Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by जेम्स बैंक्स

उदारतापूर्वक दिया गया एवं साझा किया गया

जब मेरी पत्नी और मैंने अपनी उच्च शिक्षा पूरी की, हम पर बहुत अधिक कर्ज था जिसे हमें कम ब्याज दर के साथ देना ज़रूरी था l हमने स्थानीय बैंक में ऋण के लिए आवेदन किया था लेकिन हमें अस्वीकार कर दिया गया क्योंकि हम लम्बे समय से उस शहर में नहीं रहे थे या काम नहीं किये थे l कुछ दिनों बाद, जो कुछ मेरे साथ हुआ था मैंने अपने मित्र के साथ साझा  किया जो हमारे चर्च में एक वृद्ध व्यक्ति था l “मैं यह बात अपनी पत्नी से कहना चाहूँगा,” उसने कहा l 

कुछ घंटो बाद फोन की घंटी बजी l यह मेरा मित्र था : “मेरी पत्नी और मैं आपको व्याज मुक्त, आपकी ज़रूरत का पैसा उधार देना चाहेंगे,” उन्होंने प्रस्ताव रखा l मुझे नहीं पता था कि क्या  कहूँ, इसलिए मैंने ने उत्तर दिया, “मैं आपसे यह नहीं मांग सकता l” ”आप नहीं मांग रहे हैं!” मेरे मित्र ने ख़ुशी से उत्तर दिया l उन्होंने सहजता से हमें ऋण दिया, और मैंने और मेरी पत्नी ने जितनी जल्दी हो सकता था उसे वापस कर दिया l 

मेरा मानना है कि ये मित्र परमेश्वर के प्रति अपने प्रेम के कारण उदार थे l जैसा कि पवित्रशास्त्र हमें बताता है, “जो पुरुष अनुग्रह करता और उधार देता है, उसका कल्याण होता है, वह न्याय में अपने मुकदमे को जीतेगा” (भजन 112:5) l जो लोग परमेश्वर पर भरोसा करते हैं उनके पास “भरोसा रखने वाला” और “संभला हुआ” हृदय होता है (पद.7-8), यह समझते हुए कि वह उनके जीवन में हर अच्छी चीज़ का श्रोत है l 

परमेश्वर हमारे प्रति उदार रहा है, उसने हमें जीवन और क्षमा दी है l आइये ज़रूरतमंद लोगों के साथ उनके प्यार और हमारे संसाधनों को ससझा करने में उदार बने l 

 

यीशु का अधिकार

 हलाकि यीशु ने मेरे बेटे ज्योफ को वर्षों के नशीले द्रव्यों के सेवन से मुक्त कर दिया था, तब भी मुझे चिंताएँ थीं। हमने साथ में बहुत कुछ झेला था और मेरा ध्यान कई बार परमेश्वर ने उसके लिए जो भविष्य में रखा था उसके बजाय उसके कठिन अतीत पर चला जाता। नशे की लत के बच्चों के माता-पिता अक्सर इसकी पुनरावृत्ति के बारे में चिंता करते हैं, और एक दिन एक पारिवारिक समारोह में, मैंने ज्योफ को एक तरफ खींचा। "याद रखना," मैंने उससे कहा, "हमारा एक बैरी है, और वह शक्तिशाली है।" "मुझे पता है, पिताजी," उसने जवाब दिया। "उसके पास शक्ति है, लेकिन उसके पास कोई अधिकार नहीं है।"

उस पल में, मुझे हमें हमारे पापों से बचाने और जब हम उसकी ओर देखते हैं तो हमारे जीवन को बदलने के लिए यीशु के अतुलनीय अधिकार की याद आई। तुरंत ही मैंने उनके स्वर्ग में अपने पिता के पास लौटने से कुछ समय पहले चेलों से कहे गए शब्दों के बारे में सोचा: “स्वर्ग और पृथ्वी पर सारा अधिकार मुझे दिया गया है। इसलिए जाओ. .” (मत्ती 28:18-19) ।

क्रूसित और जी उठे यीशु ने हमारे लिए एक मार्ग तैयार किया है जिसके द्वारा हम उसके पास आ सकते है बिना अपने अतीत की परवाह किए हुए। वह हमारे अतीत और हमारे भविष्य दोनों को सम्हालता है। क्योंकि उसने हमेशा हमारे साथ रहने का वादा किया है (पद 20), हम आश्वासित रह सकते है कि वह अपने उद्देश्यों को पूरा करेगा और हमारा जीवन उसके अटूट हाथों में है। यीशु हमें अद्वितीय आशा देता है, ऐसी आशा जिसे हम अपने तक ही सीमित नहीं रख सकते। शैतान और संसार के पास थोड़ी देर के लिए कुछ शक्ति हो सकती है, लेकिन "सारा अधिकार" हमेशा के लिए यीशु ही का है।

प्रशंसा की घाटी

कवि विलियम काउपर अपने जीवन के अधिकांश समय अवसाद से जूझते रहे। आत्महत्या के प्रयास के बाद,  उन्हें एक अस्पताल में रख दिया गया था। लेकिन वहाँ एक मसीही चिकित्सक की देखभाल के माध्यम से काउपर को यीशु में अपने मन से महत्वपूर्ण विश्वास आया। इसके तुरंत बाद, काउपर पादरी और स्तुति गीत लेखक जॉन न्यूटन से परिचित हो गए, जिन्होंने उन्हें अपने चर्च के लिए एक स्तुति गीत पर सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया। काउपर द्वारा लिखे गए स्तुति गीतों में "गॉड मूव्स इन ए मिस्टीरियस वे" था, जिसमें अनुभव की भट्टी से निकले ये शब्द शामिल हैं: "हे भयभीत संतों, साहसी बनो; जिन बादलों से तुम इतना डरते हो, वे दया से बड़े हैं और तुम्हारे सिर पर आशीष के रूप में टूट पड़ेंगे।”

काउपर की तरह, यहूदा के लोगों को भी अप्रत्याशित रूप से परमेश्वर की दया मिली। जैसे ही सेनाओं के एक गठबंधन ने उनके देश पर आक्रमण किया, राजा यहोशापात ने लोगों को प्रार्थना के लिए इकट्ठा किया। जैसे ही यहूदा की सेना आगे बढ़ी, अग्रिम पंक्ति के लोगों ने परमेश्वर की स्तुति की (2 इतिहास 20:21)। हमलावर सेनाओं ने खुद पर हमला कर दिया, और “कोई नहीं… बचा ।… इतनी लूट हुई कि उसे इकट्ठा करने में तीन दिन लग गए” (पद 24-25)।

चौथे दिन, वही स्थान जहां परमेश्वर के लोगों के खिलाफ एक शत्रुतापूर्ण आक्रमणकारी सेना एकत्र हुई थी, उसे बराका की घाटी (पद 26) कहा गया - शाब्दिक रूप से, "प्रशंसा की घाटी" या " आशीष" क्या बदलाव है! परमेश्वर की दया हमारी सबसे कठिन घाटियों को भी प्रशंसा के स्थानों में बदल सकती है जब हम उन्हें उन्हें सौंप देते हैं।

 

स्वामी या प्रबंधक (अधिकारी) ?

"क्या मैं स्वामी हूं या प्रबंधक?" एक अरबों डॉलर की कंपनी के सी.ई.ओ ने स्वयं से यह सवाल पूछा क्योंकि उन्होंने सोचा कि उनके परिवार के लिए सबसे बेहतर क्या है। बहुत अधिक धन के साथ आने वाले प्रलोभनों के बारे में चिंतित होकर, वह अपने उत्तराधिकारियों पर उस चुनौती का बोझ नहीं डालना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपनी कंपनी का स्वामित्व(मालिकाना हक़) छोड़ दिया और 100 प्रतिशत वोटिंग स्टॉक (मताधिकार वाले शेयर) एक ट्रस्ट (किसी अन्‍य व्‍यक्ति की संपति की देखभाल के लिए, की गई वैधानिक व्‍यवस्‍था) में रख दिया। यह मानते हुए कि उनके पास जो कुछ भी है वह परमेश्वर का है, जिन्होंने उनको यह निर्णय लेने में मदद की है, कि उनका परिवार वहाँ काम  करके अपनी जीविका कमा सकें और साथ ही भविष्य में मिले मुनाफ़े द्वारा मसीही सेवकाई में भी मदद कर सकें।

भजन संहिता 50:10 में, परमेश्वर अपने लोगों से कहते हैं “वन के सारे जीव-जन्तु और हज़ारों पहाड़ों के जानवर मेरे ही हैI” सभी चीज़ों के सृष्टिकर्ता के रूप में, परमेश्वर को हमसे कुछ भी नहीं चाहिए और न ही उन्हें कोई ज़रुरत ही है। वह कहते हैं। “मैं न तो तेरे घर से बैल न तेरे पशुशाला से बकरे लूँगा” (पद 9)। वे उदारतापूर्वक वह सब कुछ प्रदान करते है जो हमारे पास है और उनका उपयोग भी करते है, साथ ही जीविका कमाने के लिए शक्ति और क्षमता भी प्रदान करते है। क्योंकि वह करता है, जैसा कि भजन  हमें दिखाता है, वह हमारी हार्दिक आराधना के योग्य है। परमेश्वर सभी चीज़ों के स्वामी है लेकिन अपनी भलाई के कारण जब भी कोई उनके पास आता है तब उसके साथ रिश्ते में जुड़ने के लिए परमेश्वर स्वयं को भी समर्पित करने का निर्णय लेते है । “क्योंकि मनुष्य का पुत्र इसलिये नहीं आया, कि उस की सेवा टहल की जाए, पर इसलिये आया, कि आप सेवा टहल करे, और बहुतों की छुड़ौती के लिये अपना प्राण दे।" (मरकुस 10:45) जब हम उपहारों से अधिक महत्व उपहार देने वाले को देते हैं और उन उपहारों से उसकी सेवा करते हैं, तो हम उसमें सदैव आनंदित रह कर धन्य हो जाते हैं। 

यीशु के जूते पहनकर चलना

राजशाही के जूते पहनकर चलना कैसा होगा? बंदरगाह में कार्य करने वाली और नर्स की बेटी, एंजेला केली, जानती है l वह सम्राट के जीवन के अंतिम दो दशकों तक दिवंगत महारानी एलिज़ाबेथ की आधिकारिक ड्रेसर/सहायक भी थीं l उसकी जिम्मेदारियों में से एक उम्रदराज़ रानी के नए जूतों को पहनकर महल के मैदान में घूमना था l इसका एक कारण था : एक बुज़ुर्ग महिला के प्रति करुणा, जिसे कभी-कभी समारोहों में लम्बे समय तक खड़ा रहना पड़ता था l क्योंकि दोनों एक ही नाप के जूते पहनते थे, केली अपनी कुछ असुविधा से बचने में सफल रही l 

महारानी एलिज़ाबेथ की देखभाल में केली का व्यक्तिगत स्पर्श मुझे कुलुस्से(आधुनिक तुर्की का एक क्षेत्र) में चर्च के लिए पौलुस के गर्मजोशी भरे प्रोत्साहन के बारे में सोचने को विवश करता है : “बड़ी करुणा, और भलाई और दीनता, और नम्रता, और सहनशीलता धारण करो” (कुलुस्सियों 3:12) l जब हमारा जीवन यीशु पर “दृढ़/निर्मित” होता है (2:7), तो हम “परमेश्वर के चुने हुओं के समान . . . पवित्र और प्रिय” बन जाते हैं (3:12) l वह हमें हमारे “पुराने व्यक्तित्व” को उतारने और “नए व्यक्तित्व को [पहिनने]” में मदद करता है (पद.9-10)—उन लोगों की पहचान को जीने में जो दूसरों से प्यार करते हैं और माफ़ कर दिए हैं क्योंकि ईश्वर ने हमसे प्यार किया है हमें माफ़ कर दिया है (पद.13-14) l 

हमारे चारों ओर वे लोग हैं जिन्हें जीवन की दिन-प्रतिदिन की चुनौतियों में “उनके स्थान पर चलने” और उनके प्रति दया दिखाने की ज़रूरत है l जब हम ऐसा करते हैं, तो हम एक राजा—यीशु—के जूते(या सैंडल) पहनकर चलते हैं—जो हमेशा हमारे लिए दया रखता है l 

गिनने से परे प्यार

“मैं तुम्हें  किस तरह से प्यार करती हूं?मुझे तरीकों को गिनने दें।" पुर्तगाली भाषा में एलिजाबेथ बैरेट ब्राउनिंग के सॉनेट्स (गीत)के वे शब्द अंग्रेजी भाषा की सबसे प्रसिद्ध कविताओं में से हैं। उन्होंने इन्हें शादी से पहले रॉबर्ट ब्राउनिंग को लिखा था, और वह इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उन्हें अपनी कविताओं का पूरा संग्रह प्रकाशित करने के लिए प्रोत्साहित किया। लेकिन चूँकि सॉनेट की भाषा बहुत कोमल थी, व्यक्तिगत गोपनीयता की इच्छा से बैरेट ने उन्हें इस तरह प्रकाशित किया जैसे कि वे किसी पुर्तगाली लेखक के अनुवाद हों।

कभी-कभी जब हम खुलेआम दूसरों के प्रति स्नेह व्यक्त करते हैं तो हमें अजीब महसूस हो सकता है। लेकिन इसके विपरीत, बाइबल परमेश्वर के प्रेम की अपनी प्रस्तुति से पीछे नहीं हटती। यिर्मयाह ने अपने लोगों के प्रति परमेश्वर के स्नेह को इन कोमल शब्दों में वर्णित किया: “मैंनेतुमसेअनन्तप्रेमरखाहै;इस कारण मैं ने तुझ पर अपनी करूणा बनाए रखी है।” (यिर्मयाह31:3)। भले ही उसके लोग उससे दूर हो गए थे, फिर भी परमेश्वर ने उन्हें बहाल करने और व्यक्तिगत रूप से उन्हें अपने पास लाने का वादा किया। “मैं इस्राएल को विश्राम देने के लिये तैयार हुआ।"उसने उनसे कहा (पद 2)।

परमेश्वर के सबल बनानेवाला प्रेम की यीशु चरम अभिव्यक्ति हैं, जो उनके पास आने  वाले किसी भी व्यक्ति को शांति और आराम देते हैं। चरनी से लेकर क्रूस से लेकर खाली कब्र तक, वह एक भटकी हुई दुनिया को अपने पास बुलाने की परमेश्वर की इच्छा का प्रतीक है। बाइबल को शुरू से अंत तक पढ़ें और आप बार-बार परमेश्वर के प्रेम के "तरीके गिनेंगे"; लेकिन वे शाश्वत हैं, आप कभी भी उनके अंत तक नहीं पहुंचेंगे।

यीशु में नई पहचान

 “मैं अब वह नहीं हूं जो मैं एक बार था। अब मैं एक नया व्यक्ति हूं।" मेरे बेटे के वे सरल शब्द, जो एक स्कूल असेंबली में छात्रों से कहे गए थे, परमेश्वर द्वारा उसके जीवन में किए गए बदलाव का वर्णन करते हैं। एक बार हेरोइन के आदी होने के बाद, जेफ्री ने पहले खुद को अपने पापों और गलतियों के माध्यम से देखा। लेकिन अब वह खुद को परमेश्वर की संतान के रूप में देखता है।

बाइबल हमें इस प्रतिज्ञा के साथ प्रोत्साहित करती है: "सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्टि है : पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गईं।" (2 कुरिन्थियों 5:17)। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कौन हैं या हमने अपने अतीत में क्या किया है, जब हम अपने उद्धार के लिए यीशु पर भरोसा करते हैं और उनके क्रूस के माध्यम से दी गई क्षमा प्राप्त करते हैं, तो हम एक नए व्यक्ति बन जाते हैं। अदन की वाटिका के बाद से, हमारे पापों के अपराध ने हमें परमेश्वर से अलग कर दिया है, लेकिन अब उसने "मसीह के द्वारा अपने साथ हमारा मेल-मिलाप कर लिया," “[हमारे] अपराधों का दोष [हम पर] नहीं लगाया (पद.18-19)। हम उसकी प्रिय सन्तान हैं (1 यूहन्ना 3:1-2), धोए गए और उसके पुत्र की समानता में नए बनाए गए।

यीशु हमें पाप और उसकी प्रबल शक्ति से मुक्त करते हैं और हमें परमेश्वर के साथ एक नए रिश्ते में पुनर्स्थापित करते हैं——जहाँ हम अब अपने लिए नहीं बल्कि "उसके लिए जीने के लिए स्वतंत्र हैं जो हमारे लिए मर गया और फिर से जी उठा" (2 कुरिन्थियों 5:15) l  इस नए साल के दिन, आइए याद रखें कि उनका परिवर्तनकारी प्रेम हमें नई पहचान और उद्देश्य के साथ जीने के लिए विवश करता है। यह हमें दूसरों को हमारे उद्धारकर्ता की ओर इंगित करने में मदद करता है, जो उन्हें भी नया इंसान बना सकता है!

क्रिसमस का तारा

"यदि आपको वह तारा मिल जाए, तो आप हमेशा अपने घर का रास्ता खोज सकते हैं।" ये मेरे पिता के शब्द थे जब उन्होंने मुझे बचपन में उत्तर तारा(North Star) का पता लगाना सिखाया था। पिताजी ने युद्ध के दौरान सशस्त्र बलों में सेवा की थी, और ऐसे क्षण भी आए जब उनका जीवन रात के आकाश को देख अपना रास्ता ढूंढ़ने पर निर्भर था। इसलिए उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि मुझे कई नक्षत्रों के नाम और स्थान मालूम हों, लेकिन पोलारिस(Polaris/Pole Star/North Star) को ढूंढने में सक्षम होना सबसे अधिक महत्वपूर्ण था। उसके स्थान को जानने का मतलब था कि मैं जहां भी था दिशा का ज्ञान प्राप्त कर सकता था और यह जान सकता था कि मुझे कहां होना चाहिए था।

 

पवित्रशास्त्र एक और अत्यंत महत्वपूर्ण तारे के बारे में बताता है। “पूर्व के ज्योतिषी,” विद्वान लोग (वर्तमान के ईरान और इराक से घिरे क्षेत्र से) उस व्यक्ति के जन्म के संकेतों को आकाश में देख रहे थे जो अपने लोगों के लिए परमेश्वर का राजा बनने वाला था। वे यह पूछते हुए यरूशलेम आए “यहूदियों का राजा जिसका जन्म हुआ है, कहाँ है? क्योंकि हमने पूर्व में उसका तारा देखा है और उसको प्रणाम करने आए हैं” (मत्ती 2:1-2)। 

 

खगोलशास्त्रियों को यह पता नहीं कि बेथलहम का तारा क्यों प्रकट हुआ, लेकिन बाइबल बताती है  कि परमेश्वर ने इसे दुनिया को यीशु—“भोर का चमकता हुआ तारा” (प्रकाशितवाक्य 22:16) की ओर  इंगित करने के लिए बनाया था। मसीह हमें हमारे पापों से बचाने और हमें वापस परमेश्वर की ओर मार्गदर्शन करने के लिए आया। उसका अनुसरण करें, और आपको आपके घर का रास्ता मिल जाएगा।

पूर्वधारणा और परमेश्वर का प्रेम

“तुम वह नहीं हो जिसकी मैंने उम्मीद की थी । मैंने सोचा था कि मैं तुमसे नफरत करूंगा, लेकिन मैं नहीं करता।" युवक के शब्द कठोर लग रहे थे, लेकिन वे वास्तव में दयालु होने का एक प्रयास था। मैं विदेश में उनके देश में पढ़ रहा था, एक ऐसा देश जिसका दशकों पहले मेरे देश के साथ युद्ध हुआ था। हम कक्षा में एक सामूहिक चर्चा में एक साथ भाग ले रहे थे, और मैंने देखा कि वह बहुत पृथक लग रहा था। जब मैंने पूछा कि क्या मैंने उसे किसी तरह नाराज किया है, तो उसने जवाब दिया, "बिल्कुल नहीं। और यही बात है। उस युद्ध में मेरे दादाजी मारे गये थे इसलिए मुझे आपके लोगों और आपके देश से नफरत करता था। लेकिन अब मैं देखता हूं कि हमारे बीच कितनी समानताएं हैं, और यह मुझे आश्चर्यचकित करता है। मैं यह नहीं देख सकता कि हम दोस्त क्यों नहीं बन सकते।"

 

पूर्वधारणा मानव जाति जैसा ही पुराना है । दो हज़ार साल पहले, जब नतनएल ने पहली बार यीशु के नासरत में रहने के बारे में सुना, तो उसकी पूर्वधारणा स्पष्ट हो गयी : उसने पूछा, “क्या कोई अच्छी वस्तु भी नासरत से निकल सकती है?” (यूहन्ना 1:46) । नतनएल यीशु की तरह गलील के क्षेत्र में रहता था। संभवतः उसने सोचा था कि परमेश्वर का मसीहा किसी अन्य स्थान से आएगा; यहाँ तक कि अन्य गलीली लोगों ने भी नासरत को नीची दृष्टि से देखा क्योंकि यह एक साधारण छोटा सा गाँव लग रहा था।

 

इतना तो स्पष्ट है, नतनएल के प्रतिक्रिया ने यीशु को उससे प्रेम करने से नहीं रोका, और जब वह यीशु का शिष्य बना, वह बदल गया। नतनएल ने बाद में घोषणा किया “तू परमेश्‍वर का पुत्र हे;” (पद.49)। ऐसा कोई पूर्वधारणा नहीं है जो परमेश्वर के परिवर्तनकारी प्रेम के विरुद्ध खड़ा हो सके।