Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by पो फैंग चिया

मेल खाना

ली (Lee) एक मेहनती और विश्वसनीय बैंक कर्मचारी है। विश्वासी होने के नाते वे दूसरों से अलग हैं और यह प्रत्यक्ष हो जाता है, जैसे किसी अनुचित बात पर उसका कमरे से निकल जाना। मित्रों से साझा करते हुए उसने कहा "डर है कि मेल ना खाने के कारण मैं उन्नति के अवसर गवा रहा हूं।"

भविष्यवक्ता मलाकी के समय में विश्वासियों ने एक ऐसी ही चुनौती का सामना किया था। वे देश निकाले से लौट कर आए थे और मंदिर का पुनर्निर्माण हो गया था, परन्तु परमेश्वर की भविष्य की योजना पर उन्हें संशय था। कुछ इस्राएली कह रहे थे, "परमेश्वर की सेवा करनी व्यर्थ है...(मलाकी 3:14-15)।

एक ऐसे समाज में परमेश्वर के लिए हम कैसे दृढ़ खड़े हों, जो हमें बताता है कि हम क्या खो देंगे यदि इससे मेल ना खाएं? मलाकी के समय में इस चुनौती का सामना विश्वासयोगी लोगों ने एक मन विश्वासियों के साथ मिलकर एक-दूसरे को प्रोत्साहित करके किया। मलाकी कहते हैं तब यहोवा का भय मानने वालों ने आपस में बातें की...”(16)।

परमेश्वर को उन सभी का ध्यान और परवाह है जो उनका भय और आदर मानते हैं। उन्होंने हमें मेल खाने के लिए नहीं बुलाया है। परन्तु इसलिए कि हम एक-दूसरे को प्रोत्साहित करें जिससे वे हमें अपने और निकट लाएं।

धन्यवादी दैनिकी

जब मैं यीशु में नयी विश्वासिनी थी, एक आत्मिक सलाहकार ने मुझ से धन्यवादी दैनिकी रखने को कहा l एक छोटा नोटबुक जिसे मैं अपने साथ हर जगह ले जाती थी l कभी-कभी मैं धन्यवाद की बात को तुरंत लिख लेती थी l अन्य समयों में, मैं सप्ताह के अंत में मनन के समय के बाद उसे लिखती थी l

प्रशंसा की बातों पर ध्यान देना एक अच्छी बात है, जो मैं अपने जीवन में फिर से स्थापित करना चाहती हूँ l यह मुझे परमेश्वर की उपस्थिति और उसके प्रावधान और देखभाल के लिए सचेत रहने में मदद करेगा l

सबसे छोटे भजन, भजन 117 में, लेखक सभी को प्रभु की प्रशंसा करने के लिए उत्साहित करता है क्योंकि “उसकी करुणा हमारे ऊपर प्रबल हुई है” (पद.2) l

इसके विषय सोचे : प्रभु ने आपसे आज, इस सप्ताह, इस महीना, और इस साल किस तरह प्रेम किया है? असाथारण की आशा न करें l उसका प्रेम साधारण, जीवन की दैनिक स्थितियों में दिखाई देता है l उसके बाद अनुभव करें कि आपके परिवार के प्रति, आपकी कलीसिया, और दूसरों के प्रति उसका प्रेम कैसे प्रगट हुआ है l हम सब के प्रति उसके प्रेम के विस्तार में डूब जाएं l

भजन यह भी कहता है कि “यहोवा की सच्चाई सदा की है”(पद.2 में ज़ोर दिया गया है) l अर्थात् वह हमेशा हमसे प्रेम करता रहेगा! इसलिए हम भविष्य में भी अनेक बातों के लिए परमेश्वर का धन्यवाद करते रहेंगे l उसके प्रिय बच्चों की तरह परमेश्वर की स्तुति करना और धन्यवाद देना ही हमारे जीवन का चरित्र हो!

मैकफेरसन गार्डन्स में क्रिसमस

हमारे पड़ोस, मैकफेरसन गार्डन्स, ब्लाक 72 (सिंगापुर) के क्षेत्र में लगभग 230 परिवार और व्यक्ति निवास करते हैं l हर एक के जीवन की अपनी कहानी है l दसवीं मंजिल पर एक बूढ़ी महिला रहती है जिसके बच्चे बड़े हो चुके हैं और विवाह करके अपने-अपने परिवार के साथ अलग रहने लगे हैं l यह महिला अकेले रहती है l उनके घर से दो एक घर छोड़कर एक युवा जोड़ा अपने दो छोटे बच्चों, एक बेटा और एक बेटी के साथ रहता है l और कुछ मंजिल नीचे एक युवा रहता है जो फ़ौज में नौकरी करता है l वह पहले चर्च भी जा चूका है; शायद वह क्रिसमस में भी चर्च जाए l इन लोगों से मेरी मुलाकात पिछले क्रिसमस के दिनों में हुई थी जब हम पड़ोसियों के घरों में क्रिसमस के गीत द्वारा क्रिसमस का आनंद बांटने गए थे l

जैसे कि प्रथम क्रिसमस में स्थिति थी आज भी प्रत्येक क्रिसमस के मौसम में ऐसे लोग हैं जो नहीं जानते कि परमेश्वर एक बालक के रूप में जिसका नाम यीशु है इस संसार में प्रवेश किया था (लूका 1:68; 2:21) l अथवा वे उस घटना का महत्त्व नहीं जानते हैं अर्थात् वह “बड़े आनंद का समाचार . . . जो सब लोगों के लिए होगा” (2:10) l जी हाँ, सब लोगों के लिए! हमारी राष्ट्रीयता, संस्कृति, लिंग, अथवा आर्थिक दशा से परे, यीशु हमारे लिए बलिदान होने और हमें पूर्ण क्षमा देने आया ताकि हमारा मेल उससे हो जाए और हम उसके प्रेम, आनंद, शांति, और आशा का आनंद ले सकें l सभी लोगों को यह अद्भुत समाचार सुनना ज़रूरी है जिसमें वह बूढ़ी महिला और वे सब सहयोगी शामिल हैं जिनके साथ हम भोजन करते हैं!

पहले क्रिसमस में, आनंद के समाचार को सुननेवाले स्वर्गदूत थे l आज, परमेश्वर की इच्छा है कि हम दूसरों को सुसमाचार सुनाएं l

बोलने से पहले विचार करें

चुअंग अपनी पत्नी से नाराज़ हो गया क्योंकि वह उस रेस्टोरेंट का मार्ग भूल गयी थी जिसमें वे भोजन करना चाहते थे l घर लौटने के लिए हवाई जहाज पकड़ने से पूर्व वे परिवार के रूप में अपनी छुट्टियों का समापन जापान में एक शानदार भोजन पार्टी के साथ करना चाहते थे l अब देर हो रही थी और भोजन करना मुश्किल लग रहा था l निराश होकर, चुअंग ने ख़राब आयोजन के लिए अपनी पत्नी की आलोचना की l

बाद में अपने शब्दों के लिए पछताया l वह बहुत अधिक कठोर हो गया था, और उसने यह भी महसूस किया कि वह खुद ही होटल का पता लगा सकता था और दूसरे सात दिनों के अच्छे आयोजन के लिए पत्नी को धन्यवाद देना भूल गया l

हममें से बहुत लोग चुअंग के समान हो सकते हैं l हम क्रोधित होकर अपने शब्दों को अनियंत्रित होने देते हैं l हमारे लिए भजनकार के साथ प्रार्थना करना कितना ज़रूरी है : “हे यहोवा, मेरे मुख पर पहरा बैठा, मेरे होठों के द्वार की रखवाली कर!” (भजन 141:3 ) l

किन्तु हम ऐसा कैसे करें? यहाँ एक लाभदायक सलाह है : बोलने से पहले विचार करें l क्या आपके शब्द उत्तम, लाभदायक, अनुग्रह से परिपूर्ण और दयालु हैं? (इफि.4:29-32) l

अपने मुँह पर पहरा बैठाने के लिए हमें क्रोध आने पर अपना मुँह बंद रखना होगा और कि हमें सही सुर में सही शब्द बोलने के लिए प्रभु से सहायता मांगनी होगी अथवा, शायद चुप रहना होगा l अपनी बोली नियंत्रित रखना जीवन भर का कार्य है l धन्यवाद हो, परमेश्वर हममें कार्य कर रहा है ताकि हम “उसकी आज्ञा [मानें] और उसकी इच्छा पर चल सकें” (फ़िलि. 2:13) l

दो-पंखों वाला सूर्य

मिट्टी का एक प्राचीन मुहर यरूशलेम पुरातत्व इंस्टीट्यूट की आलमारी में पाँच साल तक पड़ा रहा क्योंकि यरूशलेम की पुरानी दीवार के दक्षिणी भाग के निकट खुदाई में मिली इस  3,000 वर्ष पुरानी वस्तु के प्रारंभिक जांच में इसका महत्व पता न चला l किन्तु तब एक शोधकर्ता के उस मुहर पर खुदे शब्दों की गहन जांच में एक बड़ी खोज सामने आई l अभिलेख प्राचीन इब्री में था : “यहूदा के राजा आहाज (के पुत्र) हिजकिय्याह का l”

मुहर के बीच जीवन का प्रतीक दो-पंखों वाला सूर्य की आकृति है l मुहर खोजनेवाले पुरातत्ववेत्ताओं का मानना है कि राजा हिजकिय्याह ने इस मुहर का उपयोग खतरनाक बीमारी से प्रभु की चंगाई पाने के बाद परमेश्वर की सुरक्षा के रूप में करने लगा (यशायाह 38:1-8) l हिजकिय्याह प्रभु से चंगाई मांग रहा था l और परमेश्वर ने उसकी प्रार्थना सुनकर उसे यह कहकर, “मैं [सूर्य की छाया को] दस अंश पीछे की ओर लौटा दूंगा”  एक चिन्ह दिया कि वह दी गयी अपनी प्रतिज्ञा पूरी करेगा (पद.8) l

पुरातत्विक शिल्पकृति के ये तथ्य हमें उत्साहवर्धक ताकीद देते हैं कि बाइबिल के लोग हमारी तरह सीख रहे थे कि सहायता मांगने पर प्रभु हमारी सुनता है l और यद्यपि हमारी अपेक्षानुसार उसका उत्तर नहीं होता, हम उसकी करुणा और सामर्थ्य में विश्राम कर सकते हैं l सूर्य की गति को प्रभावित करनेवाला हमारे हृदयों को भी प्रभावित कर सकता है l

जो शमौन ने कहा

रिफ्यूज रबिन्द्रनाथ नाम का एक व्यक्ति श्रीलंका में 10 वर्षों से अधिक से युवा कार्यकर्त्ता रहा  है l वह अक्सर युवाओं के साथ देर रात को बातचीत करता है-खेलता है, उनकी सुनता है, सलाह  देता है  और सिखाता है, जो उसे पसंद है, किन्तु भरोसेमंद विद्यार्थीयों के कभी-कभी विश्वास से फिर जाने से निराशा मिलती है l वह कभी-कभी लूका 5 में शमौन पतरस की तरह कुछ-कुछ अनुभव करता है l

शमौन पूरी रात मेहनत करके भी मछली नहीं पकड़ा (पद.5) l वह हताश और थका हुआ था l किन्तु यीशु के कहने पर कि, “गहरे में ले चल, और ... अपने जाल डालो” (पद.4), शमौन का उत्तर था, “तौभी तेरे कहने से जाल डालूँगा” (पद.5) l

शमौन का आज्ञा मानना अद्भुत था l अनुभवी मछुआरे के रूप में, वह जानता था कि सूर्य निकलने के बाद मछलियाँ गहरे में चली जाती हैं, और उनके जाल गहराई में नहीं जा सकते थे l  

यीशु पर भरोसा करने की उसकी इच्छा रंग लायी l शमौन को ढेर सारी मछलियाँ मिलीं और उसने जाना कि यीशु कौन है l वह यीशु को “स्वामी” (पद.5) से “प्रभु” कह पाया (पद.8) l वास्तव में, “सुनना” अक्सर हमें प्रगट रूप से परमेश्वर के कार्य देखने देता है और उसके निकट लाता है l

शायद परमेश्वर आपसे पुनः “अपने जाल डालने को कह रहा है l” हम शमौन की तरह प्रभु को उत्तर दें : “तौभी तेरे कहने से जाल डालूँगा l”

पूरी दौड़

2016 के रिओ ओलंपिक्स में, 5,000 मीटर दौड़ में दो धावकों ने संसार का ध्यान आकर्षित किया l 3,200 मीटर दौड़ के बाद, न्यूज़ीलैण्ड की निक्की हैम्बलिन और अमरीका की एबे डीऔगुस्तटिनो आपस में टकराकर गिर गयीं l एबे तुरन्त खड़ी हो गयी, किन्तु निक्की की मदद करने ठहर गयी l क्षण भर बाद दोनों धावक दौड़ने लगे, और एबे गिरने के कारण दायीं पैर में चोट से लड़खड़ाने लगी l अब निक्की की बारी थी कि दौड़ पूरी करने के लिए ठहर कर सह-धावक को उत्साहित करे l एबे के लड़खड़ाने के बाद, निक्की समापन रेखा पर आख़िरकार, उसे गले लगाने के लिए खड़ी थी l आपसी उत्साह का कितना सुन्दर तस्वीर!

यह मुझे बाइबिल का एक परिच्छेद याद दिलाता है : “एक से दो अच्छे हैं .... यदि उनमें से एक गिरे, तो दूसरा उसको उठाएगा; परन्तु हाय उस पर जो अकेला होकर गिरे और उसका कोई उठानेवाला न हो” (सभो. 4:9-10) l आत्मिक दौड़ में धावक होकर, हमें परस्पर सहायता चाहिए-शायद और अधिक, क्योंकि हम दौड़ प्रतियोगिता में नहीं हैं किन्तु एक ही टीम के सदस्य हैं l गिरने के क्षण होंगे जहाँ उठने में किसी की मदद चाहिए; दूसरे क्षणों में किसी को प्रार्थना और उपस्थिति द्वारा उत्साह की आवश्यकता होगी l

आत्मिक दौड़ में अकेला नहीं दौड़ा जाता l क्या परमेश्वर आपको किसी के जीवन में निक्की या एबे बना रहा है? आज ही तुरंत मदद देकर, दौड़ पूरी करें!

पहला कदम

थाम दाशु ने अपने जीवन में कुछ कमी महसूस करके अपनी बेटी के चर्च जाने लगा l किन्तु वे अलग-अलग जाते थे l कुछ दिन पहले वह अपनी बेटी को ठेस पहुँचाया था, जिससे दोनों के बीच अलगाव हो गया था l इसलिए, थाम गीत आरंभ होने के बाद चुपचाप अन्दर जाकर आराधना समाप्ति के तुरंत बाद निकल आता था l

कलीसिया के सदस्यों ने थाम को सुसमाचार बताया, किन्तु वह यीशु पर विश्वास करने  का उनका निमंत्रण नम्रता के साथ टाल जाता था l किन्तु, वह चर्च जाता रहा l  

एक दिन थाम काफी बीमार हो गया l उसकी बेटी ने हिम्मत जुटाकर उसको पत्र लिखी l उसने बताया किस तरह मसीह ने उसका जीवन बदल दिया था, और उसने अपने पिता से मेल-मिलाप किया l उस रात, थाम यीशु पर विश्वास किया और परिवार में मेल हो गया l कुछ दिन बाद, थाम की मृत्यु हो गयी और वह यीशु की उपस्थिति में प्रवेश करके परमेश्वर और अपने प्रियों के साथ शांति पाया l

प्रेरित पौलुस ने लिखा कि हम भी परमेश्वर के प्रेम और क्षमा की सच्चाई “लोगों को समझाते हैं” (2 कुरिन्थियों 5:11) l मेल-मिलाप की सेवा हेतु “मसीह का प्रेम [ही] हमें विवश कर देता है” (पद.14) l

दूसरों को क्षमा करने की हमारी इच्छा उनको समझने में सहायता करेगा कि परमेश्वर हमसे मेल-मिलाप करना चाहता है (पद.19) l क्या आप परमेश्वर की सामर्थ्य पर भरोसा करके उनको उसका प्रेम दिखाएँगे?

क्या अनंत है?

हाल ही में अनेक तकलीफों से गुज़र चुकी मेरी सहेली ने लिखा, “अपने विद्यार्थी जीवन के पिछले चार टर्म में अनेक बातें बदली हैं ... डरावनी हैं, वास्तव में डरावनी l कुछ भी स्थायी नहीं l”

वास्तव में, दो वर्षों में बहुत कुछ हो सकता है-जीविका परिवर्तन, नए मित्र, बीमारी, मृत्यु l अच्छा या बुरा, जीवन में परिवर्तन का अनुभव निकट घात लगाए है! हम बिल्कुल नहीं जानते l यह जानना कितना सुखकर है कि हमारा प्रेमी स्वर्गिक पिता अपरिवर्तनीय है l

भजनकार कहता है, “तू वही है, और तेरे वर्षों का अंत नहीं होने का” (भजन 102:27) l यह असीम सच है l अर्थात् परमेश्वर सर्वदा  प्रेमी, न्यायी, और बुद्धिमान है l बाइबिल शिक्षक आर्थर डब्ल्यू. पिंक, अद्भुत तरीके से बताते हैं : सृष्टि के अस्तित्व से पूर्व परमेश्वर के गुण, अभी भी हैं, और हमेशा रहेंगे l”

नए नियम में याकूब लिखता है, “हर एक अच्छा वरदान और हर एक उत्तम दान ऊपर ही से है, और ज्योतियों के पिता की ओर से मिलता है, जिसमें ... न अदल बदल के कारण उस पर छाया पड़ती है” (याकूब 1:17) l हमारी बदलती परिस्थितियों में, हम आश्वस्त हो सकते हैं कि हमारा भला परमेश्वर अपने चरित्र अनुकूल ही रहेगा l वह सभी भलाइयों का श्रोत है, और उसके समस्त कार्य भले है l

ऐसा लगता है कि सब कुछ अस्थायी है, किन्तु परमेश्वर अपने लोगों के लिए हमेशा भला रहेगा l