्यपूर्ण प्रतीत हुआ होगा : यीशु उन योजनाओं को क्यों बाधित कर रह था जो परमेश्वर प्रदत्त एक मिशन के अनुरूप थीं? एक रात एक सपने में जवाब आया : मैसिडोनिया को उसकी और अधिक ज़रूरत थी l वहाँ, पौलुस यूरोप में पहला चर्च स्थापित करनेवाला था l सुलैमान ने यह भी देखा, “मनुष्य के मन में बहुत सी कल्पनाएँ होती हैं, परन्तु जो युक्ति यहोवा करता है, वही स्थिर रहती है” (नीतिवचन 19:21) l 

योजनाएँ बनाना समझदारी है l एक प्रसिद्ध कहावत है, “योजना बनाने में विफल, और आप विफल होने की योजना बनाते हैं l” परन्तु परमेश्वर अपनी योजना के द्वारा हमारी योजनाएं विफल कर सकता है l हमारी चुनौती सुनना और मानना है, यह जानकार कि हम परमेश्वर पर भरोसा कर सकते हैं l यदि हम उसकी इच्छा के प्रति समर्पण करते हैं, तो हम स्वयं को अपने जीवन के लिए उसके उद्देश्य में ढाले हुए पाएंगे l 

जब हम योजनाएं बनाना जारी रखते हैं, हम एक नया मोड़ जोड़ सकते हैं : सुनने की योजना बनाएँ l परमेश्वर की योजना सुनें l 

प्रेम में विभाजित

जब सिंगापुर के एक विवादास्पद कानून पर सार्वजनिक बहस छिड़ गयी, तो उसने विश्वासियों को अलग-अलग विचारों से विभाजित किया l कुछ ने दूसरों को “संकीर्ण सोच वाले” कहा या उन पर अपने विश्वास से समझौता करने का आरोप लगाया l 

विवादों से परमेश्वर के परिवार के बीच तीखे मतभेद पैदा हो सकते हैं, जिससे लोग बहुत आहात और हतोत्साहित होंगे l मैं अपने जीवन पर बाइबल की शिक्षाओं को कैसे लागू करूँ,  इस पर व्यक्तिगत आक्षेपों को महसूस करने में मैंने खुद को दीन पाया है l और मुझे यकीन है कि मैं दूसरों की अओचना करने के लोए सामान रूप से दोषी हूँ, जिनसे मैं असहमत हूँ l 

मुझे आश्चर्य है कि शायद समस्या हमारे विचार क्या हैं या उनको व्यक्त करने के तरीके में नहीं है, परन्तु ऐसा करते समय हमारे हृदयों के नजरिये में है l क्या हम सिर्फ विचारों से असहमत हैं या उनके पीछे के व्यक्तित्वों को फाड़ने की कोशिश कर रहे हैं?

फिर भी ऐसे समय होते हैं जब हमें झूठी शिक्षा को संबोधित करने या अपने रुख को स्पष्ट करने की आवश्यकता होती है l इफिसियों 4:2-6 हमें दीनता, नम्रता, धीरज और प्रेम के साथ ऐसा करने की याद दिलाता है l और, सब से ऊपर, “आत्मा की एकता रखने” के लिए हर प्रयास करने के लिए (पद.3) l 

कुछ विवाद अनसुलझे रहेंगे l हालाँकि, परमेश्वर का वचन हमें याद दिलाता है कि हमारा लक्ष्य हमेशा लोगों के विश्वास का निर्माण करना होना चाहिए, उन्हें फाड़ना नहीं चाहिए (पद. 29) l क्या हम एक तर्क जीतने के लिए दूसरों को नीचे रख रहे हैं? या क्या हम परमेश्वर को अपने समय और अपने तरिके से उसकी सच्चाइयों को समझने में मदद करने की अनुमति दे रहे हैं, यह याद करते हुए कि हम एक परमेश्वर में एक विश्वास साझा करते हैं? (पद.4-6) l 

परमेश्वर के लिए खूबसूरत

अपने प्रेमी से डेटिंग करते समय डेनिसी ने पतली आकृति और वस्त्र को सुरुचिपूर्ण बनाकर रखने का प्रयास किया, यह भरोसा करते हुए कि वह उसके लिए उस तरह से अधिक आकर्षक लगेगी l आखिरकार, स्त्रियों की सभी पत्रिकाएँ इन्हीं की सलाह देती हैं l यह केवल बहुत बाद में पता चला कि उसके मन में क्या था : “जब तुम अधिक वजनदार थी तब भी मैंने तुम्हें उतना ही पसंद किया और तुम्हारे वस्त्र के विषय चिंता नहीं की l”

डेनिसी को एहसास हुआ कि “खूबसूरती” कितना आत्मगत(subjective) थी l दूसरों के द्वारा खूबसूरती के विषय हमारा दृष्टिकोण कितनी सरलता से प्रभावित होता है l यह आंतरिक ख़ूबसूरती के मूल्य को भूल कर अक्सर बाह्य स्वरुप पर केन्द्रित होता है l परन्तु परमेश्वर हमें केवल एक ही तरीके से देखता है – अपने सुन्दर, प्रिय बच्चों की तरह l मैं सोचना चाहता हूँ कि जब परमेश्वर ने इस सृष्टि की रचना की, वह सर्वोत्तम को अंत के लिए छोड़ दिया अर्थात् हमें! उसने सबकुछ सुन्दर बनाया, परन्तु हम अधिक विशेष हैं क्योंकि हम परमेश्वर के स्वरुप में बनाए गए हैं (उत्पत्ति 1:27) l

परमेश्वर हमें खूबसूरत मानता है! कोई आश्चर्य की बात नही कि भजनकार विस्मय से भर गया जब उसने प्रकृति की महानता की तुलना मनुष्य से की l “उसने पुछा, “तो फिर मनुष्य क्या है कि तू उसका स्मरण रखे, और आदमी क्या है कि तू उसकी सुधि ले?” (भजन 8:4) l फिर भी परमेश्वर ने नश्वर को महिमा और आदर दी जो और किसी के पास नहीं था (पद.5)

यह सच्चाई हमें उसकी प्रशंसा करने का आश्वासन और कारण देता है (पद.9) l चाहे दूसरे हमारे विषय कुछ भी सोचें – या हम अपने विषय क्या सोचते हैं – यह जान लें : हम परमेश्वर के लिए खूबसूरत है l

जब सबकुछ खोया हुआ लगे

केवल छः महीनों में जेरल्ड का जीवन टुकड़े-टुकड़े हो गया l एक आर्थिक संकट ने उसके कारोबार और धन-दौलत को बर्बाद कर दिया, जबकि एक दुखद दुर्घटना ने उसके पुत्र की जान ले ली l आघात से अभिभूत, उसकी माँ की हृदयाघात से मृत्यु हो गयी, उसकी पत्नी विषाद में चली गयी, और उसकी दो तरुण बेटियाँ शोकाकुल बनी रहीं…

क्या आप वहाँ हैं?

जब माइकल की पत्नी को मरणान्तक बीमारी(Terminal illness) हो गयी, उसकी इच्छा हुयी कि वह भी उस शांति का अनुभव करे जो परमेश्वर के साथ सम्बन्ध रखने के द्वारा उसके पास थी l उसने उसके साथ अपना विश्वास साझा किया था, किन्तु उसमें रूचि नहीं थी l एक दिन, जब वह स्थानीय बुकस्टोर में गया, एक पुस्तक ने उसे अपनी ओर आकर्षित की, परमेश्वर, क्या आप वहाँ हैं? अनिश्चित कि इस पुस्तक के प्रति उसकी पत्नी का रवैया क्या रहेगा, पुस्तक खरीदने से पहले कई बार उसने दूकान के अन्दर बाहर आना जाना किया l वह चकित हुआ, उसकी पत्नी ने पुस्तक स्वीकार कर लिया l

उस पुस्तक ने उसे स्पर्श किया, और वह बाइबल भी पढ़ने लगी l दो सप्ताह बाद, माइकल की पत्नी गुज़र गयी – परमेश्वर के साथ शांति में और इस निश्चयता में कि वह उसे कभी नहीं त्यागेगा या छोड़ेगा l

जब परमेश्वर ने मूसा से अपने लोगों को मिस्र से निकलने के लिए बुलाया, उसने अपनी सामर्थ्य की प्रतिज्ञा नहीं दी l इसके बदले, उसने अपनी उपस्थिति की प्रतिज्ञा दी : “मैं तेरे संग रहूँगा” (निर्गमन 3:12) l अपने क्रूसीकरण से पूर्व यीशु ने अपने शिष्यों से परमेश्वर की अनंत ऊपस्थिति की प्रतिज्ञा की, जो वे पवित्र आत्मा द्वारा प्राप्त करेंगे (यूहन्ना 15:26) l

अनेक चीजें हैं जो परमेश्वर जीवन की चुनौतियों में हमें मदद के लिए दे सकता था, जैसे भौतिक आराम, चंगाई, या हमारी समस्याओं का त्वरित हल l कभी-कभी वह करता भी है l किन्तु खुद को देकर वह हमें सर्वोत्तम उपहार देता है l यह हमारे लिए महानतम सुख है : जीवन में जो भी हो, वह हमारे साथ रहेगा; वह हमें न छोड़ेगा और न त्यागेगा l