श्रेणी  |  odb

हमारे शरणस्थान

छठी कक्षा का बास्केटबॉल खेल काफी अच्छा चल रहा था। माता-पिता और दादा -दादी अपने खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ा रहे थे, जबकि टीम में लड़को के छोटे भाइयों और बहनों ने स्कूल के दालान में खुद को मनोरंजन किया, अचानक, सायरन बजा और जिम में रोशनी चमकी। एक आग अलार्म ट्रिप किया था। जल्द ही भाई-बहन अपने माता-पिता की तलाश में दहशत में जिम में वापस आ गए। 

वहाँ आग नहीं थी; अलार्म गलती से सक्रिय हो गया था। लेकिन जैसा मैंने देखा, जिस तरह से बच्चे - संकट को भांपते हुए - बिना शर्माए अपने माता-पिता को गले लगाने के लिए दौड़े, उसे देखकर मैं स्तब्ध रह गया। उनमें साहस की क्या ही तस्वीर जो डर के समय में सुरक्षा और आश्वासन प्रदान कर सकतें हैं!

पवित्रशास्त्र एक ऐसे समय को प्रस्तुत करता है जब दाऊद ने बड़े भय का अनुभव किया। शाऊल और कई अन्य शत्रु ने उसका पीछा किया (2 शमूएल 22:1)। परमेश्वर के दाऊद को सुरक्षित पहुँचाने के बाद, कृतज्ञ व्यक्ति ने उसकी मदद के बारे में स्तुति का एक शानदार गीत गाया। उसने परमेश्वर को “...मेरी चट्टान, और मेरा गढ़, मेरा छुड़ानेवाला,” कहा (v.2)। जब “अधोलोक की रस्सियाँ” और “मृत्यु के फन्दे” जब उसे घेरे थे। दाऊद ने “यहोवा को पुकारा;” और “दोहाई उसके कानों में पहुँची” (v.7)। अंत में, दाऊद ने कहा उसने “ मुझे छुड़ा लिया।”(vv.18, 20, 49)।

भय और अनिश्चितता के समय में, हम “चट्टान” की ओर दौड़ सकते हैं (v.32)। जब हम परमेश्वर को पुकारते हैं, केवल वह ही हमें वह गढ़ और शरणस्थान प्रदान करता है जिसकी हमें आवश्यकता है (v.2-3)।

भार हल्का करें

जब हमारे नवगठित बाइबल अध्ययन में जुड़ी महिलाएँ कई त्रासदियों का सामना कर रही थी, हमने अचानक खुद को गहरे व्यक्तिगत अनुभव साझा करते हुए पाया। पिता के खोने का सामना, तलाक के बाद शादी की सालगिरह का दर्द, पूरी तरह से बहरे बच्चे का जन्म, आपातकालीन कक्ष में बच्चे को लाने के लिए दौड़ का अनुभव-यह अकेले उठाना किसी के लिए भी बहुत ज्यादा था। प्रत्येक व्यक्ति की भेद्यता के कारण अधिक पारदर्शिता आई। हम एक साथ रोये और प्रार्थना की, और जो अजनबियों के समूह के रूप में शुरू हुआ था कुछ ही हफ्तों में करीबी मित्रों का एक समूह हो गया.. 

कलीसिया के देह के अंग के रूप में, यीशु में विश्वासी लोगों के पास उनकी पीड़ा में गहरे और व्यक्तिगत रूप से आने में सक्षम हैं। संबंधपरक संबंध जो मसीह में भाइयों और बहनों को एक साथ बांधता है इस बात पर निर्भर नहीं हैं कि हममें क्या समानताएं है या हम एक-दूसरे को कितने समय से जानते हैं। इसके बदले हम वह करते हैं, जिसे पौलुस “तुम एक दूसरे का भार उठाओ” (v. 2) कहता है। परमेश्वर की सामर्थ्य पर भरोसा करते हुए, हम सुनते, सहानुभूति रखते, जहां हम मदद कर सकते हैं करते हैं, और हम प्रार्थना करते हैं। हम “इसलिये जहाँ तक अवसर मिले हम सब के साथ भलाई करें, विशेष करके विश्‍वासी भाइयों के साथ” (v.10) के तरीके ढूंढ सकते हैं। पौलुस कहता है कि जब हम ऐसा करते हैं, तो हम मसीह की व्यवस्था को पूरा करते हैं (v.2): परमेश्वर से और अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रखने के लिए। जिन्दगी का बोझ भारी हो सकता है, लेकिन उन्होंने हमें उस बोझ को हल्का करने के लिए हमारे कलीसिया का  परिवार दिया है।

फास्ट-फूड प्रोत्साहन

मारीया अपने फ़ास्ट फ़ूड खाने को लेकर एक खाली टेबल पर गई। जैसे ही उसने अपने बर्गर को खाया, उसकी निगाह कई टेबलों दूर बैठे एक युवक पर गई। उसके कपड़े गंदे, उसके बाल ढीले लटके हुए, और वह एक खाली कागज़ के कप को पकड़े हुए था। स्पष्ट रूप से वह भूखा था। वह मदद कैसे करती? पैसे का दान देना बुद्धिमानी नहीं लग रही थी। यदि वह भोजन लाकर उसे देती, हो सकता है वह शर्मिंदा हो जाता?

तभी मारिया को रूत की कहानी याद आई, जिसमें बोअज़, एक धनी जमींदार, गरीब अप्रवासी विधवा को अपने खेतों से बीनने के लिए आमंत्रित करता है। उसने “अपने जवानों को आज्ञा दी,... “उसको पूलों के बीच बीच में भी बीनने दो, और दोष मत लगाओ। वरन् मुट्ठी भर जाने पर कुछ कुछ निकाल कर गिरा भी दिया करो, और उसके बीनने के लिये छोड़ दो, और उसे घुड़को मत।” (2:15-16)। एक ऐसी संस्कृति में जहां महिलाएं जीविका के लिए अपने संबंधित पुरुषों पर पूरी रीति से निर्भर थीं, बोअज़ ने परमेश्‍वर के प्रेममय प्रबन्ध को प्रदर्शित किया। आखिरकार, बोअज़ ने रूत से शादी कर ली, उसे उसकी गंभीर ज़रूरत से छुड़ाया (4:9-10)। जैसे मारिया जाने के लिए खड़ी हुई, उसने युवक से निगाहे मिलाते हुए, पास की टेबल पर अपने फ्राई का अनछुए पैकेट रख दिए। अगर वह भूखा था, तो वह उसके “फ़ास्ट-फ़ूड के खेत” में से कुछ बटोर सकता था। पवित्रशास्त्र की कहानियों में परमेश्वर का हृदय प्रकट होता है क्योंकि वे प्रोत्साहित करने के लिए रचनात्मक समाधानों का वर्णन करती हैं।

परमेश्वर का पक्का पीछा

कुछ वर्ष पहले, एक व्यक्ति मुझसे लगभग एक ब्लॉक आगे चल रहा था। मैं स्पष्ट रूप से देख सकता था कि उसकी बाहें सामान से भरी थीं। अचानक, वह सब कुछ गिराते हुए फिसल गया। कुछ लोगों ने, जो उसने गिराया उसे इकट्ठा करने, और उसे उसके पैरों पर खड़े होने में उसकी मदद की, लेकिन उन लोगों से कुछ रह गया —उसका बटुआ। मैंने उसे उठाया और, उस महत्वपूर्ण चीज को लौटाने की आशा करते हुए उस अजनबी का पीछा करने लगा। मैं चिल्लाया “सर, सर!” और अंत में उसका ध्यान खींचा। जैसे ही मैं उसके पास पहुँचा वह मुड़ा। जैसे ही मैंने बटुआ निकाला, मैं उसके आश्चर्यजनक राहत और अपार कृतज्ञता के उसके रूप को कभी नहीं भूलूंगा। 

उस व्यक्ति का पीछा करना जिस रूप में शुरु हुआ था वह आगे कुछ अलग ही रूप में बदल गया। अधिकांश अंग्रेजी अनुवाद भजन 23 के अंतिम पद में साथ बनी रहेंगी शब्द का उपयोग्य करते है-“ निश्‍चय भलाई और करुणा जीवन भर मेरे साथ साथ बनी रहेंगी;” (6)। और जबकि “साथ बनी रहेंगी” सही बैठता है, वास्तविक इब्रानी शब्द अधिक शक्तिशाली, आक्रामक भी है। इस शब्द का शाब्दिक अर्थ है “पीछा करना”, जिस तरह एक शिकारी अपने शिकार का पीछा करता है (एक भेड़िया को भेड़ का पीछा करते हुए कल्पना करें)। 

परमेश्वर की कृपा और भलाई हमारा पीछा किसी ढीली गति या इस तरह कि वास्तव में कोई जल्दी न हो नहीं करती, जैसे एक पालतू जानवर इत्मीनान से घर तक आपका पीछा कर सकता है। नहीं, "निश्चित रूप से" हमारा पीछा किया जा रहा है - उदेश्य के साथ। बहुत हद तक इस तरह कि एक व्यक्ति को उसका बटुआ लौटाने के लिए उसका पीछा करना, हमारा पीछा भी उस अच्छे चरवाहे के द्वारा किया जा रहा है जो हमसे अनंत प्रेम से प्रेम करते है (1,6)।