श्रेणी  |  odb

तुम कर सकते हो

प्रोत्साहन ऑक्सीजन की तरह है—हम इसके बिना नहीं रह सकते। यह तेरह वर्षीय कुतराल रमेश के लिए सच था, जिसे कुतरालेश्वरन के नाम से जाना जाता था। इस लड़के ने विश्व रिकॉर्ड तब हासिल किया जब वह इंग्लिश चैनल को पार करने वाले सबसे कम उम्र का भारतीय तैराक बन गया। लेकिन यह उनके कोच के•                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 एस• इलांगोवन के बिना सम्भव नहीं था जिन्होंने ग्रीष्मकालीन तैराकी शिविर में उसकी प्रतिभा देखी। जैसे ही उन्होंने इंग्लिश चैनल के अस्थिर, ठंडे पानी में इस कार्य को पूरा करने का अभ्यास किया, कई लोगों ने उन्हें हतोत्साहित किया और उन्हें भारत वापस जाने के लिए कहा। पर, उनके कोच और पिता द्वारा दिए गए प्रोत्साहन ने उन्हें अपना लक्ष्य पूरा करने के लिए आवश्यक प्रोत्साहन दिया।

जब दुख के अस्थिर, ठंडे पानी ने यीशु में विश्वास करने वालों में छोड़ने की इच्छा पैदा की तो पौलुस और बरनबास ने उन्हें अपनी यात्रा जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया। प्रेरितों द्वारा दिरबे शहर में सुसमाचार का प्रचार करने के बाद, “वे लुस्त्रा, इकुनियुम और अन्ताकिया में लौट आए और चेलों को दृढ़ किया और उन्हें विश्वास के प्रति सच्चे बने रहने के लिए प्रोत्साहित किया” प्रेरितों के काम 14:21–22। उन्होंने विश्वासियों को यीशु में अपने विश्वास में दृढ़ रहने में मदद की। मुसीबतों ने उन्हें कमजोर कर दिया था, लेकिन प्रोत्साहन के शब्दों ने मसीह के लिए जीने के उनके संकल्प को मजबूत किया। परमेश्वर की शक्ति में, उन्होंने महसूस किया कि वे आगे बढ़ते रह सकते हैं। अंत में, पौलुस और बरनबास ने उन्हें यह समझने में मदद की कि वे परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के लिए बहुत सी कठिनाइयों से गुज़रेंगे (पद22)।

यीशु के लिए जीना एक चुनौतीपूर्ण, कठिन “तैरना” हो सकता है। हम कभी–कभी छोड़ने के लिये बहकाये जाते हैं। सौभाग्य से, यीशु और उसके साथी विश्वासी वह प्रोत्साहन प्रदान कर सकते हैं जिसकी हमें निरंतर आवश्यकता है। उसके साथ, हम यह कर सकते हैं!

 

बुद्धि और समझ

1373 में, जब नॉर्विच की जूलियन तीस वर्ष की थी, वह बीमार हो गई और लगभग मर गई थी। जब उसके पादरी ने उसके साथ प्रार्थना की, तो उसने कई दर्शनों का अनुभव किया जिसमें उसने यीशु को सूली पर चढ़ाए जाने पर विचार किया। चमत्कारिक रूप से अपना स्वास्थ्य ठीक होने के बाद, उसने अगले बीस साल चर्च के एक साइड रूम में एकांत में रहने, प्रार्थना करने और अनुभव के बारे में सोचने में बिताए। उसने निष्कर्ष निकाला कि “प्रेम उसका प्रयोजन  था” अर्थात्– मसीह का बलिदान परमेश्वर के प्रेम की सर्वोच्च अभिव्यक्ति है।

जूलियन के रहस्योद्घाटन प्रसिद्ध हैं, लेकिन लोग अक्सर जिस चीज को नजरअंदाज कर देते हैं, वह समय और प्रयास है जिसे उसने प्रार्थना के साथ बिताये थे वह जानने के लिये जो परमेश्वर ने उसे बताया था। उन दो दशकों में उसने यह समझने की कोशिश की कि उसकी उपस्थिति के इस अनुभव का क्या अर्थ है, जब उसने उससे उसकी बुद्धि और मदद माँगी।

जैसा कि उसने जूलियन के साथ किया था, परमेश्वर अनुग्रहपूर्वक स्वयं को अपने लोगों पर प्रकट करता है, जैसे कि बाइबिल के वचनों के द्वारा,  उसकी शांत छोटी आवाज एक गीत के माध्यम से, या यहाँ तक कि केवल उसकी उपस्थिति के प्रति जागरूकता से। जब ऐसा होता है, तो हम उसकी बुद्धि और सहायता प्राप्त कर सकते हैं। यह वह बुद्धि है जिसे राजा सुलैमान ने अपने पुत्र को यह कहते हुए अनुकरण करने का निर्देश दिया था कि वह अपना कान बुद्धि की ओर लगाए, और अपना हृदय समझ की ओर लगाए (नीतिवचन 2:2)। तब वह परमेश्वर के ज्ञान को प्राप्त करेगा (पद 5)।

परमेश्वर हमें विवेक और समझ देने का वादा करता है। जैसे–जैसे हम उसके चरित्र और तरीकों के बारे में गहन ज्ञान में बढ़ते हैं, हम उसका सम्मान कर सकते हैं और उसे समझ सकते हैं।

 

इससे बड़ा प्रेम नहीं

2021 में भारत छोड़ो आंदोलन की उन्नासवीं वर्षगांठ के स्मरणोत्सव ने उन स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित किया जिन्होंने निस्संदेह देश और उसके लोगों के लिए अपना जीवन दिया। 8 अगस्त 1944 को, भारत छोड़ो आंदोलन का आरम्भ करते हुये गांधी जी ने अपना प्रसिद्ध भाषण “करो या मरो” दिया। गांधी जी ने व्यक्त किया “हम या तो भारत को मुक्त कर देंगे या इस प्रयास में मर जाएंगे; हम अपनी गुलामी की स्थिति को देखने के लिए जीवित नहीं रहेंगे।”

बुराई को रोकने और उत्पीड़ितों को मुक्त करने के लिए अपने आप को नुकसान पहुँचाने की इच्छा, यीशु के शब्दों को याद दिलाती है, “इस से बड़ा प्रेम किसी का नहीं, कि कोई अपने मित्रों के लिये अपने प्राण दे।” (यूहन्ना 15:13)। ये शब्द मसीह को अपने अनुयायियों को एक दूसरे से प्रेम करना सिखाने के समय आते हैं। लेकिन वह चाहता था कि वे इसकी कीमत, और इस प्रकार के प्रेम की गहराई को समझें– एक प्रेम का उदाहरण जब कोई स्वेच्छा से किसी अन्य व्यक्ति के लिए अपने जीवन का बलिदान करता है। दूसरों से बलिदानी प्रेम करने के लिए यीशु का आह्वान एक दूसरे से प्रेम करने की उसकी आज्ञा का आधार है (पद 17)।

शायद हम परिवार के एक बुज़ुर्ग सदस्य की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए समय देकर बलिदान रूपी प्रेम दिखा सकते हैं। हम स्कूल में एक तनावपूर्ण सप्ताह के दौरान अपने भाई–बहनों का काम करके उनकी ज़रूरतों को सबसे पहले रख सकते हैं। हम अपने पति या पत्नी को सोने की अनुमति देने के लिए बीमार बच्चे के साथ अतिरिक्त शिफ्ट भी ले सकते हैं। जब हम दूसरों से प्रेम करते हैं, तो हम प्रेम की सबसे बड़ी अभिव्यक्ति प्रदर्शित करते हैं।

 

 

वह मेरे दिल को जानता है

एक किराने की दुकान पर एक ग्राहक द्वारा अपना लेन–देन पूरा करने के बाद,  मैं बिलिंग काउंटर पर गया, और अपने सामान का भुगतान करने के लिए आगे बढ़ा। एकाएक एक क्रोधित स्त्री से मेरा सामना हुआ। मैं यह नहीं देख सका कि वह वास्तव में चेकआउट के लिए कतार में थी। अपनी गलती को स्वीकार करते हुए मैंने ईमानदारी से कहा, “मुझे क्षमा करें।” उसने जवाब दिया (हालांकि इन शब्दों तक सीमित नहीं) “नहीं, तुम नहीं हो”

क्या आपने कभी खुद को ऐसी स्थिति में पाया है जहां आप गलत थे,  आपने इसे स्वीकार किया, और चीजों को सही करने की कोशिश की—केवल फटकार सुनने के लिए? गलत समझा जाना या गलत राय लगाया जाना अच्छा नहीं लगता और हम उन लोगों के जितने करीब होते हैं, जो हमें ठेस पहुँचाते हैं या जिन्हें हमें ठेस पहुँचाते हैं,  उतना ही अधिक दुख होता है। हम तो चाहते हैं कि वे हमारे दिलों को देख सकें!

यशायाह 11:1–5 में भविष्यवक्ता यशायाह द्वारा दिया गया चित्र पूर्ण न्याय के लिए बुद्धि के साथ परमेश्वर द्वारा नियुक्त एक शासक का है। “वह अपनी आंखों से जो कुछ देखता है, उसका न्याय नहीं करेगा, और जो वह अपने कानों से सुनता है, उसके द्वारा निर्णय नहीं करेगा, परन्तु वह दरिद्र का न्याय धर्म से करेगा, और पृय्वी के कंगालों का न्याय सच्चाई से करेगा” (पद 3--4)। यह यीशु के जीवन और सेवकाई में पूरा हुआ। यद्यपि हमारी पापपूर्णता और दुर्बलता में हम हमेशा इसे ठीक नहीं कर पाते हैं, हम यह निश्चय कर सकते हैं कि स्वर्ग का सब कुछ देखने और सब कुछ जानने वाला परमेश्वर हमें पूरी तरह से जानता है और हमारा न्याय सही ढंग से करता है।