Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by Con Campbell

बुद्धिमान सलाह सुनना

अमेरिकी गृहयुद्ध के दौरान,  राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन एक बार खुद को एक राजनेता को खुश करते हुए पाया, तो उन्होंने कुछ केंद्रीय सेना रेजिमेंटों(सैन्य दलों) को स्थानांतरित करने का आदेश जारी किया l जब युद्ध के सचिव,  एडविन स्टैंटन को आदेश मिला,  तो उन्होंने इसे अंजाम देने से इनकार कर दिया l उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति मूर्ख थे l लिंकन को बताया गया कि स्टैंटन ने क्या कहा था,  और उन्होंने उत्तर दिया : “अगर स्टैंटन ने कहा कि मैं मूर्ख हूँ,  तो मुझे होना चाहिए,  क्योंकि वे लगभग हमेशा सही है l मैं अपने लिए देखूँगा l”  जब दोनों लोगों ने बात की,  राष्ट्रपति ने जल्द समझ लिया कि उनका निर्णय एक गंभीर गलती थी,  और बिना किसी हिचकिचाहट के उन्होंने इसे वापस ले लिया l यद्यपि स्टैंटन ने लिंकन को मूर्ख कहा था,  लेकिन जब स्टैंटन उनसे असहमत थे,  तो राष्ट्रपति ने अड़ियल ढंग से इन्कार न करके बुद्धिमान साबित हुए l इसके बजाय,  लिंकन ने सलाह सुनी,  उस पर विचार किया और अपना विचार बदल दिया l

क्या आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति का सामना किया है जो महज बुद्धिमान सलाह नहीं सुनता था? (1 राजा 12:1-11 देखें) l यह क्रोधित करनेवाला हो सकता है,  क्या यह नहीं हो सकता?  या, और भी व्यक्तिगत,  क्या आपने कभी सलाह मानने से इनकार किया है?  जैसा कि नीतिवचन 12:15 कहता है, “मूढ़ को अपनी ही चाल सीधी जान पड़ती है, परन्तु जो सम्मति मानता, वह बुद्धिमान है l लोग हमेशा सही नहीं हो सकते,  लेकिन हमारे लिए भी वैसा ही है! यह जानते हुए कि हर कोई गलतियाँ करता है,  केवल मूर्ख यह मानते हैं कि वे अपवाद हैं l इसके बजाय,  आइए ईश्वरीय बुद्धिमत्ता का अभ्यास करें और दूसरों के बुद्धिमान सलाह सुने ─भले ही हम शुरू में असहमत हों l कभी-कभी परमेश्वर हमारे अच्छे (पद. 2) के लिए ऐसे ही काम करता है l

मुर्खता से सीखना

एक व्यक्ति किराने की दुकान में  गया, उसने काउंटर पर 500 रुपये रखे और रेजगारी देने को कहा l  जब दुकानदार ने नकद दराज खोली, तो आदमी ने एक बंदूक खींची और रजिस्टर में दर्ज पूरी नकदी मांगी, जो दुकानदार ने तुरंत दे दी l व्यक्ति ने क्लर्क से कैश लिया और काउंटर पर रखे पांच सौ रुपये के नोट को छोड़कर फरार हो गया  l दराज से उसे कुल कितनी नकदी मिली? तीन सौ रुपये  l

हम सभी मूर्खतापूर्ण कार्य करते हैं─भले ही, इस चोर के विपरीत, हम सही काम करने की कोशिश करते हैं l कुंजी यह है कि हम अपने मूर्ख व्यवहार से कैसे सीखते हैं  l सुधार के बिना, हमारे खराब चुनाव आदत बन सकते हैं, जो हमारे चरित्र को नकारात्मक रूप से आकार देंगे  l हम “मूर्ख [बन जाएंगे . . . जिसकी] समझ काम नहीं देती” (सभोपदेशक 10:3) l

कभी-कभी अपनी मूर्खता को स्वीकार करना कठिन होता है क्योंकि इसके लिए अतिरिक्त काम की आवश्यकता होती है  l शायद हमें एक विशेष चरित्र दोष पर विचार करना हो और यह पीड़ादायक है l   या शायद हमें यह स्वीकार करना हो कि एक निर्णय जल्दबाजी में किया गया था और अगली बार हमें अधिक ध्यान रखना चाहिए  l कारण जो भी हो,  अपने मूर्खतापूर्ण तरीकों को अनदेखा करने की कीमत बड़ी होती है l

शुक्र है, परमेश्वर हमारी मूर्खता का उपयोग अनुशासन और हमें आकार देने के लिए कर सकता है l  अनुशासन “आनंद [का] नहीं,” लेकिन इसके अभ्यास से लंबे समय में अच्छे फल मिलते हैं (इब्रानियों 12:11)  l आइए अपने मूर्खतापूर्ण व्यवहार के लिए हमारे पिता के अनुशासन को  स्वीकार करें और उससे हमें और अधिक वैसे पुत्र और पुत्रियाँ बनाने के लिए कहें जैसा वह चाहता है कि हम बनें l

पिता को जानना

दंतकथा के अनुसार, ब्रिटिश संगीत निदेशक सर थॉमस बीचम ने एक बार होटल के उपकक्ष में एक प्रतिष्ठित दिखने वाली महिला को देखा l यह मानते हुए कि वह उसे जानता है लेकिन उसका नाम याद नहीं कर पा रहा था, वह उसके साथ बात करने के लिए रुक गया l जैसा कि दोनों ने बातचीत की, उसने अस्पष्ट रूप से याद किया कि उसका एक भाई था l एक सुराग की उम्मीद करते हुए, उसने पूछा कि उसका भाई कैसा है और क्या वह अभी भी उसी काम में लगा हुआ है l “ओह, वह बहुत अच्छा है,” वह बोली, "और अभी भी राजा है l”
गलत पहचान का मामला शर्मनाक हो सकता है, जैसा कि सर बीचम के लिए था l लेकिन अन्य समय में यह अधिक गंभीर हो सकता है, जैसा कि यीशु के शिष्य फिलिप्पुस के लिए था l शिष्य यीशु को जानता था, जी हाँ, लेकिन वह पूरी तरह समझ नहीं पाया था कि वह कौन है l वह चाहता था कि यीशु “[उन्हें] पिता को दिखा [दे]” और यीशु ने उत्तर दिया, “जिसने मुझे देखा है उसने पिता को देखा है” (यूहन्ना 14:8-9) l परमेश्वर के अद्वितीय पुत्र के रूप में, यीशु पिता को पूरी तरह से प्रकट करता है कि एक को जानना दूसरे को जानना है (पद.10-11) l
अगर हमें कभी उत्सुकता होती है कि परमेश्वर अपने चरित्र, व्यक्तित्व, या दूसरों की परवाह करने में कैसा है, तो हमें जानने के लिए केवल यीशु की ओर देखने की ज़रूरत है l यीशु का चरित्र, दया, प्रेम और करुणा परमेश्वर का चरित्र प्रगट करते हैं l और यद्यपि हमारा अद्भुत, विस्मयकारी परमेश्वर हमारी पूरी समझ और बोध से परे है, यीशु में स्वयं के बारे में उसने जो प्रगट किया है उसमें हमारे पास एक जबरदस्त उपहार है l

अनुग्रह द्वारा सामर्थी

अमेरिकी गृह युद्ध के दौरान, कर्तव्य छोड़कर भागने का दण्ड फांसी थी l लेकिन संघ की सेनाओं ने शायद ही कभी भागनेवालों को मृत्युदंड दिया, क्योंकि उनके कमांडर-इन-चीफ अब्राहम लिंकन ने उन सभी को माफ कर दिया था l इसने युद्ध के सचिव, एडविन स्टेनटन को व्यथित किया, जिनका यह मानना था कि लिंकन की उदारता भावी भागनेवालों को केवल प्रलोभित किया l लेकिन लिंकन ने उन सैनिकों के साथ सहानुभूति व्यक्त की, जिन्होंने अपनी साहस खो दी थी और जिन्होंने लड़ाई की ताप में अपने डर से हार मान लिया था l और उसकी सहानुभूति ने उसे उसके सैनिकों के लिए प्रिय बनाया l वे अपने “फादर अब्राहम” से प्यार करते थे, और उनके स्नेह ने सैनिकों को लिंकन की और अधिक सेवा करने की इच्छा दी l
जब पौलुस तीमुथियुस को “मसीह यीशु के एक अच्छे योद्धा के समान” उसके साथ “दुःख” उठाने के लिए बुलाता है (2 तीमुथियुस 2:3), तो वह उसे कठिन काम विवरण(job description) के लिए बुलाता है l एक सैनिक को पूरी तरह से समर्पित, कड़ी मेहनत करने वाला और निस्वार्थ होना चाहिए l उसे अपने कमान ऑफिसर, यीशु की सेवा पूरे हृदय से करना है l लेकिन वास्तव में, हम कभी-कभी उसके अच्छे सैनिक बनने में असफल होते हैं l हम हमेशा उसकी सेवा ईमानदारी से नहीं करते हैं l और इसलिए पौलुस का आरंभिक वाक्यांश महत्वपूर्ण है : “उस अनुग्रह से जो मसीह यीशु में है बलवंत हो जा” (पद.1) l हमारा उद्धारकर्ता अनुग्रह से भरा हुआ है l वह हमारी कमजोरियों में सहानुभूति रखता है और हमारी असफलताओं को क्षमा करता है (इब्रानियों 4:15) l और जिस तरह लिंकन की करुणा ने संघ के सैनिकों को प्रोत्साहित किया, उसी तरह यीशु के अनुग्रह से विश्वासियों को बल मिलता है l हम उसकी और अधिक सेवा करना चाहते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि वह हमसे प्यार करता है l