श्रेणी  |  odb

स्वामी या प्रबंधक (अधिकारी) ?

"क्या मैं स्वामी हूं या प्रबंधक?" एक अरबों डॉलर की कंपनी के सी.ई.ओ ने स्वयं से यह सवाल पूछा क्योंकि उन्होंने सोचा कि उनके परिवार के लिए सबसे बेहतर क्या है। बहुत अधिक धन के साथ आने वाले प्रलोभनों के बारे में चिंतित होकर, वह अपने उत्तराधिकारियों पर उस चुनौती का बोझ नहीं डालना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपनी कंपनी का स्वामित्व(मालिकाना हक़) छोड़ दिया और 100 प्रतिशत वोटिंग स्टॉक (मताधिकार वाले शेयर) एक ट्रस्ट (किसी अन्‍य व्‍यक्ति की संपति की देखभाल के लिए, की गई वैधानिक व्‍यवस्‍था) में रख दिया। यह मानते हुए कि उनके पास जो कुछ भी है वह परमेश्वर का है, जिन्होंने उनको यह निर्णय लेने में मदद की है, कि उनका परिवार वहाँ काम  करके अपनी जीविका कमा सकें और साथ ही भविष्य में मिले मुनाफ़े द्वारा मसीही सेवकाई में भी मदद कर सकें।

भजन संहिता 50:10 में, परमेश्वर अपने लोगों से कहते हैं “वन के सारे जीव-जन्तु और हज़ारों पहाड़ों के जानवर मेरे ही हैI” सभी चीज़ों के सृष्टिकर्ता के रूप में, परमेश्वर को हमसे कुछ भी नहीं चाहिए और न ही उन्हें कोई ज़रुरत ही है। वह कहते हैं। “मैं न तो तेरे घर से बैल न तेरे पशुशाला से बकरे लूँगा” (पद 9)। वे उदारतापूर्वक वह सब कुछ प्रदान करते है जो हमारे पास है और उनका उपयोग भी करते है, साथ ही जीविका कमाने के लिए शक्ति और क्षमता भी प्रदान करते है। क्योंकि वह करता है, जैसा कि भजन  हमें दिखाता है, वह हमारी हार्दिक आराधना के योग्य है। परमेश्वर सभी चीज़ों के स्वामी है लेकिन अपनी भलाई के कारण जब भी कोई उनके पास आता है तब उसके साथ रिश्ते में जुड़ने के लिए परमेश्वर स्वयं को भी समर्पित करने का निर्णय लेते है । “क्योंकि मनुष्य का पुत्र इसलिये नहीं आया, कि उस की सेवा टहल की जाए, पर इसलिये आया, कि आप सेवा टहल करे, और बहुतों की छुड़ौती के लिये अपना प्राण दे।" (मरकुस 10:45) जब हम उपहारों से अधिक महत्व उपहार देने वाले को देते हैं और उन उपहारों से उसकी सेवा करते हैं, तो हम उसमें सदैव आनंदित रह कर धन्य हो जाते हैं। 

लैव्यव्यवस्था भी

विषय लैव्यव्यवस्था था, और मुझे एक स्वीकारोक्ति करनी थी l मैंने अपने बाइबल अध्ययन समूह को बताया, “मैंने बहुत से हिस्सों को छोड़ दी l” “मैं त्वचा रोगों के बारे में दुबारा नहीं पढ़ रहा हूँ l” 

तभी मेरे मित्र डेव ने बात की l उन्होंने कहा, “मैं एक ऐसे व्यक्ति को जनता हूँ जो उस परिच्छेद के कारण यीशु में विश्वास किया l” डेव ने बताया कि उसका डॉक्टर दोस्त नास्तिक था l उसने निर्णय लिया कि बाइबल को पूरी तरह से अस्वीकार करने से पहले, वह उसे पढ़ेगा l लैव्यव्यवस्था में त्वचा रोगों वाला भाग उन्हें आकर्षित किया l इसमें संक्रामक और गैर-संक्रामक घावों (13:1-46) और उनके इलाज के तरीके (14:8-9) के विषय में आश्चर्यजनक विवरण शामिल थे l वह जानता था कि यह तत्कालीन चिकित्सा ज्ञान से कहीं अधिक था—फिर भी यह लैव्यव्यवस्था में था l उसने सोचा, ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे मूसा यह सब जान सका l डॉक्टर ने विचार किया कि मूसा को वास्तव में उसकी जानकारी परमेश्वर से प्राप्त हुयी थी l आखिरकार उसने यीशु पर विश्वास किया l  

यदि बाइबल के कुछ भाग आपको उबा देते हैं, तो ठीक है, मैं आपके साथ हूँ l लेकिन इसमें जो कुछ भी कहा गया है वह किसी कारण से हैं l लैव्यव्यवस्था इसलिए लिखी गयी थी ताकि इस्राएल जान सके कि परमेश्वर के लिए और उसके साथ कैसे रहना है l जैसे-जैसे हम परमेश्वर और उसके लोगों के बीच इस रिश्ते के बारे में और अधिक सीखते हैं, हम स्वयं परमेश्वर के बारे में सीखते हैं l 

प्रेरित पौलुस (2 तीमुथियुस 3:16)) ने लिखा, “सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्वर की प्रेरणा से रचा गया है और उपदेश, और समझाने, और सुधारने, और धर्म की शिक्षा के लिए लाभदायक है l” आइए आगे पढ़ें l यहाँ तक कि लैव्यव्यवस्था भी l 

“मेरे अविश्वास का उपाए कर!”

“मेरा विश्वास कहाँ है?—यहाँ गहराई में भी खालीपन और अँधेरे के सिवा कुछ भी नहीं है . . . यदि ईश्वर है तो कृपया मुझे क्षमा करें l” 

उन शब्दों की लेखिका आपको आश्चर्यचकित कर सकती है : मदर टेरेसा l भारत के कलकत्ता में गरीबों की एक अथक सेविका के रूप में प्रिय और प्रसिद्ध, मदर टेरेसा ने पांच दशकों तक चुपचाप अपने विश्वास के लिए एक हताश युद्ध छेड़ा l 1997 में उनकी मृत्यु के बाद, वह संघर्ष तब सामने आया जब उनकी पत्रिका के अंश कम बी माई लाईट(Come Be My Light) पुस्तक में प्रकाशित हुए l 

हम ईश्वर की अनुपस्थिति के अपने संदेहों या भावनाओं के साथ क्या करते हैं? वे क्षण कुछ विश्वासियों को दूसरों की तुलना में अधिक परेशान कर सकते हैं l लेकिन यीशु में कई वफादार विश्वासियों को, अपने जीवन में किसी बिंदु पर, ऐसे संदेह के क्षणों या अवसरों का अनुभव हो सकता है l 

मैं आभारी हूँ कि पवित्रशास्त्र ने हमें एक सुन्दर, असंगत/दोअर्थी प्रार्थना दी है जो विश्वास और उसकी कमी दोनों को बताती है l मरकुस 9 में, यीशु का सामना एक ऐसे पिता से होता है जिसका बेटा बचपन से ही दुष्टात्मा पीड़ित था (पद.21) l जब यीशु ने कहा कि मनुष्य में विश्वास होना चाहिए (“विश्वास करनेवाले के लिए सब कुछ हो सकता है,” पद.23), तो उस व्यक्ति ने जवाब दिया, “मैं विश्वास करता हूँ, मेरे अविश्वास का उपाय कर” (पद.24) l 

वह ईमानदार, स्नेहपूर्ण विनती उनको आमंत्रित करती है जो संदेह के साथ संघर्ष करते हुए इसे ईश्वर को सौंपते हैं, विश्वास के साथ कि वह हमारे विश्वास को मजबूत कर सकता है और उन सबसे गहरी, अँधेरी घाटियों में भी हमें मजबूती से थामे रख सकता है, जिनसे हम कभी गुजरे होंगे l 

जब यीशु ठहर जाता है

बीमार बिल्ली कई दिनों तक मेरे कार्यस्थल के पास एक बक्से में छिपकर रोती रही l सड़क पर छोड़े गए इस बिल्ली के बच्चे पर वहां से गुजरने वाले कई लोगों का ध्यान नहीं गया—जब तक कि जुन(Jun) नहीं आ गया l सड़क का सफाई करनेवाला व्यक्ति बिल्ली को घर ले गया, जहाँ वह दो कुत्तों के साथ रहता था, जो पहले आवारा थे l 

जुन ने कहा, “मुझे उनकी परवाह है क्योंकि वे ऐसे प्राणी हैं जिन पर किसी का ध्यान नहीं जाता l” “मैं उनमें खुद को देखता हूँ l आखिरकार सफाई कर्मचारी पर किसी का ध्यान नहीं जाता l” 

यीशु यरिहो के रास्ते यरूशलेम की ओर जा रहा था, एक दृष्टिहीन आदमी सड़क के किनारे भीख मांग रहा था l उस पर भी किसी का ध्यान नहीं गया l और विशेष रूप से इस दिन—जब भीड़ गुज़र रही थी और सभी की निगाहें यीशु मसीह पर टिकी थीं—कोई भी भिखारी की मदद करने के लिए नहीं रुका l 

केवल यीशु l शोर मचाती भीड़ के बीच में, उसने भूले हुए आदमी की चीख सुनी l “तू क्या चाहता है कि मैं तेरे लिए करूँ,” मसीह ने पूछा, और उन्हें दिली उत्तर मिला, “हे प्रभु, यह कि मैं देखने लगूं l” यीशु ने कहा, “देखने लग; तेरे विश्वास ने तुझे अच्छा कर दिया है” (लूका 18:41-42) l 

क्या हम कभी-कभी उपेक्षित महसूस करते हैं? क्या हमारी चीखें उन लोगों द्वारा दबा दी जाती हैं जो हमसे ज्यादा महत्वपूर्ण लगते हैं? हमारा उद्धारकर्ता उन लोगों पर ध्यान देता है जिन पर दुनिया ध्यान देने की परवाह नहीं करती है l मदद के लिए उसे बुलाएं! जबकि अन्य लोग हमारी उपेक्षा कर सकते हैं, वह हमारे लिए रुकेगा l