Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by माइक विटमर

यह अनुग्रह है

लेस मिजरेबल्स (एक ऐतिहासिक फ्रांसीसी उपन्यास) की शुरुआत कैद से छूटे हुए दोषी, जीन वलजेन के एक पुरोहित की चांदी चोरी करने से होती है। वह पकड़ा जाता है, और वह खदानों (खानों) में वापस जाने की उम्मीद करता है। लेकिन पुरोहित यह दावा करके सभी को चौंका देता है कि उसने वलजेन को चांदी दी थी। पुलिस के जाने के बाद, वह चोर की ओर मुड़ता है, "तुम अब बुराई के नहीं, बल्कि भलाई के हो।"

ऐसा असाधारण प्रेम उस प्रेम की ओर इशारा करता है जो उस झरने से बहता है जिससे सारा अनुग्रह आता है। पिन्तेकुस्त के दिन, पतरस ने अपने श्रोताओं से कहा कि दो महीने से भी कम समय पहले, उसी शहर में, उन्होंने यीशु को क्रूस पर चढ़ाया था। भीड़ का मन चूर-चूर हो गया और उसने पूछा कि उन्हें क्या करना चाहिए। पतरस ने उत्तर दिया, "मन फिराओ, और तुम में से हर एक अपने अपने पापों की क्षमा के लिए यीशु मसीह के नाम से बपतिस्मा ले" (प्रेरितों के काम 2:38)। यीशु ने वह दण्ड सहा था जिसके वे हकदार थे। अब यदि वे उस पर अपना विश्वास रखेंगे तो उनका दण्ड क्षमा किया जाएगा।

ओह, अनुग्रह  का विरोधाभास । लोगों को केवल मसीह की मृत्यु के कारण ही क्षमा किया जा सकता था—एक ऐसी मृत्यु जिसके लिए वे जिम्मेदार थे। परमेश्वर कितना दयालु और शक्तिशाली है! उसने हमारे उद्धार को पूरा करने के लिए मानवता के सबसे बड़े पाप का उपयोग किया है। यदि परमेश्वर ने पहले ही यीशु को सूली पर चढ़ाने के पाप के साथ ऐसा कर लिया है, तो हम मान सकते हैं कि ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे वह अच्छा नहीं कर सकता। उस पर भरोसा करें “जो उस से प्रेम रखते हैं, उनके लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न [ करता है]" (रोमियों 8:28)।

मौत से जीवन

कार्ल, कैंसर से जूझ रहे थे और उन्हें फेफड़े का डबल प्रत्यारेहण (lung transplant) की जरूरत थी। उसने प्रभु से नए फेफड़े मांगे लेकिन ऐसा करना अजीब लगा। उसने कबूल किया कि प्रार्थना करना एक अजीब बात है, क्योंकि "किसी को मरना होगा ताकि मैं जी सकूं।"

कार्ल की दुविधा पवित्रशास्त्र के एक बुनियादी सत्य पर प्रकाश डालती है : परमेश्वर जीवन को लाने के लिए मृत्यु का उपयोग करता है। हम इसे निर्गमन की कहानी में देखते हैं। गुलामी में जन्मे, इस्राएली मिस्रियों के सतावकारी हाथों के अधीन हो गए। फिरौन अपनी पकड़ को तब तक नहीं छोड़ता जब तक कि परमेश्वर ने इसे व्यक्तिगत नहीं बना देता। प्रत्येक ज्येष्ठ पुत्र मर जाता जब तक कि परिवार एक बेदाग मेमने को नहीं मारता और उसका लहू अपने दरवाजे की चौखट पर नहीं डालता (निर्गमन 12:6-7)।

आज हम और आप पाप के बंधन में पैदा हुए हैं। शैतान हम पर अपनी पकड़ तब तक नहीं छोड़ता जब तक कि परमेश्वर  इसे व्यक्तिगत नहीं बना देता, अपने सिद्ध पुत्र को क्रूस की लहू से लथपथ भुजाओं पर बलिदान करने तक l 

यीशु हमें वहाँ उसके साथ जुड़ने के लिए बुलाते हैं। पौलुस ने समझाया, "मैं मसीह के साथ क्रूस पर चढ़ाया गया हूं, और अब मैं जीवित न रहा, पर मसीह मुझ में जीवित है" (गलातियों 2:20)। जब हम अपने विश्वास को परमेश्वर के बेदाग मेमने में रखते हैं, तो हम प्रतिदिन उसके साथ मरने के लिए प्रतिबद्ध होते हैं—अपने पाप के लिए मरते हुए ताकि हम उसके साथ नए जीवन में जी सकें (रोमियों 6:4-5)। हर बार जब हम पाप की बेड़ियों को ना कहते हैं और मसीह की स्वतंत्रता के लिए हाँ कहते हैं तो हम इस विश्वास को व्यक्त करते हैं। जब हम यीशु के साथ मरते हैं तो हम उससे अधिक जीवित कभी नहीं होते।

वे कैसे जानेंगे

उत्तरी थाईलैंड में "द गैदरिंग" एक अंतरपंथीय, अंतर्राष्ट्रीय चर्च है। हाल ही के एक रविवार को, कोरिया, घाना, पाकिस्तान, चीन, बांग्लादेश, अमेरिका, फिलीपींस और अन्य देशों के यीशु में विश्वास करने वाले एक विनम्र, अत्यंत साधारण होटल सम्मेलन कक्ष में इकठ्ठा हुए l उन्होंने "इन क्राइस्ट अलोन(In Christ Alone)" और "आई एम ए चाइल्ड ऑफ गॉड(I Am a Child of God)" गीत गाए, जो उस माहोल में विशेष रूप से मार्मिक थे।

कोई भी लोगों को एक साथ नहीं लाता जैसे यीशु करता है। वह शुरू से करता आ रहा है। पहली सदी में, अन्ताकिया में अठारह अलग-अलग जातीय समूह थे, जिनमें से प्रत्येक, शहर के अपने हिस्से में रहते थे। जब विश्वासी पहली बार अन्ताकिया आए, तो उन्होंने यीशु के बारे में "केवल यहूदियों के बीच" प्रचार किया (प्रेरितों के काम 11:19)। हालाँकि, चर्च के लिए यह परमेश्वर की योजना नहीं थी। अन्य शीघ्र ही आ गए जो "यूनानियों [अन्यजातियों] से भी बातें करने लगे, और उन्हें प्रभु यीशु के बारे में खुशखबरी सुनाने लगे," और "बहुत से लोगों ने विश्वास किया और प्रभु की ओर फिरे" (पद 20-21)। शहर के लोगों ने देखा कि यीशु यहूदियों और यूनानियों के बीच सदियों से चली आ रही दुश्मनी को ठीक कर रहा था, और उन्होंने घोषणा की कि इस बहु-जातीय चर्च को “मसीही" या "छोटे मसीह" (पद 26) कहा जाना चाहिए।

हमारे लिए अलग-अलग लोगों को गले लगाने के लिए जातीय, सामाजिक और आर्थिक सीमाओं तक पहुंचना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। लेकिन यह कठिनाई हमारा अवसर है। यदि यह कठिन नहीं होता, तो हमें ऐसा करने के लिए यीशु की आवश्यकता नहीं होती। और कुछ लोग देखेंगे कि हम उसका अनुसरण कर रहे हैं।

एक साथ रहें

ड्यूबेरी बैपटिस्ट चर्च 1800 के दशक में मुर्गे की टांग पर विभाजित हो गया। कहानी के विभिन्न संस्करण मौजूद हैं, लेकिन एक मौजूदा सदस्य द्वारा बताया गया वर्णन यह था कि दो लोगों ने चर्च के एक सामुदायीक भोजन में आखिरी टुकड़े पर झगड़े थे l एक व्यक्ति ने कहा कि परमेश्वर चाहता है कि वह उसे प्राप्त करे। दूसरे ने उत्तर दिया कि परमेश्वर को परवाह नहीं है, और वास्तव में वह उसे चाहता था। वे लोग इतने उग्र हो गए कि एक झुंड, सड़क से दो किलोमीटर दूर चला गया और ड्यूबेरी बैपटिस्ट चर्च नंबर 2 शुरू कर दिया। शुक्र है, चर्चों ने अपने मतभेदों को सुलझा लिया है, और हर कोई मानता है कि उनके विभाजन का कारण हास्यास्पद था।

यीशु सहमत है। अपनी मृत्यु से एक रात पहले यीशु ने अपने अनुयायियों के लिए प्रार्थना की। हे पिता, वे “एक हो जाएं, जैसा तू मुझ में है और मैं तुझ में हूं।” हो सकता है कि वे "पूर्ण एकता में लाए जाएं। तब जगत जानेगा कि तू ने मुझे भेजा है" (यूहन्ना 17:21-23)।

पौलुस सहमत है। वह हमसे आग्रह करता है कि "मेल के बन्धन में आत्मा की एकता रखने का  यत्न करो। एक ही देह है और एक ही आत्मा” (इफिसियों 4:3-4), और इन्हें विभाजित नहीं किया जा सकता है।

हम जो हमारे पाप के लिए मसीह के टूटे हुए शरीर के लिए रोते हैं, हमें उनके शरीर, चर्च को अपने क्रोध, गपशप और गुटबाजी से नहीं फाड़ना चाहिए। चर्च विभाजन के घोटाले के दोषी होने की तुलना में खुद को गलत होने देना बेहतर है। दूसरे आदमी को मुर्गे की टांग──और कुछ मिठाई भी दें!

यीशु का एक सच्चा शिष्य

जब एक कला संग्राहक ने अपनी वैन गोग चित्रकारी (एक प्रसिद्ध पाश्चात्य चित्रकार) एक कला विशेषज्ञ को दिखाया, विशेषज्ञ ने उस पर एक नज़र डाली और कहा कि यह असली नहीं है । संग्राहक ने उसके बाद उस चित्रकारी को अपनी अटारी में छिपा दिया, जहाँ वह पचास वर्षों तक रखा रहा । उसकी मृत्यु के बाद, और अगले चार दशकों तक उस चित्रकारी का रह रह कर मूल्यांकन होता रहा । हर बार यह पक्का किया गया कि वह नकली था──2012 तक, जब तक कि एक विशेषज्ञ ने चित्रकारी फलक(canvas) के धागा विभाजन(thread separation) को गिनने के लिए कंप्यूटर का उपयोग नहीं किया । उसने पता लगाया कि यह एक ही कैनवास से वैन गोग के एक और चित्रकारी के रूप में काटा गया था । कला संग्राहक के पास वैन गोग का असली चित्रकारी था । 

क्या आप नकली की तरह अनुभव करते हैं? क्या आप डरते हैं कि यदि लोग आपको जाचेंगे, वह जान जाएंगे कि आप कितना कम प्रार्थना करते हैं, कितना कम देते हैं, और कितना कम सेवा करते हैं? क्या आप ताँक-झाँक करनेवाली आँखों से दूर, अटारी में छिपने के लिए प्रलोभित हैं?

अपने जीवन की रूप-रेखा, और रंग के नीचे, गहराई में देखें । यदि आप अपने मार्गों से मुड़ गए हैं और यीशु में विश्वास किये हैं, तब आप और वह एक ही कैनवास के हिस्से हैं । यीशु की तस्वीर का उपयोग करने पर, “मैं दाखलता हूँ : तुम डालियाँ हो” (यूहन्ना 15:5) । यीशु और आप सीवनहीन संपूर्णता बनते हैं । 

यीशु में विश्राम करना आपको उसका सच्चा शिष्य बनाता है । यह अपनी तस्वीर को सुधारने का भी केवल एक तरीका है । उसने कहा, “जो मुझे में बना रहता है और मैं उसमें, वह बहुत फल फलता है, क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते” (पद.5) । 

बुद्धिमान मसीही

कोरोनावायरस महामारी के परिणामस्वरूप संसार भर में स्कूल बंद हो गए l चीन में, शिक्षकों ने डिंगटॉक के साथ प्रत्युत्तर दिया, एक ऑनलाइन ऐप जिसने कक्षा को ऑनलाइन आयोजित करने में सक्षम बनाया l तब उनके विद्यार्थियों को पता लगाया कि अगर डिंगटॉक की रेटिंग बहुत कम हो जाती है, तो यह ऐप स्टोर से हटा दिया जा सकता है l रातों रात हज़ारों एक-स्टार समीक्षाओं ने डिंगटॉक के स्कोर को गिरा दिया l 

यीशु अपनी जिम्मेदारियों से किनारा करनेवाले विद्यार्थियों से प्रभावित नहीं होता, लेकिन वह उनकी सरलता की प्रशंसा कर सकता है l उसने एक बर्खास्त किये गए प्रबंधक के बारे में एक असामान्य कहानी बताई, जिसने अपने कार्य के अंतिम दिन अपने स्वामी के देनदारों के कर्ज कम कर दिये l यीशु ने प्रबंधक की बेईमानी की प्रशंसा नहीं की l इसके बजाय उसने उसकी चतुराई की प्रशंसा की और चाहा कि उसके अनुयायी भी उसी तरह चतुर बनें : “मैं तुम से कहता हूँ कि अधर्म के धन से अपने लिए मित्र बना लो, ताकि जब वह जाता रहे तो वे तुम्हें अनंत निवासों में ले लें” (लूका 16:9) l 

जब धन/पैसे की बात आती है, कई लोग यह देखते हैं कि वे कितना खो सकते हैं l बुद्धिमान लोग देखते हैं कि वे क्या उपयोग कर सकते हैं l यीशु कहता है कि दूसरों को देने से “मित्र [बनते हैं],” जो सुरक्षा और प्रभाव देते हैं l किसी समूह में अगुआ कौन है? जो भुगतान करता हैं l देने से “अनंत निवास” प्राप्त होता है क्योंकि अपने धन से अलग होना यीशु में हमारे भरोसे को दर्शा सकता है l 

अगर आपके पास धन/पैसा नहीं भी है, हमारे पास समय, प्रतिभा, या सुननेवाला एक कान है l आइये परमेश्वर से हमें बताने को कहें कि हम यीशु के लिए दूसरों की सेवा रचनात्मकता से कैसे कर सकते हैं l 

आपका नाम क्या है?

किसी ने कहा है हम अपने जीवन में तीन नाम से जाने जाते हैं : नाम जो हमारे माता-पिता हमें देते हैं, नाम जो दूसरे हमें देते हैं(हमारी ख्याति), और वह नाम जो हम खुद को देते हैं(हमारा चरित्र) l नाम जो दूसरे हमें देते हैं मायने रखता है, क्योंकि “बड़े धन से अच्छा नाम अधिक चाहते योग्य है, और सोने चांदी से दूसरों की प्रसन्नता उत्तम है” (नीतिवचन 22:1) l लेकिन जबकि ख्याति महत्वपूर्ण है, चरित्र अधिक मायने रखता है l 

एक और नाम है जो और भी अधिक महत्वपूर्ण है l यीशु ने पिरगमुन में मसीहियों से कहा कि यद्यपि उनकी ख्याति जिसके वे योग्य थे बुरी तरह से प्रभावित हुई थी, उसके पास उनके लिए जो लड़ाई लड़ेंगे और आजमाइश पर जय पाएँगे स्वर्ग में एक नया नाम आरक्षित है l “जो जय पाए . . . उसे एक श्वेत पत्थर . . . दूँगा; और उस पत्थर पर एक नाम लिखा हुआ होगा, जिसे उसके पानेवाले के सिवाय और कोई न जानेगा” (प्रकाशितवाक्य 2:17) l 

हम निश्चित नहीं हैं कि यीशु ने एक सफ़ेद पत्थर का वादा क्यों किया? क्या यह जीतने का पुरस्कार है? मसीह के सम्बन्ध में(messianic) जेवनार में शामिल होने का निमंत्रण? शायद यह उसके समान है जो किसी समय जूरी-सदस्य(पंच) रिहाई के लिए समर्थन करते थे l हम नहीं जानते हैं l जो भी है, परमेश्वर वादा करता है कि हमारा नया नाम हमारे शर्म को मिटा देगा (यशायाह 62:1-5) l 

हमारी ख्याति तार-तार हो सकती है, और हमारा चरित्र दुरुस्त नहीं होता प्रतीत हो सकता है l लेकिन आख़िरकार कोई भी नाम हमें परिभाषित नहीं करता है l यह नहीं है कि दूसरे आपको किस नाम से पुकारते हैं न ही यह मायने रखता है कि आप खुद को क्या पुकारते हैं l आप वह हैं जो यीशु आपको संबोधित करता है l अपने नए नाम में जीयें l 

यीशु में अटूट

लूई जैम्पेरिनी का सैन्य विमान युद्ध के दौरान समुद्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें आठ लोगों की मृत्यु हो गयी l “लूई” और दो अन्य लोग जीवन बेड़ा पर कठिनाई से चढ़ने में सफल रहे l दो महीने तक समुद्र में इधर उधर  बहते रहे, शार्कों से बचते रहे, तूफानों को पार करने की कोशिश करते रहे, शत्रु की गोलियों से बचते रहे, और कच्ची मछली और चिड़ियों को पकड़कर खाते रहे l अंततः वे बहकर एक द्वीप पर पहुँच गए और तुरंत गिरफ्तार कर लिए गए l दो वर्षों तक लूई को पीटा गया, प्रताड़ित किया गया और उसने युद्ध बंदी के रूप में निर्दयता से काम किया l उसकी असाधारण कहानी अन्ब्रोकन(Unbroken) पुस्तक में बताई गई  है l

यिर्मयाह बाइबल अटूट चरित्रों में से एक है l उसने शत्रु के षड्यंत्रों को सहा (यिर्मयाह 11:18), उसे कोड़े मारे गए और काठ में जकड़ दिया गया (20:2), उसे पीटा गया और काल कोठरी में डाल दिया गया (37:15-16), और उसे एक दलदल वाले गड़हे में रस्सियों से उतार दिया गया (38:6) l वह इसलिए बच गया क्योंकि परमेश्वर ने उसके साथ रहने और उसे बचाने का वादा किया था (1:8) l परमेश्वर हमारे साथ भी समान वादा करता है : “मैं तुझे कभी न छोडूंगा, और न कभी तुझे त्यागूँगा” (इब्रानियों 13:5) l परमेश्वर ने यिर्मयाह को या हम को परेशानी से बचाने की प्रतिज्ञा नहीं की है, लेकिन उसने परेशानियों में से होकर ले जाने की प्रतिज्ञा की है l  

लूई ने परमेश्वर की सुरक्षा को पहचाना, और युद्ध के बाद अपना जीवन यीशु को दे दिया l उसने उसे कैद करनेवालों को क्षमा कर दिया और कुछ को मसीह के लिए जीत लिया l लूई ने समझ लिया कि यद्यपि हम समस्याओं से भाग नहीं सकते, मुझे उन्हें अकेले सहने की ज़रूरत नहीं है l जब हम यीशु के साथ उनका सामना करते हैं, हम अटूट हो जाते हैं l 

अपने शत्रु से प्रेम

इससे पहले कि वह मुझे देखे, मैं कमरे में निकल गया l मैं छिपने के लिए शर्मिंदा था, लेकिन मैं उसके साथ उस समय पेश नहीं आना चाहता था──या किसी भी समय l मैं उसे डांटना चाहता था, और उसे उसकी औकात बताना चाहता था l यद्यपि मैं उसके अतीत से चिढ़ गया था, यह भी संभव है कि मैंने उसे और अधिक परेशान किया हो! 

यहूदी और सामरी भी आपसी रिश्ते को खराब किया था l मिश्रित मूल के लोग और अपने अपने ईश्वरों की उपासना करने वाले होने के कारण, सामरियों ने──यहूदियों की दृष्टि में──गरिज्जीम पर्वत पर एक प्रतिद्वंदी धर्म आरम्भ करके यहूदी वंशावली और विश्वास को बिगाड़ दिया था (यूहन्ना 4:20) l वास्तव में, यहूदी इतना अधिक सामरियों को तुच्छ जानते थे कि वे अपने देश के अन्दर से सीधे मार्ग लेने के बजाय घूमकर लम्बा रास्ता तय करते थे l   

यीशु ने एक बेहतर मार्ग बताया l वह सभी लोगों के लिए उद्धार लेकर आया, जिसमें सामरी लोग भी शामिल थे l इसलिए वह पापी स्त्री और उसके नगर को जीवन जल देने के लिए सामरिया के बीच में से होकर गया (पद.4-42) l उसके शिष्यों के लिए उसके अंतिम शब्द उसके नमूना का अनुसरण करना था l उन्हें उसका सुसमाचार यरूशलेम से आरंभ करके और सामरिया में फैलते हुए जब तक वे “पृथ्वी के छोर तक” न पहुँच जाएँ तब तक सभी के साथ साझा करना था (प्रेरितों 1:8) l सामरिया अगले भुगौलिक दृश्य से कहीं अधिक था l वह मिशन/उद्देश्य का सबसे पीड़ादायक भाग था l शिष्यों को उन लोगों से प्रेम करने के लिए पूर्वाग्रह के जीवनकालों को दूर करना था, जिन्हें वे पसन्द नहीं करते थे l 

क्या यीशु हमारी शिकायतों से अधिक हमारे लिए मायने रखता है? सुनिश्चित करने का केवल एक ही तरीका है l अपने “सामरी” से प्यार करें l