श्रेणी  |  odb

मसीह को प्रतिबिंबित कैसे करें

लिजीयू की थेरेस Thérèse of Lisieux (एक फ़्रांसिसी नन/मठवासिनी जो चर्च की एक प्रमुख सदस्य थी) एक खुशहाल और चिंतामुक्त लड़की थी- जब तक कि उसकी माँ की मृत्यु नहीं हुई जब वह सिर्फ चार साल की थी l वह संकोची हो गयी और आसानी से उत्तेजित हो जाती थी l लेकिन कई साल बाद क्रिसमस की पूर्व संध्या पर, वह सब कुछ बदल गया l अपने चर्च समुदाय के साथ यीशु के जन्म का जश्न मनाने के बाद, उसने परमेश्वर को उसके भय से मुक्त करने और उसे ख़ुशी देने का अनुभव किया l उसने परमेश्वर को जिसने स्वर्ग छोड़ा और एक मनुष्य, यीशु बना, और जिसने उसके अन्दर निवास किया, उसी की सामर्थ्य को कारण बताया l 

मसीह का हमारे भीतर बसने का क्या मतलब है? यह एक रहस्य है, पौलुस ने कुलुस्से के चर्च से कहा l यह वह है जिसे परमेश्वर ने “समयों और पीढ़ियों से गुप्त” रखा” (कुलुस्सियों 1:26), लेकिन उसने परमेश्वर के लोगों पर प्रगट किया l परमेश्वर ने “उस भेद की महिमा का मूल्य . . . . . यह है कि मसीह जो महिमा की आशा है तुम में वास करता है” (पद.27) उन पर खुलासा किया l क्योंकि मसीह अब कुलुस्सियों में वास करता था, उन्होंने नए जीवन की ख़ुशी का अनुभव किया l अब वे पाप के पुराने व्यक्तित्व के दास नहीं थे l 

यदि हमने यीशु को अपना उद्धारकर्ता माना है, तो हम भी उसके हमारे अन्दर निवास के इस रहस्य को जीते हैं l उसकी आत्मा के द्वारा, वह हमें भय से मुक्त कर सकता है, जैसा कि उसने थेरेस को किया था, और हमारे भीतर अपनी आत्मा का फल, जैसे आनंद, शांति और आत्म-नियंत्रण विकलित कर सकता है (गलातियों 5:22-23) l

आइये हम अपने भीतर मसीह के अद्भुत रहस्य के लिए धन्यवाद दें l 

प्रेम में जड़वत

“इसमें बस इतना ही करना है!” मैगी ने कहा । उसने अपने फूल के पौधे से एक तने को काट लिया था, उसने कटे हुए सिरे को शहद में डुबो दिया, और उसे कम्पोस्ट खाद से भरे बर्तन में गाड़ दिया । मैगी मुझे सिखा रही थी कि कैसे इन फूलों को बढ़ाया जाए : कैसे एक स्वस्थ पौधा से कई पौधे बनाए जाएँ, ताकि मेरे पास दूसरों के साथ साझा करने के लिए फूल हों । शहद, उसने कहा, छोटे पौधे की जड़ें उगाने में मदद करता है ।

उसको काम करते हुए देखकर, मुझे आश्चर्य हुआ कि किस तरह की चीजें हमें आध्यात्मिक जड़ें जमाने में मदद करती हैं । विश्वास के मजबूत, फलने-फूलने में परिपक्व लोग होने में हमें क्या मदद करती है? क्या हमें मुरझाने नहीं देती या विकास करने में मदद करता है? पौलुस, इफिसियों को लिखते हुए कहता है कि हम “प्रेम में जड़ पकड़कर और नेव डालकर” जड़वत हैं (इफिसियों 3:17) । यह प्रेम परमेश्वर से आता है, जो हमें पवित्र आत्मा देकर हमें मजबूत बनाता है । मसीह हमारे दिलों में निवास करता है l और जब हम “समझने की शक्ति [पाते हैं] कि उसकी(मसीह का प्रेम) चौड़ाई, और लम्बाई, और ऊँचाई, और गहराई कितनी है” (पद.18), तो हम परमेश्वर की उपस्थिति का एक समृद्ध अनुभव प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि हम “परमेश्वर की सारी भरपूरी तक परिपूर्ण” हैं (पद.19 AMP) ।

आध्यात्मिक रूप से बढ़ने में परमेश्वर के प्रेम में जड़वत होना जरूरी है - इस सत्य का ध्यान करते हुए कि हम परमेश्वर के प्रिय हैं जो “हमारी विनती और समझ से कही अधिक काम कर सकता है” (पद.20) । हमारे विश्वास का कितना अविश्वसनीय आधार!

देखने के लिए आँखें

मुझे हाल ही में एनामॉर्फिक/anamorphic(पारस्परिक रूप से लंबवत त्रिज्या के साथ विभिन्न ऑप्टिकल इमेजिंग प्रभाव का उत्पादन) कला के आश्चर्य का पता चला । यादृच्छिक/क्रम रहित भागों के वर्गीकरण के रूप में पहली बार दिखाई देने पर, एक एनामॉर्फिक मूर्तिकला केवल सही कोण से देखे जाने पर समझ में आता है । एक टुकड़े में, लम्बवत स्तंभों की एक श्रृंखला एक प्रसिद्ध नेता के चेहरे को प्रकट करने के लिए संरेखित हैं । दूसरे में, केबल(cable) का एक ढेर एक हाथी की रूपरेखा बन जाता है । तार द्वारा निलंबित सैकड़ों काले बिन्दुओं से बनी एक और कलाकृति, सही ढंग से देखने पर एक महिला की आंख बन जाती है । एनामॉर्फिक कला की कुंजी इसे विभिन्न कोणों से देखने की है जब तक कि इसका अर्थ सामने नहीं आता ।

इतिहास, कविता और ज्यादा के हजारों छंदों के साथ, बाइबल कभी-कभी समझने में कठिन हो सकती है । लेकिन पवित्रशास्त्र स्वयं हमें बताता है कि इसका अर्थ कैसे अनलॉक किया जाए। इसके साथ एक एनामॉर्फिक मूर्तिकला की तरह व्यवहार करें : इसे विभिन्न कोणों से देखें और इस पर गहराई से ध्यान दें ।

मसीह के दृष्टान्त इस तरह काम करते हैं । जो लोग उन पर ध्यान देते हैं उन्हें उनका अर्थ देखने के लिए “आँखें” मिलेंगी (मत्ती 13:10-16) l पौलुस ने तीमुथियुस को उसके शब्दों पर “ध्यान” देने के लिए कहा ताकि परमेश्वर उसे अंतर्दृष्टि दे (2 तीमुथियुस 2:7) । और भजन 119 में बार-बार आने वाले शब्द पवित्रशास्त्र पर ध्यान देने का वह तरीका है जिससे बुद्धिमत्ता और अंतर्दृष्टि आती है जिससे उसके अर्थ समझने के लिए हमारी आँखें खुलती हैं (119:18, 97–99) ।

एक सप्ताह तक एक दृष्टान्त पर विचार करना या एक बैठक में एक सुसमाचार पढ़ना कैसा रहेगा? सभी कोणों से एक पद पर विचार करने में कुछ समय बिताएं । गहराई में जाएँ । बाइबल की अंतर्दृष्टि, पवित्रशास्त्र पर ध्यान देने से आती है, न कि इसे केवल पढ़ने से l

हे परमेश्वर, हमें देखने के लिए आंखें दीजिये l

कभी पर्याप्त नहीं

फ्रैंक बोरमन ने चंद्रमा की परिक्रमा करने वाले पहले अंतरिक्ष मिशन की कमान संभाली । वह प्रभावित नहीं हुआ l दोनों तरफ से यात्रा में दो दिनों का समय लगा l फ्रैंक को गति-मिचली/रुग्णता(motion sickness) हो गई और उसको उलटी आ गयी l उन्होंने कहा कि तीस सेकंड के लिए वजन रहित होना अच्छा था । फिर उसे इसकी आदत हो गई । पास में उसने चंद्रमा को धूसर और गड्ढेदार पाया l उनके कर्मी दल ने धूसर बंजर भूमि की तस्वीरें लीं, फिर ऊब गए ।

फ्रैंक वहाँ गया जहाँ पहले कोई नहीं गया था । यह पर्याप्त नहीं था l यदि वह इस संसार के  बाहर के एक अनुभव से जल्दी थक गया, तो शायद हमें इस बात की अपेक्षा कम करनी चाहिए कि इसमें क्या निहित है । सभोपदेशक के शिक्षक ने देखा कि कोई भी सांसारिक अनुभव परम आनन्द प्रदान नहीं करता है । “न तो आँखें देखने से तृप्त होती हैं, और न कान सुनने से भरते हैं” (1: 8) । हम परम आनंद के क्षणों को महसूस कर सकते हैं, लेकिन हमारा उत्साह जल्द ही मिट जाता है और हम अगले रोमांच की तलाश करते हैं ।

फ्रैंक के पास एक जीवनदायक क्षण था, जब उसने पृथ्वी को चंद्रमा के पीछे अंधेरे से उठते देखा । नीले और सफ़ेद घूमते हुए संगमरमर की तरह, हमारा संसार सूरज की रोशनी में चमकने लगा l इसी तरह, हमारी सच्ची खुशी पुत्र(Son) से आती है जो हम पर चमकता है l यीशु हमारा जीवन, अर्थ, प्रेम और सौंदर्य का एकमात्र अंतिम स्रोत है । हमारी गहरी संतुष्टि इस दुनिया से आती है । हमारी समस्या? हम चंद्रमा तक जा सकते हैं, फिर भी बहुत दूर नहीं जाते हैं l