Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by एमी बाउचर पाई

एक पुरानी कहानी के अनुसार, निकोलस नाम के एक व्यक्ति ने एक पिता के बारे में सुना जो इतना गरीब था कि वह अपनी तीन बेटियों को नहीं खिला सकता था, भविष्य में उनके विवाह के लिए नहीं के बराबर प्रबंध कर सकता था l उस पिता की सहायता करने की इच्छा से, लेकिन उसे गुप्त रखने की आशा से, निकोलस ने एक खुली खिड़की से सोने से भरी एक थैली फेंकी, जो एक मोज़े या जूती पर गिरी जो एक सिगड़ी पर सूखने के लिए रखी हुयी थी l वह व्यक्ति संत निकोलस के रूप में जाना गया जो आगे चलकर सांता क्लॉज़ के लिए प्रेरणा बन गया l

जब मैंने ऊपर से नीचे आने वाले एक उपहार की कहानी सुनी, तो मैंने परमेश्वर को पिता के रूप में देखा, जिसने प्रेम और करुणा से धरती पर सबसे महान उपहार, अपने बेटे को एक अद्भुत जन्म के द्वारा भेजा l मत्ती के सुसमाचार के अनुसार, यीशु ने पुराने नियम की नबूवत को पूरा किया कि एक कुँवारी गर्भवती होगी और एक पुत्र को जन्म देगी जिसे वे इम्मानुएल पुकारेंगे, अर्थात् “परमेश्वर हमारे साथ” (1:23) l

निकोलस का उपहार जितना प्यारा था, यीशु का उपहार उससे भी अधिक अद्भुत है l वह मनुष्य बनने के लिए स्वर्ग को छोड़ा, मर गया और पुनः जीवित हुआ, और परमेश्वर है जो हमारे साथ निवास करता है l वह हमें तब उत्साहित करता है जब हम निराश होते हैं; वह हमें सच्चाई बताता है जब हम धोखा खा सकते हैं l

तूफ़ान से आश्रय

जैसा कि कहानी में है, 1763 में, एक युवा सेवक, इंग्लैंड, सॉमरसेट में चट्टान के किनारे सड़क पर जाते समय, बिजली की कड़क, चमक और अत्यधिक बारिश से बचने के लिए एक गुफा में छिप गया l जब उसने उस शेडर घाटी के बाहर देखा, उसने परमेश्वर में आश्रय और शान्ति प्राप्त करने के उपहार पर विचार किया l वहां प्रतीक्षा करते हुए, उसने गीत लिखना शुरू किया, “अब्दी चट्टान मुझे(Rock of Ages),” जिसका आरंभिक स्मरणीय पंक्ति है : “अबदी चट्टान मुझे, उस दरार में छिपने दे l”

हम यह नहीं जानते हैं कि अगस्टस टॉपलेडी इस गीत को लिखते समय चट्टान की दरार में मूसा के अनुभव को प्राप्त किया या नहीं (निर्गमन 33:22), परन्तु शायद उसने किया l निर्गमन का वर्णन मूसा द्वारा परमेश्वर का आश्वासन खोजना और परमेश्वर का उत्तर बताता है l जब मूसा ने परमेश्वर से अपना प्रताप प्रगट करने को कहा, परमेश्वर ने यह जानते हुए दयालुता से उत्तर दिया, कि “मनुष्य मेरे मुख का दर्शन करके जीवित नहीं रह सकता” (पद.20) l उसने मूसा को चट्टान की दरार में छिपा दिया जब वह उसके सामने से निकला, और मूसा केवल उसकी पीठ देख सका l और मूसा जान गया कि परमेश्वर उसके साथ था l

हम भरोसा कर सकते हैं कि परमेश्वर ने मूसा से जो कहा था, “मैं आप तेरे साथ चलूँगा और तुझे विश्राम दूंगा” (पद.14), उसी प्रकार हम भी उसमें आश्रय पा सकते हैं l हम अपने जीवन में अनेक तूफानों का सामना करेंगे, जिस प्रकार मूसा और विलायती सेवक ने उस कहानी में किया, परन्तु जब हम उसे पुकारते हैं, वह हमें अपनी उपस्थिति की शांति देगा l

“वह मात्र कार्यालय था”?

मैं उत्तरी इंग्लैंड के लानकशायर में लहरदार, हरियाली से भरी पहाड़ियों को टकटकी नगाहों से देखती रही, पत्थरों के बाड़े जिनके अन्दर कुछ भेड़ पहाड़ियों पर चर रहीं थी l दीप्त आसमान में मोटे बादल उड़ रहे थे और मैंने उस नज़ारे का गहराई से आनंद लिया l जब मैंने रिट्रीट सेंटर की महिला कर्मी से इस खुबसूरत दृश्य के विषय चर्चा की जिसका मैं भ्रमण कर रही थी, उसने कहा, “आप जानती हैं, मैंने अतिथियों के बताने से पूर्व कभी भी यह ध्यान नहीं दिया l हम यहाँ पर वर्षों से रहते हैं; और जब हम किसान थे, यह मात्र कार्यालय था!”

हम सरलता से उस उपहार को खो सकते हैं जो ठीक हमारे सामना है, विशेषकर वह सुन्दरता जो हमारे दैनिक जीवनों का हिस्सा है l हम उन खुबसूरत तरीकों को भी आसानी से भुला सकते हैं जिसके द्वारा परमेश्वर प्रतिदिन हमारे अन्दर और हमारे चारों ओर कार्य करता है l परन्तु यीशु में विश्वासी परमेश्वर की आत्मा से अपनी आत्मिक आँखों को खोलने के लिए कह सकते हैं ताकि हम समझ सकें वह कैसे कार्य करता है, जिस प्रकार पौलुस ने इफिसियों के विश्वासियों को अपने पत्र में लिखा l पौलुस की यह हार्दिक इच्छा थी कि उनकी मन की आँखें ज्योतिर्मय हों कि वे परमेश्वर की आशा, प्रतिज्ञात भविष्य, और सामर्थ्य को जान लें (पद.18-19) l 

मसीह की आत्मा का परमेश्वर का उपहार हमारे अन्दर और हमारे द्वारा उसके कार्य के प्रति हमें जगा सकता है l उसके साथ, जो किसी समय “मात्र एक कार्यालय” दिखाई देता था उसकी ज्योति और महिमा को प्रदर्शित करने वाला एक स्थान के रूप में जाना जा सकता है l

दाखलता में

इम्मा ने बहुत उदास सर्दी के मौसम में परिवार के एक सदस्य की उसकी लम्बी बीमारी में सहायता की, और उसके बाद बसंत ऋतू के समय इंग्लैंड, कैंब्रिज में अपने घर के निकट मार्ग से बार-बार गुज़रते हुए एक चेरी के पेड़ से उत्साह प्राप्त किया l इस पेड़ में गुलाबी फूलों के ऊपर सफ़ेद फूल खिले हुए थे l एक बुद्धिमान माली ने सफ़ेद फूलों का एक कलम इस पेड़ में जोड़ दिया था l जब इम्मा इस असाधारण पेड़ के पास से गुजरी, उसने यीशु के शब्दों को याद किया कि वह दाखलता है और उसके अनुयायी डालियाँ हैं (यूहन्ना 15:1-8) l

खुद को दाखलता संबोधित करके, यीशु एक रूपक के विषय बात कर रहा था जिससे पुराना नियम में इस्राएली परिचित थे, क्योंकि वहां पर दाखलता परमेश्वर के लोगों का प्रतीक था (भजन 80:8-9; होशे 10:1) l यीशु ने इस प्रतीक को यह कहते हुए खुद तक बढ़ाया कि वह दाखलता है और उसके अनुयायी डालियों की नाई उसमें साटे गए हैं l और जब वे पोषण और ताकत प्राप्त करते हुए उसमें बने रहते हैं, वे फल लाएंगे (यूहना 15:5) l

अपने परिजन की सहायता करते हुए, इम्मा को स्मरण रखना था कि वह यीशु से जुडी हुयी है l गुलाबी फूलों के बीच सफ़ेद फूलों को देखकर उसे सत्य का दृश्य उत्साह मिला कि जब वह दाखलता में बनी हुयी है, वह उसके द्वारा पोषण प्राप्त करती है l

जब हम यीशु के विश्वासी दाखलता में एक डाली की तरह उसके निकट रहने को आत्मसात कर लेते हैं, हमारा विश्वास मजबूत और समृद्ध होता है l

जीवन परिवर्तन

स्टीफेन का पालन पोषण पूर्वी लंदन के एक अशिष्ट इलाके में हुआ था और वह दस वर्ष की उम्र से ही अपराध में फंस गया था l उसने कहा, “यदि सभी लोग नशीला पदार्थ बेचते हैं और डकैती और धोखेबाजी करते हैं, आप भी अवश्य उसमें लिप्त हो जाएंगे l” परन्तु बीस बर्ष की उम्र में, उसने एक स्वप्न देखा जिसने उसे बदल दिया : “मैंने परमेश्वर को कहते हुए सुना, स्टीफेन, तुम हत्या करने के कारण जेल जानेवाले हो l” यह सजीव स्वप्न एक चेतावनी थी, और वह परमेश्वर की ओर लौटकर यीशु मसीह को अपना उद्धारकर्ता ग्रहण कर लिया – और पवित्र आत्मा ने उसका जीवन रूपान्तरित कर दिया l

स्टीफेन ने एक संस्था स्थापित की जो स्पोर्ट्स के द्वारा शहर के सामजिक और आर्थिक रूप से समस्याग्रस्त बच्चों को अनुशासन, नैतिकता, और आदर सिखाती है l वह परमेश्वर को सफलता का श्रेय देते हुए जो उसने अपने जीवन में अनुभव किया है बच्चों के साथ प्रार्थना करता है और उनको प्रशिक्षित करता है l उसके अनुसार, “भटके हुए सपनों का पुनःनिर्माण l”

परमेश्वर के पीछे चलते हुए और अपने अतीत को पीछे छोड़ते हुए, हम – स्टीफेन की तरह – इफिसियों को दिए गए पौलुस के निर्देश का अनुसरण करते हैं कि जीवन के नये मार्ग पर चलो l यद्यपि हमारा पुराना मनुष्यत्व “जो भरमानेवाली आभिलाषाओं के अनुसार भ्रष्ट होता जाता है,” हम हर दिन “नए मनुष्यत्व को [पहिनने का प्रयास करते हैं] जो परमेश्वर के अनुरूप . . . सृजा गया है” (इफिसियों 4:22,24) l सभी विश्वासी परमेश्वर से उन्हें पवित्र आत्मा द्वारा और अधिक उसके समान बनाने का आग्रह करके इस निरंतर प्रक्रिया को ग्रहण करते हैं l

स्टीफेन ने कहा, “मेरे जीवन के पूर्ण परिवर्तन में विश्वास ही निर्णायक आधार था l” यह किस प्रकार आपके लिए सत्य रहा है?

परमेश्वर के लिए परिश्रम

जितनों की परवरिश विलियम कैरी (1761-1834) के साथ उस इंग्लिश गाँव में हुयी शायद वे सोचते थे कि वह अधिक उपलब्धि हासिल नहीं कर पाएगा, परन्तु आज उसे आधुनिक मिशंस का पिता कहा जाता है l जुलाहे माता-पिता से जन्मा, वह बहुत सफल शिक्षक या मोची नहीं बन सका, जब वह स्वयं यूनानी, इब्री, और लतीनी भाषा सीखा रहा था l अनेक वर्षों के बाद, उसने भारत में मिशनरी बनने के अपने सपने को पहचाना l परन्तु उसने अनेक वर्षों तक कठिनाईयों का सामना किया, जिसमें उसके बच्चे की मृत्यु हुयी, पत्नी मानसिक समस्याओं में रही और वह जिनके बीच में सेवा करता था उनसे कोई प्रतिउत्तर प्राप्त नहीं किया l

किस बात ने उसे कठिनाईयों के मध्य सेवा करने की उर्जा दी जब उसने पूरी बाइबल को छह और उसके कुछ हिस्सों को अन्य उन्तीस भाषाओं में अनुवाद किया l “मैं परिश्रम कर सकता हूँ,” उसने कहा l “मैं किसी भी निश्चित लक्ष्य/उद्य्यम में दृढ रह सकता हूँ l” हर तरह की प्ररिक्षाओं का सामना करते हुए उसने परमेश्वर की सेवा जारी रखी l

मसीह के प्रति यह निरंतर निष्ठा ही है जिसके विषय इब्रानियों का लेखक सलाह देता है l वह अपने पाठकों से जब वे परमेश्वर का आदर करने का प्रयास कर रहे हैं उनसे “आलसी [नहीं बनने] (इब्रानियों 6:12) का आह्वान करता है, परन्तु अंत तक पूरी आशा के लिए . . . प्रयत्न [करने को कहता है] (पद.11) l उसने उनको आश्वस्त किया कि परमेश्वर “तुम्हारे काम, और उस प्रेम को भूल [नहीं सकता है], . . .  जो तुम ने उसके नाम के लिए . . . दिखाया [है] (पद.10) l

विलियम कैरी के जीवन के अंतिम वर्षों में, उसने स्मरण किया कि किस प्रकार निरंतर परमेश्वर ने उसकी ज़रूरतों को पूरी किया l “वह कभी भी अपने वादे में चूका नहीं, इसलिए मैं भी उसकी सेवा में कभी विफल नहीं हूँगा l” परमेश्वर हमें भी प्रतिदिन उसकी सेवा करने में सामर्थी बनाए l

शांति कैसे मिलेगी?

“आप शांति के विषय क्या सोचते हैं?” साथ में दोपहर का भोजन खाते समय मेरे मित्र ने  पूछा l “शांति?” मैंने घबराकर उत्तर दिया l “मैं निश्चित नहीं हूँ – आप क्यों पूछ रहे हैं?” उसका उत्तर था, “अरे, जब तुम चर्च आराधना के समय अपने पैरों को हिला रही थी मैंने सोचा कि शायद तुम किसी बात के विषय क्षुब्ध थी l क्या तुमने उस शांति के विषय विचार किया है जो परमेश्वर अपने प्रेम करनेवालों को देता हैं?”

कुछ वर्ष पहले उस दिन, मुझे अपने मित्र के प्रश्न से ठेस पहुंचा था, किन्तु इससे मैं एक नयी यात्रा पर चल पड़ी l मैंने बाइबल में खोजना शुरू कर दिया कि किस प्रकार परमेश्वर के लोगों ने शांति और स्वास्थ्य के वरदान को, कठिनाई के समय भी गले लगाया है l जब मैंने कुलुस्सियों के नाम पौलुस की पत्री पढ़ी, मैंने प्रेरित के निर्देश को कि मसीह की शांति उनके हृदय में राज्य करे पर गहन चिंतन किया (कुलुस्सियों 3:15) l

पौलुस एक ऐसी कलीसिया को लिख रहा था जहाँ वह पहले कभी नहीं गया था किन्तु उनके विषय अपने मित्र इपफ्रास से सुना था l वह चिंतित था कि झूठी शिक्षा का सामाना करने के दौरान, वे मसीह की शांति को खो रहे थे l परन्तु उनको उलाहना देने के बजाए, पौलुस ने उनको मसीह में भरोसा करने के लिए उत्साहित किया, जो उन्हें निश्चितता और आशा दे सकता था (पद.15) l

हम सब ऐसे समयों का सामना करेंगे जब हम अपने हृदयों में मसीह की शांति के अधिकार का आलिंगन या उसका इनकार करने का चुनाव कर सकते हैं l जब हम यीशु को अपने अन्दर निवास करने के लिए उसकी ओर मुड़ते हैं, वह हमें कोमलता से चिंता और फ़िक्र से जो हमें दबाते हैं निकलेगा l जब हम उसकी शांति को खोजते हैं, हम भरोसा करते हैं कि वह अपने प्रेम के साथ हमसे पेश आएगा l

रस्सी खोलना

एक मसीही संस्था का उद्देश्य/मिशन क्षमा की चंगाई प्रकृति को बढ़ावा देना है l उनकी एक आकर्षक गतिविधि में एक लघु नाटिका शामिल है जिसमें हानि सहने और हानि पहुँचानेवाले को पीठ से पीठ लगाकर एक रस्सी से बांध दिया जाता है l जिसके विरुद्ध पाप किया गया है केवल वही रस्सी खोल सकता है l चाहे वह जो भी करे, कोई तो उसके पीठ पर है l क्षमा किये बिना – रस्सी खोले बिना – वह छुट नहीं सकता है l

किसी को क्षमा की पेशकश जो अपनी गलती के लिए खेद के साथ हमारे पास आता है हमारी और उनकी उस कड़वाहट और पीड़ा से निकलने की प्रक्रिया है जो हमारे द्वारा सहन की गयी गलातियों के लिए हमसे सख्ती से चिपक सकती है l उत्पत्ति में, हम याकूब द्वारा एसाव के पहिलौठे का अधिकार चुराने के बाद, दो भाइयों को बीस वर्षों तक एक दूसरे से अलग देखते हैं l इस लम्बे समय के बाद, परमेश्वर ने याकूब को अपनी जन्मभूमि लौटने को कहा (उत्पत्ति 31:3) l उसने आज्ञा मानी, परन्तु घबराहट के साथ, अपने आगे एसाव को भेंट स्वरुप पशुओं के झुंड भेजे (32:13-15) l जब भाई आपस में मिले, याकूब एसाव के पैरों पर गिरकर सात बार दण्डवत की (33:3) l उसके आश्चर्य की कल्पना करें जब एसाव दौड़कर उसे गले लगा लिया, और दोनों अपने मेल-मिलाप पर रो रहे थे (पद.4) l याकूब अब उस पाप से बिल्कुल छूट गया था जो उसने अपने भाई के विरुद्ध किया था l

क्या आप क्षमा न करने, क्रोध, भय, अथवा लज्जा के कैद में हैं? यह जान लें कि परमेश्वर अपने पुत्र और पवित्र आत्मा के द्वारा आपको छुटकारा दे सकता है जब आप उसकी सहायता मांगते हैं l वह किसी भी रस्सी को खोलने और आपको स्वतंत्र करने की प्रक्रिया आरंभ करने में आपको योग्य बनेगा l

“परमेश्वर ने मेरे जीवन को बचाया”

जब एरोन(उसका वास्तविक नाम नहीं) 15 वर्ष का था, वह शैतान से प्रार्थना करने लगा : “मुझे ऐसी अनुभूति हुयी वो और मैं साझेदार हैं l” एरोन ने झूठ, छोरी, और अपने परिवार और मित्रों के साथ हेर-फेर करना आरंभ कर दिया l उसने (शैतान) दू:स्वप्नों का भी अनुभव किया : “एक सुबह जागने पर पलंग की दूसरी ओर मैंने…