माह: अगस्त 2022

सही रास्तों को पहचानना

किसी ने विश्वास नहीं किया होगा कि सोलह वर्षीय ब्राजीलियाई स्केटबोर्डर फेलिप गुस्तावो "ग्रह पर सबसे प्रसिद्ध स्केटबोर्डर्स में से एक" बन जाएगा। गुस्तावो के पिता का मानना ​​था कि उनके बेटे को पेशेवर रूप से स्केटिंग के अपने सपने को पूरा करने की जरूरत है, लेकिन उनके पास पैसे नहीं थे। इसलिए उनके पिता ने अपनी कार बेच दी और अपने बेटे को फ्लोरिडा में एक प्रसिद्ध स्केटिंग प्रतियोगिता में ले गए। गुस्तावो के बारे में किसी ने नहीं सुना था। . . जब तक वह जीते नहीं। और जीत ने उन्हें एक अद्भुत करियर में पहुँचा दिया।

गुस्तावो के पिता में अपने बेटे के दिल और जुनून को देखने की क्षमता थी। "जब मैं एक पिता बनूँ ," गुस्तावो ने कहा, "मैं चाहता हूँ की मैं कम से कम वो ५ प्रतिशत बन पाऊ जो मेरे पिता मेरे लिए थे।

नीतिवचन वर्णन करता है उस अवसर का जो माता-पिता के पास होता है जिसमें वें अपने बच्चों को यह पहचानने में मदद करे कि परमेश्वर ने उनके दिल, ऊर्जा और व्यक्तित्व को किस विशेष तरह से तैयार किया है—और फिर उन्हें उस पथ की ओर निर्देशित और प्रोत्साहित करे जो दर्शाता है कि परमेश्वर ने उन्हें क्या होने के लिए बनाया है। लेखक ने कहा, "बच्चों को उसी मार्ग की शिक्षा दे जिस में उसको चलना चाहिए, और वह बुढ़ापे में भी उस से न हटेगा" (२२:६)।

हमारे पास हो सकता है विशाल संसाधन या गहन ज्ञान न हो। पर, परमेश्वर की बुद्धि (वव. १७-२१) और हमारे चौकस प्रेम के साथ, हम अपने ही प्रभाव क्षेत्र में अपने बच्चों और अन्य बच्चों को एक बहुत बड़ा उपहार दे सकते हैं। हम उन्हें परमेश्वर पर भरोसा और उन रास्तों को जिनका वे जीवन भर अनुसरण कर सकते हैं  पहचानने में मदद कर सकते है (३:५-६)।

जाने देने की ताकत

कभी विश्व के सबसे मजबूत व्यक्ति के रूप में जाने जाने वाले, अमेरिकी भारोत्तोलक पॉल एंडरसन ने एक गंभीर आंतरिक कान के संक्रमण और १०३ डिग्री बुखार के बावजूद, ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में १९५६ के ओलंपिक में विश्व रिकॉर्ड बनाया। सबसे आगे चलने वालों से पीछे छूटते हुए, स्वर्ण पदक के लिए उनका एकमात्र मौका अपने आखिरी आयोजन में एक नया ओलंपिक रिकॉर्ड स्थापित करना था। उसके पहले दो प्रयास बुरी तरह विफल रहे।

इसलिए, इस भारी एथलीट ने वही किया जो हममें से सबसे कमजोर भी कर सकता है। उसने अपनी शक्ति को त्यागते हुए, परमेश्वर को अतिरिक्त शक्ति के लिए पुकारा। जैसा कि उन्होंने बाद में कहा, "यह कोई सौदा नहीं था। मुझे मदद की आवश्यकता थी।" अपने अंतिम लिफ्ट के दौरान, उन्होंने अपने सिर पर ४१३.५ पाउंड (१८७. ५ किलोग्राम) उठाया।

मसीह के प्रेरित पौलुस ने लिखा, "जब मैं निर्बल होता हूं, तब बलवन्त होता हूं" (२ कुरिन्थियों १२:१०)। पौलुस आत्मिक शक्ति की बात कर रहा था, परन्तु वह जानता था कि परमेश्वर की सामर्थ "निर्बलता में सिद्ध होती है" (पद ९)।

जैसा कि भविष्यवक्ता यशायाह ने घोषणा की, "[यहोवा] थके हुए को बल देता है, और निर्बलों को बल देता है" (यशायाह ४०:२९)।

ऐसी ताकत को पाने का रास्ता क्या था? यीशु में बने रहना। उसने कहा, "मुझसे अलग होकर तुम कुछ नहीं कर सकते" (यूहन्ना १५:५)। जैसा कि भारोत्तोलक एंडरसन ने अक्सर कहा, "यदि दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति यीशु मसीह की शक्ति के बिना एक दिन भी नहीं रह सकता है - तो यह आपको कहाँ छोड़ता है?" यह पता लगाने के लिए, हम अपनी स्वयं की भ्रामक शक्ति पर अपनी निर्भरता को छोड़कर, परमेश्वर से उसकी शक्तिशाली और प्रबल मदद मांग सकते हैं।

परमेश्वर से प्रेम और उस पर झुकना

सुनील मजाकिया, स्मार्ट और लोकप्रिय था। लेकिन गुप्त रूप से वह डिप्रेशन से जूझ रहा था। पंद्रह साल की उम्र में उसके आत्महत्या करने के बाद, उसकी माँ प्रतिभा ने उसके बारे में कहा, "यह समझना मुश्किल है कि कोई व्यक्ति जिसके लिए इतना कुछ हो रहा था वह उस मुकाम पर कैसे आगया। सुनील . . आत्महत्या से अछूता नहीं था। "एकांत के कुछ ऐसे क्षण होते थे जब प्रतिभा अपना दुःख परमेश्वर के सामने उँड़ेलती थी। वह कहती है कि आत्महत्या के बाद का गहरा दुख "दुख का एक अलग स्तर" है। फिर भी उसने और उसके परिवार ने सामर्थ के लिए परमेश्वर और दूसरों पर निर्भर रहना सीख लिया था, और अब वें ऐसे लोगों से प्रेम करने में अपना समय उपयोग करते है जो अवसाद से जूझ रहे हैं।

प्रतिभा का सिद्धांत अब "प्रेम और निर्भरता" बन गया था। यह विचार पुराने नियम की रूत की कहानी में भी देखा जाता है। नाओमी ने अपने पति और दो पुत्रों को खो दिया—एक जिसका विवाह रूत से हुआ था (रूत १:३-५)। नाओमी, कटु  और उदासी से भरी, रूत से अपनी माँ के परिवार में लौटने का आग्रह किया जहाँ उसकी देखभाल की जा सकती थी। रूत, हालांकि दुख में थी, पर अपनी सास से "चिपकी रही" और उसके साथ रहने और उसकी देखभाल करने के लिए प्रतिबद्ध थी (वव. १४-१७)। वे नाओमी की मातृभूमि बेतलेहेम लौट आए, जहाँ रूत एक परदेशी थी। परन्तु प्रेम और निर्भरता के लिए उनके पास एक दूसरे का साथ था, और परमेश्वर ने उनके लिए प्रयोजन किया (२:११-१२)।

हमारे दुःख के समय में, परमेश्वर का प्रेम स्थिर रहता है। वह हमेशा हमारे पास है की हम उस पर निर्भर रह सके जैसे हम भी उसकी सामर्थ द्वारा दूसरों पर निर्भर रहते और उनसे प्रेम करते हैं।

हमें यीशु की मदद चाहिए

सुनील मजाकिया, स्मार्ट और लोकप्रिय था। लेकिन गुप्त रूप से वह डिप्रेशन से जूझ रहा था। पंद्रह साल की उम्र में उसके आत्महत्या करने के बाद, उसकी माँ प्रतिभा ने उसके बारे में कहा, "यह समझना मुश्किल है कि कोई व्यक्ति जिसके लिए इतना कुछ हो रहा था वह उस मुकाम पर कैसे आगया। सुनील . . आत्महत्या से अछूता नहीं था। "एकांत के कुछ ऐसे क्षण होते थे जब प्रतिभा अपना दुःख परमेश्वर के सामने उँड़ेलती थी। वह कहती है कि आत्महत्या के बाद का गहरा दुख "दुख का एक अलग स्तर" है। फिर भी उसने और उसके परिवार ने सामर्थ के लिए परमेश्वर और दूसरों पर निर्भर रहना सीख लिया था, और अब वें ऐसे लोगों से प्रेम करने में अपना समय उपयोग करते है जो अवसाद से जूझ रहे हैं।

प्रतिभा का सिद्धांत अब "प्रेम और निर्भरता" बन गया था। यह विचार पुराने नियम की रूत की कहानी में भी देखा जाता है। नाओमी ने अपने पति और दो पुत्रों को खो दिया—एक जिसका विवाह रूत से हुआ था (रूत १:३-५)। नाओमी, कटु  और उदासी से भरी, रूत से अपनी माँ के परिवार में लौटने का आग्रह किया जहाँ उसकी देखभाल की जा सकती थी। रूत, हालांकि दुख में थी, पर अपनी सास से "चिपकी रही" और उसके साथ रहने और उसकी देखभाल करने के लिए प्रतिबद्ध थी (वव. १४-१७)। वे नाओमी की मातृभूमि बेतलेहेम लौट आए, जहाँ रूत एक परदेशी थी। परन्तु प्रेम और निर्भरता के लिए उनके पास एक दूसरे का साथ था, और परमेश्वर ने उनके लिए प्रयोजन किया (२:११-१२)।

हमारे दुःख के समय में, परमेश्वर का प्रेम स्थिर रहता है। वह हमेशा हमारे पास है की हम उस पर निर्भर रह सके जैसे हम भी उसकी सामर्थ द्वारा दूसरों पर निर्भर रहते और उनसे प्रेम करते हैं।