श्रेणी  |  odb

कुम्हार का चाक

1952 में, एक दुकान में अनाड़ी या लापरवाह लोगों को सामान तोड़ने से रोकने के प्रयास में, एक दुकान मालिक ने एक संकेत पोस्ट किया जिसमें लिखा था: "आप इसे तोड़ते हैं, आप इसे खरीदते हैं।" आकर्षक वाक्यांश ने ग्राहकों के लिए चेतावनी का काम किया। इस तरह के संकेत अब कई बुटीक/वस्त्रालय में देखे जा सकते हैं।

विपरीततया एक असली कुम्हार की दुकान में एक अलग चिन्ह लगाया जा सकता है। यह कहेगा : "यदि आप इसे तोड़ते हैं, तो हम इसे कुछ बेहतर बना देंगे।" और ठीक यही यिर्मयाह 18 में प्रकट  है।

यिर्मयाह एक कुम्हार के घर जाता है और देखता है कि कुम्हार अपने हाथों से "विकृत" मिट्टी को आकार दे रहा है, सावधानी से सामग्री को संभाल रहा है और उसका “दूसरा बर्तन” बना रहा है (पद 4)। भविष्यवक्ता हमें याद दिलाता है कि परमेश्वर वास्तव में एक कुशल कुम्हार है, और हम मिट्टी हैं। वह सर्वशक्तिमान है और वह जो कुछ भी बनाता है उसका उपयोग बुराई को नष्ट करने और हममें सुंदरता पैदा करने अर्थात् दोनों के लिए कर सकता है।

परमेश्वर हमें तब भी आकार दे सकता है जब हम विकृत हैं या टूट गए हैं । वह, कुशल कुम्हार, हमारे टूटे हुए टुकड़ों से नए और कीमती मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए तैयार है। परमेश्वर हमारे टूटे हुए जीवन, गलतियों और पिछले पापों को अनुपयोगी सामग्री के रूप में नहीं देखता है। इसके बजाय, वह हमारे टुकड़ों को उठाता है और उन्हें वैसा ही नया आकार देता है जैसा वह सबसे अच्छा देखता है।

हमारे टूटेपन में भी, हमारे सिद्ध कुम्हार के लिए हमारी बहुत उपयोगिता है। उसके हाथों में, हमारे जीवन के टूटे हुए टुकड़े सुंदर बर्तन में बदले जा सकता हैं’ जिनका उपयोग उसके द्वारा किया जा सकता है (पद 4)।

यह अनुग्रह है

लेस मिजरेबल्स (एक ऐतिहासिक फ्रांसीसी उपन्यास) की शुरुआत कैद से छूटे हुए दोषी, जीन वलजेन के एक पुरोहित की चांदी चोरी करने से होती है। वह पकड़ा जाता है, और वह खदानों (खानों) में वापस जाने की उम्मीद करता है। लेकिन पुरोहित यह दावा करके सभी को चौंका देता है कि उसने वलजेन को चांदी दी थी। पुलिस के जाने के बाद, वह चोर की ओर मुड़ता है, "तुम अब बुराई के नहीं, बल्कि भलाई के हो।"

ऐसा असाधारण प्रेम उस प्रेम की ओर इशारा करता है जो उस झरने से बहता है जिससे सारा अनुग्रह आता है। पिन्तेकुस्त के दिन, पतरस ने अपने श्रोताओं से कहा कि दो महीने से भी कम समय पहले, उसी शहर में, उन्होंने यीशु को क्रूस पर चढ़ाया था। भीड़ का मन चूर-चूर हो गया और उसने पूछा कि उन्हें क्या करना चाहिए। पतरस ने उत्तर दिया, "मन फिराओ, और तुम में से हर एक अपने अपने पापों की क्षमा के लिए यीशु मसीह के नाम से बपतिस्मा ले" (प्रेरितों के काम 2:38)। यीशु ने वह दण्ड सहा था जिसके वे हकदार थे। अब यदि वे उस पर अपना विश्वास रखेंगे तो उनका दण्ड क्षमा किया जाएगा।

ओह, अनुग्रह  का विरोधाभास । लोगों को केवल मसीह की मृत्यु के कारण ही क्षमा किया जा सकता था—एक ऐसी मृत्यु जिसके लिए वे जिम्मेदार थे। परमेश्वर कितना दयालु और शक्तिशाली है! उसने हमारे उद्धार को पूरा करने के लिए मानवता के सबसे बड़े पाप का उपयोग किया है। यदि परमेश्वर ने पहले ही यीशु को सूली पर चढ़ाने के पाप के साथ ऐसा कर लिया है, तो हम मान सकते हैं कि ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे वह अच्छा नहीं कर सकता। उस पर भरोसा करें “जो उस से प्रेम रखते हैं, उनके लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न [ करता है]" (रोमियों 8:28)।

प्रभु से छिपना

मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और जोर-जोर से गिनने लगा। मेरे तीसरे कक्षा के सहपाठियों ने छिपने के लिए जगह खोजने के लिए कमरे से बाहर निकल गए l  हर अलमारी, पेटी और कोठरी को खंगालने के बाद भी जो अत्यधिक समय बीतने की तरह महसूस हो रहे थे, मैं अभी भी अपने एक दोस्त को ढूढ़ नहीं पा रही थी l मुझे हास्यास्पद लगा जब वह आखिरकार छत से लटके हुए फ़र्न पौधे के गमले के पीछे से कूद कर बाहर आयी । केवल उसका सिर पौधे से छिपा हुआ था─उसके शरीर का बाकी हिस्सा पूरे समय दिखाई दे रहा था! 

चूँकि परमेश्वर सर्वज्ञानी है, जब आदम और हव्वा अदन की वाटिका में "[उससे] छिप गए", वे हमेशा "स्पष्ट दिखाई दे रहे” थे (उत्पत्ति 3:8)। लेकिन वे कोई बचपन का खेल नहीं खेल रहे थे; वे , उस पेड़ से खाकर जो परमेश्वर ने उन्हें खाने से मना किया था अपने अधर्म के बारे में अचानक जागरूकता─और शर्म─का अनुभव कर रहे थे ।

आदम और हव्वा परमेश्वर और उसके प्रेमपूर्ण प्रबन्ध से फिर गए जब उन्होंने उसके निर्देशों की अवहेलना की। हालाँकि, गुस्से में उनसे अलग होने के बजाय, उसने उनसे पूछा, "तुम कहाँ हो?" ऐसा नहीं है कि वह नहीं जानता था कि वे कहाँ हैं, परन्तु वह चाहता था कि वे उनके प्रति उसकी करुणामयी चिंता को जानें (पद. 9) ।

मैं छिपी हुई अपने मित्र को नहीं देख पा रही थी, लेकिन परमेश्वर हमेशा हमें देखता है और हमें जानता है—उसके लिए हम हमेशा स्पष्ट दृष्टि में होते हैं। जैसे ही उसने आदम और हव्वा को खोजा,  यीशु ने हमें ढूंढ़ा जब हम "पापी ही थे”─ हमारे लिए अपने प्रेम को प्रदर्शित करने के लिए क्रूस पर मारे गए (रोमियों 5:8)। हमें अब छिपने की जरूरत नहीं है।

जीवित रहने तक दें

एक सफल व्यवसायी ने अपने जीवन के अंतिम कुछ दशक अपने विपुर संपत्ति को देने के लिए हर संभव प्रयास करते हुए बिताए। एक बहु अरबपति होकर, उन्होंने उत्तरी आयरलैंड में शांति लाने और वियतनाम की स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली का आधुनिकीकरण करने जैसे कई कारणों से नकद दान दिया; और मरने से कुछ समय पहले, उन्होंने न्यूयॉर्क में एक द्वीप को एक प्रौद्योगिकी केंद्र में बदलने के लिए $350 मिलियन (35 करोड़) खर्च किए। उस व्यक्ति ने कहा, “मैं जीते-जी देने में दृढ़ विश्वास रखता हूं। मुझे देने में देरी करने का कोई कारण नहीं दिखता . . . l  इसके अलावा, जब आप मर चुके होते हैं तो देने की तुलना में जीने के दौरान देने में बहुत अधिक मज़ा आता है। जब आप जीते हैं तो दें—क्या अद्भुत मनोभाव है।

यूहन्ना के अंधे पैदा हुए व्यक्ति के विवरण में, यीशु के शिष्य यह निर्धारित करने की कोशिश कर रहे थे कि "किसने पाप किया" (9:2)। यीशु ने संक्षेप में उनके प्रश्न का उत्तर यह कहकर दिया, “न तो इस ने पाप किया था, न  इसके माता-पिता ने . . . परन्तु यह इसलिये हुआ कि परमेश्वर के काम उस में प्रगट हों। जिसने मुझे भेजा है, हमें उसके काम दिन ही दिन में करना अवश्य है” (पद.3-4) l यद्यपि हमारा कार्य यीशु के आश्चर्यकर्मों से बहुत अलग है, चाहे हम अपने आप को कितना भी दे दें, हमें इसे एक तैयार और प्रेमपूर्ण आत्मा के साथ करना है। चाहे हमारे समय, संसाधनों, या कार्यों के माध्यम से, हमारा लक्ष्य यह है कि परमेश्वर के कार्यों को प्रदर्शित किया जा सके।

क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने दिया। बदले में, जब तक हम जीते हैं, दें।