Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by केनेथ पीटरसन

परमेश्वर की हस्तकला

 12 जुलाई, 2022 को, वैज्ञानिकों को नए जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप से सबसे गहरे अंतरिक्ष की पहली छवियों का इंतजार था। अत्याधुनिक दूरबीन ब्रह्मांड में उससे कहीं अधिक दूर तक देख सकती है जितना मानव जाति ने पहले कभी नहीं देखा। अचानक एक विस्मयकारी छवि उभरती है: कैरिना नेबुला का एक रंगीन अंतरिक्ष-परिदृश्य, ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया था। नासा के एक खगोलशास्त्री ने प्रसिद्ध नास्तिक कार्ल सागन के हवाले से कहा: "कहीं, कुछ अविश्वसनीय इंतज़ार कर रहा है।"

कभी-कभी लोग परमेश्वर की आँखों में देख सकते हैं और उन्हें नहीं देख सकते। लेकिन भजनहार दाऊद ने आकाश की ओर देखा और ठीक-ठीक जान लिया कि वह क्या देख रहा है: "तू ने अपनी महिमा स्वर्ग से भी ऊपर स्थापित की है" (भजन 8:1)। सागन यह कहने में सही थे कि "कुछ अविश्वसनीय इंतजार कर रहा है," लेकिन वह यह स्वीकार करने में विफल रहे जिसे दाऊद ने स्पष्ट रूप से समझ लिया था: "जब मैं आकाश को, जो तेरे हाथों के कार्य है, और चंद्रमा और तारागण को जो तूने नियुक्त किए है, देखता हूं, तो फिर मनुष्य क्या है कि तू स्मरण रखे, और आदमी क्या है कि तू उसकी सुधि ले ” (पद 3-4)।

जब हम सबसे गहरे अंतरिक्ष की तस्वीरें देखते हैं, तो हम आश्चर्यचकित हो जाते हैं, तकनीक के कारण नहीं, बल्कि इसलिए कि हम परमेश्वर की हस्तकला को देखते हैं। हम आश्चर्यचकित हैं क्योंकि सृष्टि की विशालता में, परमेश्वर ने हमें "[अपने] हाथों के कार्यों पर शासक" बनाया है (पद 6)। वास्तव में "कुछ अविश्वसनीय इंतज़ार कर रहा है" - परमेश्वर, इंतज़ार कर रहा है जो यीशु में विश्वासी है उन्हें उसके लौटने पर उसके पास लाने का। यह सभी में से सबसे विस्मयकारी तस्वीर है।

परमेश्वर के लिए जाने को तैयार

हिडन फिगर्स पुस्तक में जॉन ग्लेन की अंतरिक्ष में उड़ान की तैयारियों का वर्णन किया गया है। 1962 में कंप्यूटर एक नया आविष्कार था, जिसमें गड़बड़ियों की संभावना थी। ग्लेन को उन पर भरोसा नहीं था और वह लॉन्च के लिए गणनाओं को लेकर चिंतित थे। वह जानता था कि पीछे के कमरे में एक बुद्धिमान महिला अंकों की विशेषज्ञा थी। उसने उस पर भरोसा किया, "अगर वह कहती है कि संख्याएँ अच्छी हैं," ग्लेन ने कहा, "मैं जाने के लिए तैयार हूँ।"

कैथरीन जॉनसन एक शिक्षिका और तीन बच्चों की माँ थीं। वह यीशु से प्रेम करती थी और अपने चर्च में सेवा करती थी। परमेश्वर ने कैथरीन को एक अद्भुत दिमाग का आशीर्वाद दिया था। नासा ने 1950 के दशक के अंत में अंतरिक्ष कार्यक्रम में मदद के लिए उन्हें चुना। वह ग्लेन की "दिमागदार महिला" थी, जो उस समय उनके द्वारा काम पर रखे गए "मानव कंप्यूटर" में से एक थी।

हमें प्रतिभाशाली गणितज्ञ होने के लिए नहीं बुलाया जा सकता है, लेकिन परमेश्वर हमें अन्य चीजों के लिए बुलाते हैं: "हम में से प्रत्येक को मसीह के अनुसार अनुग्रह दिया गया है" (इफिसियों 4:7)। हमें "जिस बुलाहट से तुम बुलाये गए थे, उसके योग्य चाल चलना है" (पद 1)। हम एक शरीर का हिस्सा हैं, जिसमें "प्रत्येक अंग अपना काम करता है" (पद 16)।

कैथरीन जॉनसन की गणना ने पाठ्यक्रम प्रक्षेपवक्र की पुष्टि की। ग्लेन का कक्षा में प्रक्षेपण "सांड की आंख पर प्रहार"(बुल्स आई) जैसा था। लेकिन यह कैथरीन की बुलाहट में से सिर्फ एक थी। याद रखें, उन्हें एक माँ, शिक्षिका और चर्च कार्यकर्ता बनने के लिए भी बुलाया गया था। हम स्वयं से पूछ सकते हैं कि परमेश्वर ने हमें किस लिए बुलाया है, चाहे वह बड़ा हो या छोटा। क्या हम "जाने के लिए तैयार हैं", उसके द्वारा दिए गए अनुग्रह-उपहारों का उपयोग करते हुए, "[हमारे] बुलावे के योग्य जीवन" जी रहे हैं (पद 1)?

 

"मैं हूँ"

दर्शनशास्त्र और साहित्य के प्रोफेसर जैक का दिमाग बहुत तेज़ था। उन्होंने पंद्रह साल की उम्र में खुद को नास्तिक घोषित कर दिया था और युवा अवस्था में अपने "नास्तिक विश्वास" का दृढ़तापूर्वक समर्थन किया । मसीही मित्रों ने उन्हें समझाने का प्रयास किया। जैसा कि जैक ने कहा, "सभी लोग और सभी चीज़ें दूसरे पक्ष में शामिल हो गई थी।" लेकिन उन्हें यह स्वीकार करना पड़ा कि बाइबिल अन्य साहित्य और काल्पनिककथा (मिथकों) से अलग है। सुसमाचार के बारे में उन्होंने लिखा: "यदि कभी कोई मिथक तथ्य बन जाता, अवतार लेता, तो वह इसी तरह होता।" 

बाइबल का एक अंश जैक के लिए सबसे प्रभावशाली बन गया—निर्गमन 3। परमेश्वर इस्राएलियों को मिस्र से बाहर निकालने के लिए मूसा को बुला रहा था। मूसा ने परमेश्वर से पूछा, “मैं कौन हूं कि फिरौन के पास जाऊं?” (पद- 11)I परमेश्वर ने उत्तर दिया, “मैं जो हूँ सो हूँ” (पद- 14)। हालाँकि इस अंश में शब्दों और नामों पर जटिलता और अस्पष्टता दिखती है लेकिन यह शुरुआत से ही परमेश्वर की शाश्वत उपस्थिति को दर्शाता है। दिलचस्प बात यह है कि बाद में यीशु ने भी यही बात दोहराई जब उन्होंने कहा, "कि पहले इसके कि अब्राहम उत्पन्न हुआ, मैं हूँ!" (यूहन्ना 8:58)

जैक, जिसे सी.एस. लुईस के नाम से बेहतर जाना जाता है, इस अंश से गहराई से प्रभावित हुआ। यह वह सब था जो एक सच्चे परमेश्वर को कहने की आवश्यकता थी - बस यह कि वह "मैं हूँ।" जीवन बदलने वाले एक क्षण में, लुईस ने "हार मान ली और स्वीकार किया कि परमेश्वर ही परमेश्वर है।" यह लुईस के लिए यीशु को स्वीकार करने की यात्रा की शुरुआत थी। शायद हम विश्वास के साथ संघर्ष करते हैं, जैसा कि लुईस ने किया, या शायद “उदासीन” विश्वास के साथ। हम स्वयं से पूछ सकते हैं कि क्या परमेश्वर वास्तव में हमारे जीवन में "मैं हूँ" है।

यीशु का लहू

लाल रंग हमेशा हमारे द्वारा बनाई जाने वाली वस्तुओं में स्वाभाविक रूप से नहीं होता है l आप सेब के जिवंत रंग को टी-शर्ट या लिपस्टिक में कैसे डालते हैं? आरंभिक समय में, लाल रंग मिटटी या लाल चट्टानों से बनाया जाता था l 1400 के दशक में, एजटेक(Aztec)—मेक्सिको के मूल निवासी—ने लाल रंग बनाने के लिए कोकीनल कीड़ों(cochineal insects) का उपयोग करने का एक तरीका खोजा l आज, वही छोटे कीड़े संसार को लाल रंग की आपूर्ति करते हैं l 

बाइबल में, लाल रंग राज्याधिकार, और पाप और शर्म को भी दर्शाता है l इसके अलावा, यह लहू का रंग है l जब सैनिकों ने “[यीशु को] नग्न कर दिया और उस पर लाल रंग का वस्त्र डाल दिया” (मत्ती 27:28), तो ये तीन प्रतीक लाल रंग की एक हृदय विदारक छवि में विलीन हो गए : यीशु का संभावित शाही परिवार के रूप में उपहास किया गया, वह शर्म से ढंका हुआ, और खून के रंग में रंगा हुआ था जिसे वह जल्द ही बहाने वाला था l यशायाह के शब्द हमें लाल रंग से बचाने के लिए इस लाल यीशु के वादे की नबूवत करते हैं जो हमें दाग़ लगाते है : “तुम्हारे पाप चाहे लाल रंग के हों, तौभी वे हिम के समान उजले हो जाएंगे” (1:18) l 

उस लाल रंग के लिए उपयोग किए जाने वाले उन कोकीनल कीड़ों के बारे में एक और बात—वे वास्तव में बाहर से दुधिया सफ़ेद होते हैं l कुचले जाने पर ही वे अपना लाल रक्त छोड़ते हैं l वह छोटा सा तथ्य हमारे लिए यशायाह के अन्य शब्दों को प्रतिध्वनित करता है : “[यीशु] हमारे अधर्म के कामों के कारण कुचला गया” (यशायाह 53:5) l 

यीशु, जो पाप से अनजान था, हमें बचाने के लिए यहाँ है जो पाप से लाल हैं l आप देखिए, उसकी कुचली हुयी मृत्यु में, यीशु ने ढेर सारे लाल रंग सहे ताकि आप बर्फ की तरह सफ़ेद हो सकें l 

परमेश्वर के प्रति समर्पण

एक कृषिक्षेत्र में जन्मे जडसन वैन डिवेंटर ने पेंटिंग सीखा, कला का अध्ययन किया और एक कला शिक्षक बन गए l हलाकि, परमेश्वर की योजना अलग थी l दोस्तों ने चर्च में उनके काम को महत्व देकर उनसे मसीही धर्म प्रचारक बनने का आग्रह किया l जडसन को भी ईश्वर की बुलाहट महसूस हुयी, लेकिन कला सिखाने का प्रेम उनके लिए छोड़ना कठिन था l ईश्वर के साथ कुश्ती के बाद, उन्होंने लिखा, “आख़िरकार, निर्णायक समय आ गया, और मैंने सब कुछ समर्पित कर दिया l”

हम अब्राहम के दुःख की कल्पना नहीं कर सकते जब परमेश्वर ने उसे अपने बेटे इसहाक को समर्पित करने के लिए बुलाया l परमेश्वर की आज्ञा के मद्देनजर कि “वहां उसको . . . होमबलि करके [चढ़ाना],” (उत्पत्ति 22:2) हम अपने आप से पूछते हैं कि परमेश्वर हमें किस बहुमूल्य वस्तु को बलिदान करने के लिए बुला रहा है l हम जानते हैं कि उसने अंततः इसहाक को बचा लिया (पद.12), और फिर भी बात स्पष्ट है : अब्राहम उस चीज़ के समर्पण हेतु तैयार था जो उसके लिए सबसे कीमती थी l उसने सबसे कठिन बुलाहट के बीच भी परमेश्वर पर भरोसा किया l 

हम कहते हैं कि हम ईश्वर से प्रेम करते हैं, लेकिन क्या हम अपनी सबसे प्रिय चीज़ का त्याग करने को तैयार हैं? जडसन वैन डीवेंटर ने सुसमाचार प्रचार में परमेश्वर के आह्वान का पालन किया और प्रिय गीत “सब मैं देता हूँ(I Surrender All)” लिखा l समय के साथ, परमेश्वर ने जडसन को शिक्षण में वापस बुलाया l उनका एक छात्र बिली ग्राहम भी था l 

हमारे जीवन के लिए परमेश्वर की योजना में ऐसे उद्देश्य हैं जो हमारे लिए अकल्पनीय हैं l वह चाहता है कि हम अपनी सबसे प्रिय चीज़ समर्पित करने को तैयार रहें l ऐसा लगता है कि हम कम से कम इतना ही कर ही सकते हैं l आखिरकार, उसने हमारे लिए अपने एकलौते पुत्र को बलिदान दे दिया l 

क्षमा और भूलना

जिल प्राइस का जन्म हाइपरथिमेसिया(hyperthymesia) की स्थिति में हुआ था : जो कुछ भी उसके साथ कभी घटित हुआ उसे असाधारण विस्तार रूप से याद रखने की क्षमता। वह अपने मन में किसी भी घटना को जो उसने अपने जीवनकाल में अनुभव किया था उसे सटीक रीति से याद कर सकती थी।

 

टीवी शो अनफॉरगेटेबल(Unforgettable) हाइपरथिमेसिया से पीड़ित एक महिला पुलिस अधिकारी पर आधारित था—जिससे उसे सामान्य ज्ञान के खेल और अपराधों को सुलझाने में बहुत फायदा हुआ। हालाँकि, जिल प्राइस के लिए, स्थिति उतना मज़ेदार नहीं है। वह जिंदगी के उन पलों को नहीं भूल सकती जब उसकी आलोचना हुयी, हानि का अनुभव हुआ, या कुछ ऐसा की जिसका उसे गहरा पछतावा हुआ।वह उन दृश्यों को अपने दिमाग में बार-बार दोहराती है।

 

हमारा परमेश्वर सर्वज्ञानी है (संभवतः एक प्रकार का दिव्य हाइपरथिमेसिया) : बाइबल हमें बताती है कि उसके समझ की कोई सीमा नहीं है। और फिर भी हम यशायाह में एक अत्यंत आश्वस्त करने वाली बात पाते हैं : "मैं वही हूँ जो . . . तेरे अपराधों को मिटा देता हूँ और तेरे पापों को स्मरण न करूँगा। इब्रानियों की पुस्तक इसको पुष्ट करता है: “हम यीशु मसीह . . . के द्वारा पवित्र किए गए हैं . . . [और हमारे] . . . पापों को और . . . अधर्म के कामों को [परमेश्वर] फिर कभी स्मरण न [करेगा]” (इब्रानियों 10:10, 17)।

 

जब हम अपने पापों को परमेश्वर के सामने स्वीकार करते हैं, हम उन्हें अपने मन में बार-बार दोहराना बंद कर सकते हैं। हमें उन्हें भूलना चाहिए, जैसा वह करता है: “अब बीती हुई घटनाओं का स्मरण मत करो, न प्राचीनकाल की बातों पर मन लगाओ” (यशायाह 43:18) l अपने अपार प्रेम में, परमेश्वर हमारे विरुद्ध हमारे पापों को याद नहीं रखना चाहता। आइए इसे याद रखें।

राख के बदले सुंदरता

कोलोराडो के इतिहास की सबसे विनाशकारी आग, मार्शल फायर के बाद, एक सेवकाई(ministry) ने परिवारों को राख में से मूल्यवान वस्तुओं की खोज करने में मदद करने की पेशकश की। परिवार के सदस्यों ने उन बहुमूल्य वस्तुओं का उल्लेख किया जिनकी उन्हें आशा बहुत कम आशा थी कि वे अभी भी बची  हैं। एक आदमी ने बहुत प्यार से अपनी शादी की अंगूठी के बारे बताया। उसने इसे ऊपर के शयनकक्ष में अपने ड्रेसर पर रखा था। घर अब नष्ट हो चुका है, इसकी सामग्री जलकर या पिघलकर तहखाने के स्तर पर मलबे की एक परत में बदल गई है। खोजकर्ताओं ने उसी कोने में अंगूठी की तलाश की, जहां शयनकक्ष था - लेकिन सफलता नहीं मिली।

भविष्यवक्ता यशायाह ने शोकपूर्वक यरूशलेम के निकट आ रहे विनाश के बारे में लिखा, जिसे पूरी तरह से नष्ट कर दिया जायेगा। इसी तरह, कई बार हमें लगता है कि हमने जो जीवन बनाया था वह राख में तब्दील हो गया है। हमें लगता है कि हमारे पास भावनात्मक और आत्मिक रूप से कुछ भी नहीं बचा है। लेकिन यशायाह यह आशा प्रदान करता है कि उसे: “परमेश्वर ने खेदित मन के लोगों को शांति देने के लिए भेजा है” (यशायाह 61:1-2)। परमेश्वर हमारी त्रासदी को महिमा में बदल देते हैं और वादा करते है कि: "[वे] उनकी राख के बदले सुंदर पगड़ी बाँध देंगे" (पद- 3)। वे "बहुत काल के उजड़े हुए स्थानों को फिर बसाएंगे, पूर्वकाल से पड़े हुए खण्डहरों में वे फिर घर बनाएँगे" (पद- 4)।

उस मार्शल आग वाले स्थान पर, एक महिला ने विपरीत दिशा में राख में ढूंढना शुरू किया। और वहां, अभी भी डब्बे में पड़ी, अपने पति की शादी की अंगूठी को ढूँढ निकाला। आपकी निराशा में, परमेश्वर आपकी राख में पहुँचते हैं और एक सचमुच कीमती चीज़ को बाहर निकालते हैं: वह है आप!

भीतर से सर्वोत्तम रचना

लेखक आर्थर सी. ब्रुक्स अपनी किताब द अटलांटिक में, ताइवान में नेशनल पैलेस संग्रहालय की अपनी यात्रा के बारे में बताते हैं, जिसमें दुनिया में चीनी कला का सबसे बड़ा संग्रह है। संग्रहालय के गाइड ने पूछा, "जब मैं आपसे किसी कला के काम की कल्पना करने के लिए कहता हूं जो अभी शुरू नहीं हुआ है तो आप क्या सोचते हैं?" ब्रुक्स ने कहा, "मुझे लगता है, एक खाली कैनवास।" गाइड ने उत्तर दिया, "इसे देखने का एक और भी तरीका है: कला पहले से ही मौजूद है, और कलाकारों का काम बस इसे प्रकट करना होता है।"

इफिसियों 2:10 में, हस्तकला शब्द, जिसे कभी-कभी "कारीगरी" या " सर्वोत्तम रचना" के रूप में अनुवादित किया जाता है, ग्रीक शब्द पोइमा से है, जिससे हमें कविता (poetry) शब्द प्राप्त होता हैं। परमेश्वर ने हमें कला की कृतियों, जीवित कविताओं के रूप में बनाया है। हालाँकि, हमारी कला धूमिल हो गई है: "जहाँ तक तुम्हारी बात है, तुम अपने अपराधों और पापों में मरे हुए थे" (पद 1)। संग्रहालय के गाइड के शब्दों को संक्षेप में कहें तो, "[हमारी] कला पहले से ही मौजूद है, और इसे प्रकट करना दिव्य कलाकार का काम है।" वास्तव में, परमेश्वर हमें पुनर्स्थापित कर रहा हैं, हम उसकी सर्वोत्तम रचना है: "परमेश्वर ने, जो दया का धनी हैं, हमें जिलाया है" (पद- 4-5)।

जैसे-जैसे हम चुनौतियों और कठिनाइयों से गुजरते हैं, हमें यह जानकर आराम मिल सकता है कि दिव्य कलाकार काम कर रहा है: "क्योंकि परमेश्वर ही है जिसने अपनी सुइच्छा निमित्त तुम्हारे मन में इच्छा और काम, दोनों बातों के करने का प्रभाव डाला है" (फिलिप्पियों 2:13)। जान लें कि परमेश्वर अपनी सर्वोत्तम रचना को प्रकट करने के लिए आप में काम कर रहे हैं।

कम से कम होने की संभावना

हॉलीवुड हमें जीवन से भी बड़े जासूस देता है जो आकर्षक एस्टन–मार्टिंस और अन्य लक्जरी स्पोर्ट्स कारों के तेजतर्रार ड्राइवर हैं। लेकिन पूर्व सी आई ए प्रमुख (CIA Chief) जॉना मेंडेज़ वास्तविक चीज़ की इसके बिल्कुल उलट तस्वीर पेश करती हैं। वह कहती हैं, “एक एजेंट को सीधा सादा आम आदमी होना चाहिए, जिसका कोई खास विवरण न हो और जो बहुत आर्कषक न हो। आप चाहते हैं कि वे भूलने योग्य हों। सबसे अच्छे एजेंट वे होते हैं जिनके एजेंट की तरह दिखने की संभावना सबसे कम होती है।”

जब इस्राएल के दो जासूस यरीहो में घुसे, तो वह राहाब ही ने उन्हें राजा के सैनिकों से छिपा दिया (यहोशू 2:4)। ऐसा प्रतीत होता है कि वह परमेश्वर द्वारा जासूसी एजेंट के रूप में नियुक्त की जाने वाली सबसे कम संभावना वाली व्यक्ति थी, क्योंकि उसके खिलाफ तीन बातें थीं — वह एक कनानी थी, एक महिला थी, और एक वेश्या थी। फिर भी राहाब ने इस्राएलियों के परमेश्वर पर विश्वास करना शुरू कर दिया था, क्योंकि “तुम्हारा परमेश्वर यहोवा ऊपर के आकाश का परमेश्वर है” (पद 11)। उसने परमेश्वर के जासूसों को छत पर सन (flax) के नीचे छिपा दिया, और उनके बच निकलने में सहायता की। परमेश्वर ने उसके विश्वास का प्रतिफल दिया, और “यहोशू ने राहाब वेश्या और उसके पिता के घराने को, वरन उसके सब लोगों को जीवित छोड़ दिया” (6:25)।

कभी कभी हमें यह महसूस हो सकता है कि परमेश्वर द्वारा हमारा उपयोग किए जाने की संभावना सबसे कम है। शायद हमारी शारीरिक सीमाएँ हैं, हम नेतृत्व करने के लिए पर्याप्त आकर्षक नहीं हैं, या हमारा अतीत कलंकित है। लेकिन इतिहास परमेश्वर द्वारा छुड़ाए गए अस्पष्ट विश्वासियों से भरा है – राहाब जैसे लोग जिन्हें उसके राज्य के लिए एक विशेष मिशन (विशेष कार्य) दिया गया था। आश्वस्त रहें: हममें से सबसे कम संभावना वाले व्यक्ति के लिए भी उसके पास ईश्वरीय उद्देश्य हैं।