माह: जून 2022

परमेश्वर को मेरा काम सौपना

जिस पत्रिका के लिए मैं लिख रही थी, वह "महत्वपूर्ण" महसूस हुई, इसलिए मुझे उच्च पद के संपादक के लिए सर्वोत्तम संभव लेख प्रस्तुत करने के लिए संघर्ष करना पड़ा। उसके स्तर को पूरा करने का दबाव महसूस करते हुए, मैं अपने विचारों और कल्पनाओं को बार बार लिखती। लेकिन मेरी समस्या क्या थी? क्या यह मेरा चुनौतीपूर्ण शीर्षक था? या मेरी वास्तविक चिंता व्यक्तिगत थी: क्या संपादक मुझे स्वीकार करेगा न कि केवल मेरे शब्दों को?

हमारी नौकरी की चिंताओं के जवाब के लिए, पौलुस विश्वासयोग्य निर्देश देता है। कुलुस्सियों के चर्च को लिखे एक पत्र में, पौलुस ने विश्वासियों से आग्रह किया कि वे लोगों की स्वीकृति के लिए नहीं, बल्कि परमेश्वर के लिए कार्य करें। जैसा कि प्रेरित ने कहा, "जो कुछ तुम करते हो, तन मन से करो, यह समझकर कि मनुष्यों के लिये नहीं परन्‍तु प्रभु के लिये करते हो, क्‍योंकि तुम जानते हो कि तुम्हें इस के बदले प्रभु से मीरास मिलेगी: तुम प्रभु मसीह की सेवा करते हो” (कुलुस्सियों 3:23-24)।

पौलुस की समझ पर विचार करते हुए, हम अपने सांसारिक अधिकारियों की नज़र में अच्छा दिखने के लिए संघर्ष करना बंद कर सकते हैं। निश्चित रूप से, हम लोगों के रूप में उनका सम्मान करते हैं और उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास करते हैं। लेकिन यदि हम अपना कार्य "मानो प्रभु के लिए करते हो" — उससे हमारे कार्य का नेतृत्व करने और उसके लिए अभिषेक करने के लिए कहें — तो वह हमारे प्रयासों पर प्रकाश डालेगा। हमारा पुरुस्कार? हमारे काम का दबाव कम हो जाता है और हमारे काम पूरे हो जाते हैं। इससे भी अधिक, हम एक दिन उसे यह कहते हुए सुनेंगे, "शाबाश!"

पाप से दूर भागो

इस गर्मी में दो बार मुझे गाजर घास का प्रकोप झेलना पड़ा, दोनों बार ऐसा हुआ, मैं अपने यार्ड से अवांछित पौधों की वृद्धि को दूर करने का काम कर रहा था। और दोनों बार, मैंने पास में दुबके हुए, गन्दे, सफेद फूल वाले, दुश्‍मन को देखा। मुझे लगा कि इसके बिना मुझे प्रभावित किए मैं इसके करीब जा सकता हूं। जल्द ही, मुझे एहसास हुआ कि मैं गलत था। अपनी छोटी हरी बर्बादी के करीब जाने के बजाय, मुझे दूसरी तरफ दौड़ना चाहिए था!

पुराने नियम की कहानी में, हम देखते हैं जब युसुफ किस प्रकार जहरीली आईवी (वृक्ष लता) से भी बदतर चीज़ अर्थात पाप से किस प्रकार दूर भागा था। वह मिस्र के अधिकारी पोतीपर के घर में रह रहा था, जिसकी पत्नी ने उसे बहकाने की कोशिश की, यूसुफ ने उसके करीब जाने की कोशिश नहीं की - वह भाग गया।

हालाँकि उसने उस पर झूठा आरोप लगाया और उसे जेल में डाल दिया, पूरे प्रकरण में युसुफ शुद्ध रहा। और जैसा कि हम उत्पत्ति 39:21 में देखते हैं, "यहोवा उसके साथ था।"

परमेश्वर हमें उन गतिविधियों और परिस्थितियों से भागने में मदद कर सकता है जो हमें उससे दूर ले जा सकती हैं — जब पाप निकट हो तो दूसरे रास्ते पर चलने के लिए हमारा मार्गदर्शन करता है। 2 तीमुथियुस 2:22 में, पौलुस लिखता है, "बुरी अभिलाषाओं से दूर भागो।" और 1 कुरिन्थियों 6:18 में वह कहता है कि "व्यभिचार से दूर भागो।"

परमेश्वर की शक्ति में, हम उन चीजों से भागना चुने जो हमें नुकसान पहुंचा सकती हैं।

परमेश्वर के मित्रों का मित्र

जब दो व्यक्तियों को पता चलता है कि उनका एक मित्र उन दोनों का भी मित्र है, तो पहली मुलाक़ात ही बहुत सुहावनी हो जाती है। इसका सबसे विस्मरणीय रूप क्या हो सकता है, एक बड़े दिल वाला मेजबान एक अतिथि का स्वागत कुछ इस तरह से करता है, “आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा। विजय का या हिना का कोई भी मित्र मेरा मित्र है।"

यीशु ने कुछ ऐसा ही कहा। वह बहुतों को चंगा करके भीड़ को आकर्षित कर रहे थे। लेकिन स्थानीय धार्मिक अगुवे जिस तरह से मंदिर का व्यवसायीकरण करते और अपने प्रभाव का दुरुपयोग करते, उससे असहमत होने के कारण उनके दुश्मन भी बन रहे थे। बढ़ते हुए संघर्ष के बीच में, उन्होंने अपनी उपस्थिति के आनंद, मूल्य और आश्चर्य को बढ़ाने के लिए एक कदम उठाया। उन्होंने अपने शिष्यों को दूसरों को चंगा करने की क्षमता दी और उन्हें यह घोषणा करने के लिए भेजा कि परमेश्वर का राज्य निकट है। उसने चेलों को आश्वासन दिया: "जो कोई तुम्हारा स्वागत करता है, वह मेरा स्वागत करता है" (10:40), और बदले में, उनके पिता का स्वागत करता है जिसने उन्हें भी भेजा।

मित्रता के अधिक जीवन बदलने वाले प्रस्ताव की कल्पना करना कठिन है। जो कोई अपना घर खोलना चाहेगा, या यहां तक कि उसके चेलों में से एक को एक प्याला ठंडा पानी देगा, उसके लिए यीशु ने परमेश्वर के हृदय में एक स्थान का आश्वासन दिया है। जबकि वह बहुत पहले हुआ था, पर उसके वचन हमें याद दिलाते हैं कि दयालुता और आतिथ्य के बड़े और छोटे कार्यों में अभी भी परमेश्वर के मित्रों के मित्र के रूप में स्वागत पाने और स्वागत करने के तरीके हैं।

परमेश्वर के प्रावधान

भोजन की सेवा के ट्रक से किराने का सामान उतारने में मदद करने के लिए तीन वर्षीय बडडी और उसकी माँ प्रति सप्ताह चर्च जाते थे। जब बडडी ने अपनी माँ को अपनी दादी से यह कहते हुए सुना कि डिलीवरी ट्रक खराब हो गया है, तो उसने कहा, "अरे, नहीं। वे अब भोजन की सेवा कैसे करेंगे?” उसकी माँ ने समझाया कि चर्च को एक नया ट्रक खरीदने के लिए धन जुटाना होगा। बडडी मुस्कुराया। "मेरे पास पैसे हैं," उसने कमरे से बाहर निकलते हुए कहा। वह रंगीन स्टिकर से सजाए गए प्लास्टिक के गुल्लक के साथ लौटा जो सिक्कों से भरा हुआ था, जिसमें कीमत 38 डॉलर (लगभग 2500 रुपये) थी। हालाँकि बडडी के पास बहुत कुछ नहीं था, फिर भी परमेश्वर ने एक नया रेफ्रिजरेटेड (प्रशीतेत) ट्रक प्रदान करने के लिए उसके द्वारा दी गई की भेट को दूसरों के उपहारों के साथ जोड़ा, ताकि चर्च उनके समुदाय की सेवा करना जारी रख सके।

उदारतापूर्वक अर्पित की गई एक छोटी राशि हमेशा पर्याप्त से अधिक होती है जब इसे परमेश्वर के हाथों में रखा जाता है। 2 राजा 4 में, एक गरीब विधवा ने भविष्यद्वक्ता एलीशा से आर्थिक सहायता मांगी। उसने उसे उसके स्वयं के संसाधनों से वस्तुंए लेने, मदद के लिए अपने पड़ोसियों तक पहुंचने, फिर उसके निर्देशों का पालन करने के लिए कहा (पद 1-4)। प्रावधान के एक चमत्कारी दृश्य में, परमेश्वर ने विधवा के तेल की थोड़ी सी मात्रा का उपयोग उसके पड़ोसियों से एकत्र किए गए सभी घड़ों (पात्रों) को भरने के लिए किया (पद 5-6)। एलीशा ने उससे कहा, “तेल बेचो और अपना कर्ज चुकाओ। जो कुछ बचा है उस पर तू और तेरे पुत्र जीवित रह सकते हैं" (पद 7)।

जब हम उस पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो हमारे पास नहीं है, तो हम यह देखने से चूक जाते हैं कि हमारे पास जो कुछ है उसके साथ परमेश्वर क्या महान काम करते हैं।