Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by मोनिका ब्रांड्स

खोदा गया दुख

एक दुर्लभ और लाइलाज मस्तिष्क कैंसर का विनाशकारी निदान प्राप्त करने के बाद,एक अनूठी सेवा प्रदान करने के माध्यम से कैरोलिन ने नई आशा और उद्देश्य पाया —गंभीर रूप से बीमार बच्चों और उनके परिवारों के लिए स्वयंसेवी फोटोग्राफी सेवाएं। इस सेवा के माध्यम से परिवार अपने बच्चों के साथ साझा किए गए अनमोल पलों को कैद कर सकते हैं, दुख में और अनुग्रह और सुंदरता के क्षण, जो हम मानते हैं कि उन हताश स्थानों में मौजूद नहीं हैं। उसने देखा कि कठिनतम क्षणों में जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है, उन परिवारों ने इन सब के बावजूद भी प्यार करना चुना । 

दुख की सच्चाई को पकड़ना अकथनीय रूप से शक्तिशाली है – इसकी विनाशकारी वास्तविकता और इसके बीच में हम जिस तरह से सुंदरता और आशा का अनुभव करते हैं, दोनों।

अय्यूब की अधिकांश पुस्तक शोक की तस्वीर की तरह है– विनाशकारी नुकसान के माध्यम से अय्यूब की यात्रा को ईमानदारी से दिखाना (1:18.19)। अय्यूब के साथ कई दिनों तक बैठने के बादए उसके मित्र उसके दुःख से थक गए, और   इसे कम से कम करने या इसे परमेश्वर के निर्णय के रूप में समझाने का सहारा लेने लगे। परन्तु अय्यूब ने  जोर देकर कहा कि वह जिस चीज से गुजर रहा था, वह मायने रखती है, और इच्छा प्रकट करी कि उसके अनुभव की गवाही चट्टान में हमेशा के लिए खुदी हुई  होती! (19:24)।

अय्यूब की पुस्तक के माध्यम से इसे खोदा गया था– एक तरह से जो हमें हमारे दुःख में जीवित परमेश्वर (पद 26–27) की ओर ले जाता है जो हमें हमारे दुख में मिलता है, हमें मृत्यु के माध्यम से पुनरुत्थान जीवन में ले जाता है।

जानने की सीमाओं से परे

यह एक कठिन दिन था जब मेरे पति को पता चला कि कई अन्य लोगों की तरह, उन्हें भी जल्द ही कोविद-19 महामारी के परिणामस्वरूप रोजगार से निकाल दिया जाएगा। हमें विश्वास था कि परमेश्वर हमारी मूल जरूरतों को पूरा करेंगे, लेकिन यह कैसे होगा इसकी अनिश्चितता अभी भी भयानक थी।

जैसे ही मैं अपनी उलझी हुई भावनाओं के साथ आगे बढ़ी, मैंने खुद को सोलहवीं शताब्दी के सुधारक जॉन ऑफ द क्रॉस की एक पसंदीदा कविता पर दोबारा गौर करते हुए पाया। शीर्षक "मैं अंदर गया, मुझे नहीं पता कहाँ," कविता समर्पण की यात्रा में पाए जाने वाले आश्चर्य को दर्शाती है, जब, "जानने की सीमाओं को पार करते हुए," हम "परमेश्वर को उसके सभी रूपों में समझना" सीखते हैं। और इसलिए ऐसे समय के दौरान मैंने और मेरे पति ने यही करने की कोशिश की : जो हमारे नियंत्रण में है उससे अपना ध्यान हटाकर और अनपेक्षित, रहस्यमय और उन सुन्दर तरीको को समझे जिनके द्वारा हम परमेश्वर को अपने चारों ओर पा सकते है।

प्रेरित पौलुस ने विश्वासियों को देखी से अनदेखी, बाहरी से भीतर की वास्तविकताओं की ओर, और अस्थायी संघर्षों से "सनातन महिमा जो उन सब से अधिक है" की यात्रा के लिए आमंत्रित किया (2 कुरिन्थियों 4:17)।

पौलुस ने ऐसा आग्रह इसलिए नहीं किया क्योकि उसे उनके संघर्षों पर सहानुभूति नहीं थी। वह जानता था कि जो कुछ वे समझ सकते हैं, उसे छोड़ देने के द्वारा ही वे आराम, आनंद और आशा का अनुभव कर सकते हैं जिसकी उन्हें अत्यधिक आवश्यकता थी (पद. 10, 15-16)। तथा वे सभी चीजों को नया बनाने वाले मसीह के जीवन के आश्चर्य को जाने।

उत्सव चुनना

लेखिका मर्लिन मैकएंटायर एक दोस्त से सीखने की कहानी साझा करती हैं कि “ईर्ष्या के विपरीत उत्सव है।“ इस दोस्त की शारीरिक अक्षमता और पुराने दर्द के बावजूद, जिसने उसकी प्रतिभा को उसकी उम्मीद के मुताबिक विकसित करने की क्षमता को सीमित कर दिया था, वह किसी भी तरह से खुशी को मूर्त रूप देने और दूसरों के साथ जश्न मनाने में सक्षम थी, जिससे उसकी मृत्यु से पहले “हर मुठभेड़ में प्रशंसा” हुई। .

वह अंतर्दृष्टि- “ईर्ष्या के विपरीत उत्सव है” – मेरे साथ रहता है, मुझे अपने जीवन में उन दोस्तों की याद दिलाता है जो दूसरों के लिए इस तरह की तुलना-मुक्त, गहरी और वास्तविक खुशी जीते हैं।

ईर्ष्या एक आसान जाल में गिरना है। यह हमारी गहरी कमजोरियों, घावों और भयों पर फ़ीड करता है, फुसफुसाते हुए कि अगर हम केवल फलाने की तरह होते, तो हम संघर्ष नहीं करते, और हमें बुरा नहीं लगता।

जैसा कि पतरस ने 1 पतरस 2 में नए विश्वासियों को याद दिलाया, ईर्ष्या से हमें जो झूठ कहता है, उससे “[स्वयं]” छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका सच्चाई में गहराई से निहित होना है, “चख लिया है” – गहराई से अनुभव किया है – “कि प्रभु है अच्छा” (v 1-3)। जब हम अपने आनन्द के सच्चे स्रोत- “परमेश्वर के जीवित और चिरस्थायी वचन” (v 23) को जानते हैं, तो हम “एक दूसरे से हृदय से गहरा प्रेम” (1:22) कर सकते हैं।

हम तुलना को आत्मसमर्पण कर सकते हैं जब हमें याद आता है कि हम वास्तव में कौन हैं – “चुने हुए लोगों, . . . परमेश्वर का विशेष अधिकार,” “कहा जाता है . . . अन्धकार में से उसकी अद्भुत ज्योति में” (2:9)।

मसीह जैसी पुर्णता

"पूर्णतावाद मेरे द्वारा ज्ञात सबसे डरावने शब्दों में से एक है," कैथलीन नॉरिस लिखती हैं, मत्ती की पुस्तक में वर्णित "पूर्णता" के साथ आधुनिक-समय पूर्णतवाद का सोच-समझकर तुलना करना। वह वर्णन करती हैं "आधुनिक समय की पूर्णतावाद एक गंभीर मनोवैज्ञानिक पीड़ा के रूप में है जो लोगों को आवश्यक जोखिम लेने के लिए बहुत डरपोक बनाती है।" लेकिन मत्ती में अनुवादित शब्द "सिद्ध" का अर्थ वास्तव में परिपक्व, पूर्ण या संपूर्ण है। नॉरिस ने निष्कर्ष निकाला, “पूर्ण बनने के लिए . . . विकास के लिए जगह बनाना और इतना परिपक्व [बनना] है कि खुद को दूसरों को दे सके।”

पूर्णता को इस तरह से समझने से मत्ती 19 में बताई गई गहन कहानी को समझने में मदद मिलती है, जहां एक व्यक्ति ने यीशु से पूछा कि वह "अनन्त जीवन पाने" के लिए क्या अच्छा कर सकता है (पद 16)। यीशु ने उत्तर दिया, "आज्ञाओं को [मानो]" (पद 17)। उस आदमी ने सोचा कि वह उन सभी का पालन करता है, फिर भी वह जानता था कि कुछ कमी है। "मुझ में किस बात की घटी है?" (पद 20) उसने पूछा।

तभी यीशु ने उस आदमी के धन की पहचान उसके दिल को दबाने वाली पकड़ के रूप में की। उसने कहा कि यदि वह " सिद्ध होना" चाहता है─संपूर्ण, परमेश्वर के राज्य में दूसरों को देने और प्राप्त करने के लिए तैयार है─तो उसे उस चीज़ को छोड़ने के लिए तैयार होना चाहिए जो उसके हृदय को दूसरों से दूर कर रहा था (पद 21)।

हम में से प्रत्येक के पास सिद्धता का अपना संस्करण है─ऐसी संपत्ति या आदतें जिन्हें हम नियंत्रण में रहने के एक निरर्थक प्रयास के रूप में पकड़ते हैं। आज, यीशु के समर्पण के कोमल निमंत्रण को सुनें—और उस संपूर्णता में स्वतंत्रता पाएं जो केवल उसमें संभव है (पद 26)।

महान बुद्धि और एक हजार आंखें

चर्च के प्रिय पिता जॉन क्रिसोस्तम ने लिखा, कि हर कोण से आत्मा की स्थिति की जांच करने के लिए "चरवाहे को महान ज्ञान और एक हजार आंखों की आवश्यकता होती है" । क्रिसोस्तम ने इन शब्दों को आध्यात्मिक रूप से दूसरों की अच्छी देखभाल करने की जटिलता पर चर्चा के भाग के रूप में लिखा था। चूंकि किसी को ठीक करने के लिए मजबूर करना असंभव है, उन्होंने जोर दिया, दूसरों के दिलों तक पहुंचने के लिए बहुत सहानुभूति और करुणा की आवश्यकता होती है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि कभी दर्द न देना, क्रिसोस्तम ने चेतावनी दी, क्योंकि "यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ बहुत नरम व्यवहार करते हैं, जिसे गहन सर्जरी की आवश्यकता होती है, और जहाँ इसकी आवश्यकता होती है, उसमें गहरा चीरा नहीं लगाते हैं, तो आप काटते तो हैं लेकिन कैंसर को छोड़ देते हैं l लेकिन यदि आप दया के बिना आवश्यक चीरा लगाते हैं, तो रोगी अक्सर अपने कष्टों पर निराशा में, सब कुछ एक तरफ फेंक देता है। . . . और फौरन अपने आप को एक चट्टान पर फेंक देता है।”

एक समान जटिलता है कि कैसे यहूदा झूठे शिक्षकों द्वारा भटके हुए लोगों के प्रति प्रतिक्रिया का वर्णन करता है, जिनके व्यवहार का वह स्पष्ट रूप से वर्णन करता है (1:12–13, 18–19)। फिर भी जब यहूदा इस तरह की गंभीर धमकियों का जवाब देने की ओर मुड़ता है, तो वह कठोर क्रोध के साथ प्रतिक्रिया करने का सुझाव नहीं देता है।

इसके बजाय, उसने सिखाया कि विश्वासियों को स्वयं को परमेश्वर के प्रेम में और भी अधिक गहराई से स्थापित करने के द्वारा खतरों का जवाब देना चाहिए (पद 20-21)। क्योंकि केवल तभी जब हम परमेश्वर के अपरिवर्तनीय प्रेम में गहराई से बंधे होते हैं, तभी हम उचित तात्कालिकता, नम्रता और करुणा के साथ दूसरों की मदद करने के लिए ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं (पद 22-23)──जिस तरह से उन्हें उपचार और आराम खोजने में मदद करने की सबसे अधिक संभावना है ईश्वर का असीम प्रेम।

लैब्राडोर स्वर्गदूत

2019 में, कैप डैशवुड और उसका प्यारा काला लेब्राडोर प्राजाति का कुत्ता, शैला कुछ उल्लेखनीय काम किये : लगातार 365 दिनों तक हर दिन एक पर्वत शिखर पर पहुंचना । 

उसके पास बताने के लिए एक मार्मिक कहानी है । उसने सोलह साल की उम्र में घर छोड़ा, बस समझाते हुए, “बुरा पारिवारिक जीवन ।” लेकिन ये पिछले घाव उसे कहीं और चंगाई पाने के लिए ले गए । जानते हैं? इस खोजी के लिए, पर्वतारोहण और उसके काले लेब्राडोर का साथ उसकी “विशिष्ठ वस्तु” का एक बड़ा हिस्सा रहे हैं ।

हममें से उनके लिए, जैसे कि मैं, जो अपने पशु साथियों से बहुत प्यार करते हैं, हम जो करते हैं, उसका एक बड़ा हिस्सा सुखद, पूरी तरह से शर्तहीन प्यार है, जो वे प्रगट करते हैं──एक प्रकार का प्यार जो दुर्लभ है । लेकिन मैं विचार करना चाहती हूँ कि वे जिस प्यार को सहजता से देते हैं, वह दूसरों की असफलताओं  की तुलना में बहुत अधिक और गहरी वास्तविकता को इंगित करता है──ईश्वर की अटल, सृष्टि को थामे रखने वाला असीम प्यार । 

भजन 143 में, जैसा कि उसकी कई प्रार्थनाओं में है, उस अपरिवर्तनीय, “अमोघ प्रेम” (पद.12) में केवल दाऊद का विश्वास है जो उसे उस समय में आशा करने के लिए प्रेरित करता है जब वह पूरी तरह अकेला महसूस करता है । लेकिन ईश्वर के साथ चलने का एक जीवनकाल उसे विश्वास करने के लिए पर्याप्त ताकत देता है कि सुबह “[आपकी] करुणा के वचन मुझे [सुनाएगा]” (पद.8) । 

पुनः भरोसा करने के लिए बस पर्याप्त आशा और अज्ञात मार्गों पर परमेश्वर को अगुवाई करने दें (पद.8) । 

बात करें, भरोसा करें, अनुभव करें

फ्रेडरिक ब्युवचर ने अपने शक्तिशाली संस्मरण टेलिंग सीक्रेट्स(Telling Secrets) में कहा, “बात न करें, भरोसा न करें, अनुभव न करें ही वह नियम था जिसके अनुसार हम जीते थे, और उस पर श्राप जिसने उसे तोड़ा l” ब्युवचर अपने अनुभव का वर्णन कर रहे हैं जिसे वह कहते हैं,  “परिवारों का अलिखित नियम जो किसी न किसी कारण से अब सार्थक नहीं है l” उसके अपने परिवार में, उस “नियम” का मतलब था कि ब्युवचर को अपने पिता की आत्महत्या के विषय बात करना या उस पर शोक करने की अनुमति नहीं थी, जिससे वह अपने दुःख के साथ किसी पर भरोसा नहीं कर सकता था l 

क्या आप हमदर्दी प्रगट कर सकते हैं? हममें से कई लोग किसी न किसी तरीके से प्रेम के विकृत संस्करण के साथ जीना सीख लिए हैं, एक जो हमें नुक्सान पहुँचाया है के बारे में बेईमानी या चुप्पी की मांग करता है l इस तरह का “प्रेम’ नियंत्रण के लिए डर पर निर्भर होता  है──और एक तरह की गुलामी है l 

जिस तरह के सशर्त प्रेम का हम अक्सर अनुभव करते हैं, उससे अलग यीशु के प्यार के निमंत्रण को हम भूल नहीं सकते──एक तरह का प्यार जिससे हम हमेशा डरते हैं कि हम खो सकते हैं l जैसे कि पौलुस बताता है, मसीह के प्रेम के माध्यम से हम आखिरकार समझ सकते हैं कि डर में नहीं रहने का क्या मतलब है (रोमियों 8:15) और श्रेष्ठ स्वतंत्रता की तरह समझना शुरू कर देते हैं (पद.21) जो संभव है जब हम जानते हैं कि हम गहराई से, सही मायने में बिना शर्त प्यार किये जाते हैं l हम बात करने के लिए, भरोसा करने के लिए, और फिर महसूस करने के लिए स्वतंत्र हैं──यह जानने के लिए कि बेख़ौफ़ जीने का क्या मतलब है l 

होटल कोरोना

यरूशलेम में 2020 में द डैन होटल(The Dan Hotel) एक भिन्न नाम──”होटल कोरोना” नाम से जाना जाने लगा l सरकार ने इस होटल को कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले मरीजों के लिए समर्पित कर दिया, और वह होटल एक कठिन समय में आनंद और एकता का असाधारण स्थान बन गया l इसलिए कि वहां के आवासियों में वायरस मौजूद था, वे मिलकर गीत गाने, नाचने और हंसने के लिए स्वतंत्र थे l और उन्होंने ऐसा किया! एक देश जहाँ विभिन्न राजनैतिक और धार्मिक समूहों में तनाव ऊँचाई पर रहता है, साझा संकट ने ऐसा स्थान बनाया जहाँ लोग पहले एक दूसरे को मानव के रूप में देखना सीख सकते थे──और मित्र भी बन सकते थे l 

हमारे लिए उनकी ओर आकर्षित होना, जिन्हें हम अपने समान पाते हैं स्वाभाविक है, और सामान्य भी, लोग जिन्हें हम महसूस करते हैं कि वे हमारे समान अनुभव और मूल्यों का एहसास करते हैं l लेकिन जैसे कि प्रेरित पौलुस ने अक्सर बल दिया है, सुसमाचार मानवों के बीच किसी भी बाधा के लिए जिसे हम “सामान्य” के रूप में देखते हैं चुनौती है (2 कुरिन्थियों 5:15) l सुसमाचार की आँखों से, हम अपनी भिन्नताओं से परे एक बड़ी तस्वीर देखते हैं──साझा किया हुआ टूटापन और साझा की हुई  इच्छा और परमेश्वर के प्रेम में चंगाई को अनुभव करने की आवश्यकता l 

यदि हम विश्वास करते हैं कि “एक सब के लिए मरा,” तो हम दूसरों के विषय में सतह-स्तर की धारणाओं से भी संतुष्ट नहीं हो सकते l इसके बजाए, जिन्हें परमेश्वर हमारी कल्पना से अधिक प्रेम करता है──उनके साथ उसके प्रेम और मिशन/उद्देश्य को साझा करने के लिए हम सब को, “मसीह का प्रेम हमें विवश कर देता है” (पद.14) l 

भयमुक्त प्रेम

कुछ चित्र इतने शक्तिशाली होते हैं कि उन्हें कभी भुलाया नहीं जा सकता l यह मेरा अनुभव था जब मैंने वेल्स की दिवंगत राजकुमारी डायना की एक प्रसिद्द तस्वीर देखी l पहली नजर में, देखा  गया दृश्य नीरस लगता है : गर्मजोशी से मुस्कुराते हुए, राजकुमारी एक अज्ञात आदमी से हाथ मिला रही है l लेकिन यह तस्वीर की कहानी है जो इसे उल्लेखनीय बनाती है l 

19 अप्रैल, 1987 को, जब राजकुमारी डायना ने लन्दन मिडिलसेक्स अस्पताल का दौरा किया, यूनाइटेड किंगडम दहशत की लहर में घिरा हुआ था क्योंकि वह एड्स माहामारी का सामना कर रहा था l नहीं जानते हुए कि बिमारी──जो अक्सर भयावह गति से मार रही थी──कैसे फैलती थी, जनता ने कई बार एड्स पीड़ितों को सामाजिक रूप से अछूत की तरह माना l 

इसलिए यह एक आश्चर्यजनक क्षण था जब डायना, दास्तानों के बिना हाथों और स्वाभाविक मुस्कान के साथ, उस दिन एड्स रोगी के हाथ को धीरता से हिला रही थी l सम्मान और दयालुता की छवि दुनिया को बीमारी से ग्रस्त लोगों के साथ समान दया और करुणा के साथ व्यवहार करने के लिए प्रेरित करेगी l 

तस्वीर मुझे कुछ याद दिलाती है जिसे मैं अक्सर भूल जाता हूँ : स्वतंत्र रूप से और उदारता से दूसरों के लिए यीशु के प्यार की पेशकश करना इसके लायक है l यूहन्ना ने मसीह के आरंभिक विश्वासियों को याद दिलाया कि प्रेम को अपने भय के सामने मुरझाने या छिपने देना वास्तव में “मृत्यु की दशा में” रहना है (1 यूहन्ना 3:14) l और प्रेम जो स्वतंत्र और अभय है और पवित्र  आत्मा के स्व-बलिदानी प्रेम से सशक्त है, अपनी सम्पूर्णता में जीवन के पुनरुत्थान का अनुभव करना है (पद.14, 16) l