Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by शेरिडन योयता

कहानी अभी खत्म नहीं हुआ

जब ब्रिटिश नाटक लाइन ऑफ़ ड्यूटी का समापन हुआ, रिकॉर्ड संख्या ने देखा की संगठित अपराध के विरूद्ध उसकी लड़ाई कैसे खत्म होगी। लेकिन कई दर्शक तब निराश हुए थे जब समापन यह होता कि बुराई अंततः जीत जाएगी। एक प्रशंसक ने कहा "मैं चाहता था कि बुरे लोगों को न्याय मिले।" "हमें वह नैतिक अंत चाहिए था"

समाजशास्त्री पीटर बर्जर ने एक बार लिखा की हम आशा और न्याय के लिए भूखे हैं —आशा की एक दिन बुराई पर जित होगी और यह की जिन लोगों ने इसे किया, उन्हें उनके अपराधों का सामना करना पड़ेगा। एक दुनिया जहाँ हम जानते हैं कि दुनिया को कैसे काम करना चाहिए, बुरे लोग जित के उसके खिलाफ जाते हैं। इसे एहसास किये बिना की, वे निराश प्रशंसक दुनिया को फिर से ठीक का मानवता की गहरी लालसा व्यक्त कर रहे थे। 

प्रभु की प्रार्थना में, यीशु बुराई के बारे में वास्तविक हैं। यह न केवल हमारे मध्य मौजूद रहता, (12) क्षमा की आवश्यकता है। परन्तु बड़े पैमाने पर, छुटकारे की आवश्यकता है (13)। हालंकि, यह यर्थाथ, आशा के साथ मेल खाता है। एक जगह है जहाँ बुराई बास नहीं करता—स्वर्ग—और वह स्वर्गीय राज्य पृथ्वी पर आ रहा है (10)। एक दिन परमेश्वर का न्याय पूरा होगा, उसका "नैतिक अंत" आयेगा, और बुराई भलाई के लिए दूर किया जाएगा (प्रकाशितवाक्य 21:4)।

इसलिये जब वास्तविक जीवन में बुरे लोग जीतते और निराशा होता है, हम यह याद रखें: जब तक परमेश्वर की इच्छा “जैसे स्वर्ग में है पृथ्वी पर” पूरी न हो जाती हमेशा आशा है—क्योंकि कहानी अभी खत्म नहीं हुआ।

शरणस्थान ढूँढना

मेरी पत्नी और मैं एक बार बड़ी खिड़कियों और मोटी पत्थर की दीवारों वाले सुंदर पुराने समुद्र तटीय होटल में ठहरे थे। एक दोपहर, उस क्षेत्र से तूफान गुजरा, समुद्र को मथते और हमारे खिडकियों पर गुस्से की मुट्ठी की तरह एक दरवाजे पर मारते हुए। हम फिर भी शांति में थे। दीवारें इतनी मजबूत थी, और होटल का नींव इतना ठोस! जबकि बाहर तूफान गरज रहा था, हमारा कमरा एक शरणस्थान था।

खुद परमेश्वर के साथ शुरू करते हुए, शास्त्र में शरणस्थान एक महत्वपूर्ण विषय है। यशायाह परमेश्वर के बारे में कहता है “तब तू दरिद्रों के लिए उनकी शरण, और तपन में छाया का स्थान हुआ.”(यशायाह 25:4)। इसके अतिरिक्त, शरणस्थान एक ऐसी चीज़ है जो परमेश्वर के लोग थे और प्रदान करने के लिए हैं, चाहे इस्राएल के प्राचीन शरणस्थान के द्वारा (गिनती 35:6) या जरुरतमन्द “परदेशियों” को आतिथ्य प्रदान करने के द्वारा (व्यवस्थाविवरण 10:19)। वही व्यवस्थाएं हमें आज भी मार्गदर्शित कर सकता है जब मानवीय संकट हमारे दुनिया को प्रभावित करता है। हम प्रार्थना करते हैं  की शरणस्थान का परमेश्वर ऐसे समयों में हमारा, उसके लोगों का कमजोर लोगों को सुरक्षा खोजने में मदद करने के लिए इस्तेमाल करें।  

जो तूफान हमारे होटल में आया था अगले दिन सुबह, हमें एक शांत समुद्र और गर्म धूप जिसने गंगा-चिल्ली को चमकाया साथ छोड़कर चले गया, यह एक तस्वीर है जिसे मैं अपने पास रखते हुए उन लोगों के बारे में सोचता हूँ जो प्राकृतिक आपदाओं का सामना कर रहे या “निर्दयी” शासन महसूस कर रहे है (यशायाह 25:4): की वह शरणस्थान का परमेश्वर हमें उन्हें अभी और एक उज्जवल कल में सुरक्षा पाने में मदद करने के लिए सशक्त करेगा।

विवाह रूपक

बाईस साल साथ रहने के बाद, मुझे कभी-कभी आश्चर्य होता है कि मेरीन से मेरी शादी कैसे काम करती है। मैं एक लेखक हूँ; मेरिन एक सांख्यिकीविद् हैं। मैं शब्दों के साथ काम करता हूँ; वह अंकों के साथ काम करती है। मुझे सुंदरता चाहिए; वह फलन चाहती है। हम अलग-अलग दुनिया से आते हैं।

मेरीन नियुक्तियों के लिए जल्दी पहुंचती है; मुझे कभी-कभी देर हो जाती है। मैं मेनू पर नई चीज़े खाने की चेष्टा करता हूं; वह वही दोहराती है। एक आर्ट गैलरी में बीस मिनट के बाद, मैं अभी शुरुआत ही कर रहा होता हूँ, जबकि मेरीन पहले से ही कैफे में नीचे होती है और सोच रही होती है कि मैं और कितना समय लगाऊंगा। हम एक दूसरे को धैर्य सीखने के कई अवसर देते हैं!

हमारी कई बातें समान भी हैं - एक समान हास्यवृत्ति, यात्रा के लिए प्रेम, और एक आम विश्वास जो हमें विकल्पों के माध्यम से प्रार्थना करने और आवश्यकतानुसार समझौता करने में मदद करता है। इस साझा आधार के साथ, हमारे मतभेद भी हमारे लाभ के लिए काम करते हैं। मेरिन ने मुझे शांत रहना सीखने में मदद की है, जबकि मैंने उसे अनुशासन में बढ़ने में मदद की है। अपने मतभेदों के साथ काम करने से हम बेहतर इंसान बने हैं।

पौलुस कलीसिया के लिए एक रूपक के रूप में विवाह का उपयोग करता है (इफिसियों 5:21-33), और अच्छे कारण के साथ। विवाह की तरह, कलीसिया बहुत अलग लोगों को एक साथ लाती है, जिससे उन्हें नम्रता और धैर्य विकसित करने और "एक दूसरे के साथ प्रेम में रहने" (४:२) की आवश्यकता होती है। और, जैसा कि विवाह में होता है, विश्वास और परस्पर सेवा का एक साझा आधार एक कलीसिया को एकीकृत और परिपक्व बनने में मदद करता है (पद ११-१३)।

कलीसिया और विवाह में रिश्तों में मतभेद बड़ी निराशा पैदा कर सकते हैं। लेकिन अच्छी तरह से प्रबंधित, वे हमारे लाभ के लिए काम कर सकते हैं, हमें मसीह के समान बनने में मदद कर सकते हैं।

आप बढ़ने के लिए बुलाये गये हो

सी स्कवर्ट एक अजीब प्राणी है। यह चट्टानों और सीपों से चिपका हुआ पाया जाता है, यह एक नरम प्लास्टिक ट्यूब की तरह दिखता है जो पानी की धारा के साथ लहराती है। यह अपने पोषक तत्वों को बहते पानी से खींचता है, यह एक निष्क्रिय जीवन जीता है। सी स्कवर्ट एक टैडपोल के रूप में जीवन शुरू करती है जिसकी रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क बिल्कुल प्राथमिक होते हैं जो इसे भोजन खोजने और नुकसान से बचने में मदद करती है। एक किशोर के रूप में, यह अपने दिन समुद्र की खोज में बिताता है, लेकिन जब यह वयस्कता तक पहुंचता है तो कुछ होता है। अपनी चट्टान पर जमकर यह खोज करना और बढ़ना बंद कर देता है। और एक भयानक मोड़ आता है— यह अपने ही मस्तिष्क को पचाने लगता है।

बिना रीढ़ की हड्डी, विचारहीन, धारा के साथ निष्क्रिय प्रवाहित होना। प्रेरित पतरस हमें प्रोत्साहित करता है कि हम सी स्कवर्ट के भाग्य का अनुसरण न करें। चूँकि हमारे लिए परिपक्वता का अर्थ है परमेश्वर के स्वभाव को ग्रहण करना (2 पतरस 1:4)। आप और मैं मसीह के बारे में हमारे ज्ञान में मानसिक रूप से विकसित होने के लिए बुलाए गए हैं (2 पतरस 1:4); आध्यात्मिक रूप से अच्छाई, दृढ़ता और आत्म–नियंत्रण जैसे गुणों में (1:5–7); और व्यावहारिक रूप से हमारे वरदानों के माध्यम से प्रेम करने, आतिथ्य प्रदान करने, और दूसरों की सेवा करने के नए तरीकों की खोज करने के द्वारा (1 पतरस 4:7–11)। ऐसा विकास, पतरस कहता है, हमें अप्रभावी और अनुत्पादक (बेकार और निष्फल) जीवन जीने से रोकेगा (2 पतरस 1:8)

बढ़ने का यह आह्वान सत्तर वर्षीय के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि किशोर के लिए। परमेश्वर का स्वभाव समुद्र के समान विशाल है। हम मुश्किल से कुछ फीट तैर पाए हैं। उनके अंतहीन चरित्र की खोज करें, नए आत्मिक कार्य करें। अध्ययन करें, सेवा करें, जोखिम उठाएं। बढ़ें।

 

ईश्वरीय कोमलता

मैंने एक बार सुना कि एक व्यवसायी ने अपने कॉलेज के वर्षों को ऐसा बताया जब वह प्राय: अवसाद के कारण "असहाय और आशाहीन महसूस करते थे। दु:ख की बात है कि उन्होंने कभी भी इन भावनाओं के बारे में डॉक्टर से बात नहीं की, बल्कि इसके बजाय और अधिक कठोर योजनाएँ बनाना शुरू कर दिया - अपने स्थानीय पुस्तकालय से आत्महत्या पर एक किताब मंगवाना और अपनी जान लेने का दिन नियत करना।

परमेश्वर असहाय और आशाहीन लोगों की परवाह करते है। हम इसे इस प्रकार से देखते है जो आश्चर्यकर्म उसने बाइबिल के पात्रों के उनके अंधकारमय समय में किए। जब योना मरना चाहता था, तो परमेश्वर ने उसके साथ कोमलता से बातचीत करी। (योना 4:3-10)। जब एलिय्याह ने परमेश्वर से उसकी जान लेने के लिए कहा (1 राजा 19:4), परमेश्वर ने उसे तरोताजा करने के लिए रोटी और पानी प्रदान किया (पद 5-9), उससे धीरे से बात की (पद 11-13), और उसे यह देखने में मदद की कि वह उतना अकेला नहीं है जितना वह सोच रहा था (पद 18)। परमेश्वर टूटे हुए मन वालों के पास कोमलता और वास्तविक सहायता के साथ आता है।

जब आत्महत्या पर उसकी पुस्तक एकत्र करने के लिए तैयार थी पुस्तकालय ने छात्र को सूचित किया। लेकिन कुछ गड़बड़ी में, नोट उनके बजाय उनके माता-पिता के पते पर चला गया। जब उनकी माँ ने व्याकुल होकर उन्हें कॉल किया, तो उन्होंने महसूस किया कि उनकी आत्महत्या से कितनी तबाही होगी। उस पते में अगर गड़बड़ी न होती, वे कहते हैं, तो वे आज यहॉँ पर नहीं होते।

मुझे इस बात पर विश्वास नहीं कि छात्र भाग्य या संयोग से बचा था। चाहे वह रोटी और पानी हो जब हमें इसकी आवश्यकता हो, या समय पर गलत पता, जब रहस्यमय अंत:क्षेप (हस्तशेप} हमारे जीवन को बचाता है, तो यह बताता है कि यह ईश्वर के अद्भुत पवित्र प्रेम के कारण है। ।

उदारता और आनंद

शोधकर्ता हमें बताते हैं कि उदारता और आनंद के बीच एक कड़ी है: जो लोग अपना धन और समय दूसरों को देते हैं वे उन लोगों की तुलना में अधिक प्रसन्न रहते हैं जो ऐसा नहीं करते हैं। इसने एक मनोवैज्ञानिक को यह निष्कर्ष निकालने के लिए प्रेरित किया है, "चलो एक नैतिक दायित्व के रूप में देने के विषय में सोचना बंद करें, और इसे आनंद के स्रोत के रूप में सोचना आरंभ करें।"

जबकि देना हमें प्रसन्न कर सकता है, मेरा प्रश्न यह है कि क्या प्रसन्नता हमारे देने का लक्ष्य होना चाहिए। यदि हम केवल उन लोगों या कारणों के प्रति उदार हैं जिनसे हमें अच्छा महसूस होता हैं, तो इससे अधिक कठिन या सांसारिक जरूरतों के बारे में क्या जिन्हें हमारे सहारे की आवश्यकता है?

पवित्रशास्त्र भी उदारता को आनंद के साथ जोड़ता है, परन्तु एक अलग आधार पर। मंदिर के निर्माण के लिए अपना धन देने के बाद, राजा दाऊद ने इस्राएलियों को भी दान करने के लिए आमंत्रित किया (1 इतिहास 29:1-5)। लोगों ने उदारता से दिया, सोना, चाँदी और कीमती पत्थरों को खुशी-खुशी दे दिया (पद 6-8)। परन्तु ध्यान दें कि उनका आनंद क्या समाप्त हो गया था: "लोगों ने अपने अगुवों की स्वेच्छा से दी गई प्रतिक्रिया पर आनन्द किया, क्योंकि उन्होंने स्वतंत्र रूप से और पूरे मन से यहोवा को दिया था" (पद 9)। पवित्रशास्त्र हमें कभी भी इसलिए देने को नहीं कहता कि इसके द्वारा हम खुश होंगे परन्तु वह कहता है कि हमें स्वेच्छा और पुरे मन से देना चाहिए ताकि ज़रूरत पूरी हो सके। आनंद प्राय: पीछा करता है।

जैसा कि प्रचारक जानते हैं, प्रशासन की तुलना में सुसमाचार प्रचार के लिए धन जुटाना आसान हो सकता है क्योंकि यीशु में, विश्वासियों को अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता के रूप में धन जुटाना अच्छा महसूस करता है। आइए अन्य जरूरतों के प्रति भी उदार बनें। आखिरकार, यीशु ने हमारी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए स्वयं को स्वतंत्र रूप से दे दिया (2 कुरिन्थियों 8:9)।

अंत में

मुझे अक्सर आध्यात्मिक रीट्रीट का नेतृत्व करने का विशेषाधिकार दिया जाता है। प्रार्थना करने और चिंतन करने के लिए कुछ दिनों के लिए दूर जाना अत्याधिक समृद्ध हो सकता है, और कार्यक्रम के दौरान मैं कभी–कभी प्रतिभागियों से एक अभ्यास करने के लिए कहता हूं — “कल्पना कीजिए कि आपका जीवन समाप्त हो गया है और आपका मृत्युलेख अखबार में प्रकाशित हो गया है। आप इसमें क्या कहना चाहेंगे?” कुछ उपस्थित लोग अपने जीवन को अच्छी तरह से समाप्त करने का लक्ष्य रखते हुए अपने जीवन की प्राथमिकताओं को बदल देते हैं।

2 तीमुथियुस 4 में प्रेरित पौलुस के अंतिम ज्ञात लिखित शब्द हैं। यद्यपि शायद केवल साठ साल की आयु में, और हालांकि वह पहले मृत्यु का सामना कर चुका था, वह महसूस करता है कि उसका जीवन लगभग समाप्त हो गया है (2 तीमुथियुस 4:6)। अब और कोई मिशन यात्राएं नहीं होंगी या उनके चर्चों को पत्र लिखना नहीं होगा। वह पीछे मुड़कर अपने जीवन को देखता है और कहता है, “मैं अच्छी लड़ाई लड़ चुका हूं, मैं दौड़ पूरी कर चुका हूं, मैं ने विश्वास की रक्षा की है”  (पद 7)। जबकि वह सिद्ध नहीं रहा है, (1 तीमुथियुस 1:15–16) पौलुस अपने जीवन का मूल्यांकन इस बात पर करता है कि वह परमेश्वर और सुसमाचार के प्रति कितना सच्चा है। परंपरा से पता चलता है कि वह जल्द ही शहीद हो गए थे।

हमारे अंतिम दिनों पर चिंतन करने से यह स्पष्ट हो जाता है कि अब क्या मायने रखता है। पौलुस के शब्द अनुसरण करने के लिए एक अच्छा आदर्श हो सकते हैं। अच्छी लड़ाई लड़ें। दौड़ खत्म करो। भरोसा रखें। क्योंकि अंत में जो मायने रखता है वह यह है कि हम परमेश्वर और उसके तरीकों के प्रति सच्चे रहे हैं क्योंकि वह हमें जीने के लिए, जीवन की आध्यात्मिक लड़ाई लड़ने और अच्छी तरह से समाप्त करने के लिए सब कुछ प्रदान करता है।

 

दोबारा गाएँ

ऑस्ट्रेलिया का राज्य करने वाला हनीइटर पक्षी(honeyeater bird) मुश्किल में है─वह अपना गीत खो रहा है l हालांकि, किसी समय, यह प्रचुर प्रजाति थी, अब मात्र 300 पक्षी ही बचे हैं। और इतने कम लोगों से सीखने के लिए, नर अपने अद्वितीय गीत भूल रहे हैं और साथियों को आकर्षित करने में असफल हो रहे हैं l 

धन्यवाद हो कि संरक्षणकर्ताओं के पास इन पक्षियों को बचाने की एक योजना है कि वे उनके लिए गाएँ l या फिर और सटीक तौर पर, उनको दूसरे हनीइटर पक्षियों की रिकॉर्डिंग सुनाई जाए ताकि वे पुनः अपने हृदय का गीत गा सकें l जब नर पक्षी उस स्वर को याद करके पुनः मादा पक्षियों को आकर्षित करेंगे, यह आशा की जाती है कि प्रजाति पुनः संख्या में बढ़ेगी l 

भविष्यवक्ता सपन्याह समस्या में पड़े लोगों को संबोधित करता है l उनमें इतनी अधिक भ्रष्टता के साथ, उसने घोषणा की कि परमेश्वर का न्याय आ रहा था (सपन्याह 3:1-8) l जब बाद में  गिरफ्तारी और निर्वासन के रूप में ऐसा हुआ, वे लोग भी अपना गीत भूल गए (भजन संहिता 137:4) l परंतु सपन्याह ने न्याय के परे एक काल को पहले ही देखा जब परमेश्वर इन तबाह लोगों से मिलने आएगा, उनके पाप क्षमा करेगा, और उनके लिए गाएगा : “वह तेरे कारण आनंद से मगन होगा, वह अपने प्रेम के मारे चुपका रहेगा; फिर ऊंचे स्वर से गाता हुआ तेरे कारण मगन होगा” (सपन्याह 3:17)। जिसके परिणामस्वरूप, लोगों के हृदय में वह गीत पुनः जागृत होगा (पद.14)।

चाहे हमारी अनआज्ञाकारिता या जीवन की आजमाईशों के द्वारा, हम भी अपना हृदय गीत भूल सकते हैं l परंतु हमारे ऊपर एक आवाज निरंतर क्षमा और प्रेम के गीत गा रही है। आइए उस स्वर की मधुरता को सुने और उसके साथ गाएं।

नाचने के लिए खड़ा होना

व्यापक रूप से साझा किए गए वीडियो में, एक खूबसूरत बुजुर्ग महिला व्हीलचेयर पर बैठी है। कभी प्रसिद्ध बैले डांसर रहीं मार्था अब अल्जाइमर रोग से पीड़ित हैं। लेकिन कुछ जादुई होता है जब स्वान लेक(Swan Lake) नामक धुन बजता है। जैसे-जैसे संगीत बढ़ता है, उसके कमजोर हाथ धीरे-धीरे उठते हैं; और जैसे ही पहली तुरही बजती है, वह अपनी कुर्सी से प्रदर्शन करना शुरू कर देती है। यद्यपि उसका मन और शरीर नष्ट हो रहा है, उसकी प्रतिभा अभी भी है।

उस वीडियो पर विचार करते हुए, मेरे विचार 1 कुरिन्थियों 15 में पुनरुत्थान पर पौलुस की शिक्षा पर गए। हमारे शरीर की तुलना एक बीज से की गयी है जो एक पौधे में अंकुरित होने से पहले दफन होता है, वह कहता है कि यद्यपि हमारे शरीर उम्र या बीमारी से नाश हो सकते हैं, हो सकता है अनादर के साथ, निर्बलता के साथ, पर विश्वासियों के शरीर अविनाशी, महिमा और सामर्थ के साथ जी उठेंगे (पद. 42-44)। जिस तरह बीज और पौधे के बीच एक जैविक संबंध है, हम पुनरुत्थान के बाद "हम" होंगे, हमारे व्यक्तित्व और प्रतिभाएं बरकरार रहेंगी, लेकिन हम इस प्रकार विकसित होंगे जैसे पहले कभी नहीं हुए।

जब स्वान लेक की प्रेतवाधित धुन बजने लगी, तो मार्था पहले निराश दिखी, शायद यह बात उनके ध्यान में थी कि जो वह पहले करती थी अब वह वो नहीं कर सकती । लेकिन तभी एक आदमी उसके पास पहुंचा और उनका  हाथ पकड़ लिया। और ऐसा ही हमारे साथ भी होगा। तुरहियां फूकी जाएगी (पद. 52), एक हाथ बाहर निकलेगा, और हम नाचने के लिए उठेंगे जैसे पहले कभी नहीं हुआ।