हमारी प्रतिदिन की रोटी

स्वर्ग का लम्बा गीत

1936 में, गीत लेखक बिली हिल ने “द ग्लोरी ऑफ़ लव” नामक एक लोकप्रिय हिट गीत जारी किया l बहुत शीघ्र ही एक राष्ट्र एक दूसरे के लिए प्यार से छोटी चीजें करने की ख़ुशी के बारे में गा रहा था l पचास साल बाद, गीतकार पीटर कैटेरा ने एक समान शीर्षक के साथ एक और रोमांटिक गीत लिखा l उसने दो लोगों को हमेशा के लिए जीने की, साथ में जानने की कल्पना की, और उन्होंने सब कुछ प्रेम की महिमा के लिए किया l

प्रकाशितवाक्य, बाइबल की आखिरी पुस्तक, एक नया प्रेम गीत का वर्णन करती है जो किसी दिन स्वर्ग और पृथ्वी में सभी की आवाज़ में गाया जाएगा (प्रकाशितवाक्य 5:9,13) l संगीत, हालाँकि, शोक के एक छोटे सुर से शुरू होता है l लेखक यूहन्ना, संसार के साथ सबकुछ गलत होने के कारण उत्तर नहीं मिलने पर रोता है (पद.3-4) l किन्तु जब यूहन्ना को असली महिमा और प्रेम की कहानी के विषय पता चलता है उसका मन खुश हो जाता है और वह संगीत उत्कर्ष तक पहुँचता है (पद.12-13) l जल्द ही वह समस्त सृष्टि को शक्तिशाली यहूदा के सिंह-राजा की प्रशंसा करते हुए सुनता है (पद.5), जिसने हमें बचाने के लिए प्रेम से खुद को एक भेड़ के रूप में बलिदान करके अपनी प्रजा के हृदयों को जीत लिया है (पद.13) l

सबसे मार्मिक गीत जो कभी गाया गया है, हम इसीलिए गीत में दयालुता के सरल कार्यों को सुनते हैं l जो महिमा हम गाते हैं वह परमेश्वर के हृदय को प्रतिबिंबित करता है l हम उसके विषय गाते हैं क्योंकि उसने हमें एक गीत दिया है l  

“बच्चे की आशा” ट्री

सफ़ेद चमकने वाली बत्तियों से क्रिसमस ट्री को लपेटने के बाद, मैंने उसकी डालियों पर गुलाबी और नीले बो बाँध कर उसे “बच्चे की आशा” क्रिसमस ट्री नाम दिया l हम दोनों पति-पत्नि चार वर्षों से अधिक समय से एक बच्चे को गोद लेना चाह रहे थे l निश्चय ही क्रिसमस के समय तक!

प्रति भोर मैं उस ट्री के निकट खड़ी होकर प्रार्थना करती हुयी, खुद को परमेश्वर की विश्वासयोग्यता याद दिलाती थी l दिसम्बर 21 को हमें खबर मिली : क्रिसमस के समय तक कोई बच्चा नहीं l उजड़ा हुआ महसूस करते हुए, मैं ट्री के समक्ष ठहर गयी जो परमेश्वर के प्रावधान का चिन्ह बन गया था l क्या परमेश्वर अभी भी विश्वासयोग्य था? क्या मैं कोई गलती कर रही थी?

कभी-कभी परमेश्वर का प्रत्यक्ष रोकथान उसके प्रेममय अनुशासन का परिणाम है l दूसरे समयों में परमेश्वर का प्रेमी विलम्ब हमारे भरोसे को नूतन करने के लिए l विलापगीत में, यिर्मयाह नबी इस्राएल के लिए परमेश्वर के सुधार का वर्णन करता है l दर्द महसूस किया जा सकता है : “उसने अपने तीरों से मेरे हृदय को बेध दिया है” (3:13) l इन सब में भी, यिर्मयाह अपना अंतिम भरोसा परमेश्वर की विश्वासयोग्यता में दर्शाता है : “उसकी दया अमर है l प्रति भोर वह नई होती रहती है; तेरी सच्चाई महान् है” (पद.22-23) l

मैंने उस क्रिसमस ट्री को क्रिसमस के काफी बाद तक खड़ा रहने दिया और अपनी सुबह की प्रार्थना करती रही l अंत में, ईस्टर सप्ताहांत में, हमें अपनी बेटी प्राप्त हुयी l परमेश्वर सर्वदा विश्वासयोग्य है, यद्यपि ज़रूरी नहीं कि हमारे समय में न ही हमारी इच्छानुकूल l

मेरे बच्चे अब तीस वर्ष के ऊपर हैं, किन्तु प्रत्येक वर्ष मैं उस क्रिसमस ट्री का छोटा रूप सजाती हूँ, और खुद को और दूसरों को परमेश्वर की विश्वासयोग्यता याद दिलाती हूँ l

“रहस्य-नहीं” का रहस्य

एक सहयोगी ने मुझसे कुबूला कि उसकी सोच है कि वह “यीशु जैसा नहीं है l” उसके बताने पर मैंने ध्यान दिया जिसे वह अपना “आरामदायक, आत्मकेंद्रित” जीवन कहता था, और वह उसे किस प्रकार संतुष्ट नहीं कर पा रहा था l “किन्तु मेरी समस्या यह है, मैं अच्छा बनना चाहता हूँ, और चिंता करनेवाला भी, किन्तु बन नहीं पा रहा है l ऐसा महसूस होता है कि जो मैं करना चाहता हूँ, मैं कर नहीं पाता हूँ, और जो मैं नहीं करना चाहता हूँ, मैं करता रहता हूँ l”

उसने पूर्ण ईमानदारी के साथ मुझसे पूछा, “आपका रहस्य क्या है?” मैंने उत्तर दिया, “मेरा रहस्य है कि कोई रहस्य नहीं है l मैं तुम्हारी तरह परमेश्वर के मानक के अनुकूल जीने में सामर्थ्यहीन हूँ, इसलिए हमें यीशु की ज़रूरत है l”

मैंने बाइबल से “उसका” कथन दिखाया जैसे पौलुस ने रोमियों 7:15 में प्रगट किया है l पौलुस के निराशा के शब्द प्रायः जो मसीही थे और हैं की समझ में आती है जो खुद को परमेश्वर के लायक होने के लिए पर्याप्त होने का प्रयास करते हुए पाते हैं किन्तु कम पड़ते हैं l शायद आप भी समझते हैं l यदि हां, तो पौलुस की घोषणा कि मसीह हमारे उद्धार का कर्ता और उसके परिणामस्वरूप परिवर्तन है (7:25-8:2) आपको अवश्य ही रोमांचित करे l यीशु ने हमें खुद से घबराने वाली बातों से छुड़ाने के लिए पहले ही काम पूरा कर दिया है!

परमेश्वर और हमारे बीच की दीवार, पाप की दीवार, हमारे द्वारा किये गए किसी काम के विना हटा दी गयी है l उद्धार –और हमारे विकास की प्रक्रिया में पवित्र आत्मा द्वारा लाया गया परिवर्तन – यही वह है जो परमेश्वर सब के लिए चाहता है l वह हमारी आत्माओं के द्वार पर दस्तक देता है l उसके लिए दरवाजा खोलें l यह कोई रहस्य नहीं है कि वह उत्तर नहीं है!





हमारे साथ जुड़ें

हमारा पता:

Our Daily Bread India Foundation, Old No. 67/4, New No. 36, Spur Tank Road, Chetpet,Chennai, Tamil Nadu - 600 031

कॉल करे: M: [91] 950 003 7162 | P: [91] 44 2836 3734/43

ई-मेल भेजे: india@odb.org

लैक करे: www.facebook.com/OurDailyBreadHindi