श्रेणी  |  odb

भण्डारीपन का विशेषाधिकार

छुट्टी के दौरान, मैं और मेरे पति इलियट समुद्र तट पर चल रहे थे, जब हमने कछुए के अंडों की टोकरियाँ देखीं। एक युवक ने समझाया कि उसने स्वयंसेवकों की एक टीम के साथ काम किया जो चेन्नई समुद्र तटों पर रात की सैर का आयोजन करती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि ओलिव रिडले कछुओं का अंडे सेना सुचारू रूप से हो। एक बार जब अंडे से बच्चा निकलने लगता है, तो जानवरों और मनुष्यों दोनों की उपस्थिति उनके लिए ख़तरा और उनके जीवित रहने की संभावना को कम कर देती है। "हमारे सभी प्रयासों के बावजूद," उन्होंने कहा, "वैज्ञानिकों का अनुमान है कि प्रत्येक हजार में से केवल एक ही वयस्कता तक पहुंचता है।" फिर भी , इन धूमिल संख्याओं ने इस युवक को हतोत्साहित नहीं किया। निःस्वार्थ रूप से अंडे में से निकलते बच्चों की सेवा करने के उसके जुनून ने समुद्री कछुओं का सम्मान करने और उनकी रक्षा करने की मेरी इच्छा को गहरा कर दिया। अब मैं एक समुद्री कछुआ पेंडेंट पहनता हूं जो परमेश्वर द्वारा दी गयी मेरी जिम्मेदारी को याद दिलाता है कि मैं उसके बनाए गए जीवों की देखभाल करुँ।

जब परमेश्वर ने संसार की रचना की, तो उसने एक ऐसा आवास प्रदान किया जिसमें प्रत्येक प्राणी रह सके और फल-फूल सके (उत्पत्ति १:२०-२५)। जब उसने अपने प्रतिरूपों को बनाया, तो परमेश्वर ने हमारे लिए यह इच्छा रखी थी हम "समुद्र की मछलियों, और आकाश के पक्षियों, और पशुओं, और सब जंगली जानवरों, और भूमि पर रेंगनेवाले सब प्राणियों पर अधिकार रखे(पद. २६)। वह हमारी सहायता करता है कि हम उसकी सेवा एक विश्वासयोग्य भण्डारी के रूप में कर सके उसकी विशाल रचना की चिंता करने के द्वारा जिन पर हमने उससे अधिकार पाया है।

जब प्रार्थना पृथ्वी को हिलाती है

डॉ. गैरी ग्रीनबर्ग ने दुनिया भर के समुद्र तटों से रेत को विस्तारित और उसकी तस्वीरें खींची है, जो अक्सर खनिजों, खोल, और मूंगा के टुकड़ों से रंग के आश्चर्यजनक, जीवंत बौछारे प्रकट करती है।

उन्होंने पाया है कि साधारण रीती से आखों को दिखने के अलावा रेत में और बहुत कुछ है। एरेनोलॉजी (रेत पर जांच) में, रेत की खनिज तत्व के सूक्ष्म विश्लेषण से कटाव, किनारे की धाराओं और समुद्र तट पर उनके संभावित प्रभावों के बारे में बहुत कुछ पता चल सकता है। थोड़ी सी रेत भी बड़ी कीमत की जानकारी दे सकती है!

एक प्रार्थना भी, रेत के दाने की तरह ही, एक भारी चीज हो सकती है। पवित्रशास्त्र परमेश्वर के राज्य के आने में प्रार्थना की शक्तिशाली भूमिका को दर्शाता है। प्रकाशितवाक्य ८ में, यूहन्ना एक स्वर्गदूत को अपने सिंहासन के सामने वेदी पर खड़ा देखता है, जिसके हाथ में एक सोने का धूपदान है जिसमें "परमेश्वर के सभी लोगों की प्रार्थनाएँ" हैं। “जब स्वर्गदूत ने धूपदान लेकर उसमें वेदी की आग भरी और पृथ्वी पर डाल दी; और गर्जन और शब्द और बिजलियाँ और भूकम्प होने लगे"(पद ३,५)।

जब स्वर्गदूत ने आग और प्रार्थना से भरे धूपदान को फेंका, तो सात स्वर्गदूतों ने सात तुरहियों के साथ "उन्हें फूंकने के लिए तैयार हुए" (पद ६), इस पुरानी पृथ्वी के अंतिम दिनों और मसीह की वापसी की घोषणा करते हुए।

कभी-कभी हमें ऐसा महसूस होता है कि हमारी प्रार्थनाओं से क्या ही कुछ ज्यादा फर्क पड़ जाएगा, लेकिन परमेश्वर एक को भी नहीं छोड़ता। वह उन्हें इतना महत्व देता है कि वे एक तरह से उसके राज्य की समाप्ति में भी भूमिका निभाती हैं। जो हो सकता है हमें सबसे छोटी प्रार्थना लगे उसके साथ वह पृथ्वी को हिला देने वाला भार हो सकती है!

जीवन देने वाला सुधार

श्रेया ने कहा, "दुर्भाग्य से, हमने हाल ही में बहुत कठिन बातचीत की थी।" "मुझे नहीं लगता कि हम दोनों में से किसी ने इसका आनंद लिया होगा, लेकिन मुझे वास्तव में लगा की उसके रवैये और कार्यों पर ध्यान देने की जरूरत है ताकि उसके आसपास के लोगों को चोट न पहुंचे।" श्रेया उस युवती के बारे में बात कर रही थी जिसकी वह एक सलहाकार है। हालांकि असुविधाजनक थी, पर उनकी बातचीत फलदायी रही और वास्तव में उनके रिश्ते को मजबूत किया। कुछ ही हफ्तों बाद, दोनों महिलाओं ने नम्रता के विषय पर साथ में एक चर्च-व्यापी प्रार्थना समय का नेतृत्व किया।

औपचारिक परामर्श संबंध के बाहर भी, हम मसीह में एक भाई या बहन के साथ कुछ कठिन बातचीत का सामना कर सकते है। नीतिवचन में, जो कालातीत ज्ञान से भरी पुस्तक है, सुधार देने और प्राप्त करने में नम्रता के  महत्व के विषय को दोहराती है। वास्तव में, रचनात्मक आलोचना को "जीवन देने वाला" कहा जाता है और यह सच्चे ज्ञान  की ओर ले जाता है (नीतिवचन १५:३१)। नीतिवचन १५:५ कहता है कि मूर्ख अनुशासन को ठुकराता है, परन्तु जो डाँट को मानता है, वह चतुर हो जाता है। स्पष्ट रूप से कहें, "जो सुधार से बैर रखता है, वह मर जाता है" (पद १०)। जैसा कि श्रेया ने देखा, प्रेम में बोला गया सच एक रिश्ते में नई जान ला सकता है।

क्या आपके जीवन में कोई है जिससे प्रेमपूर्ण, जीवनदायिनी सुधार की बात कही जानी चाहिए ? या हो सकता है कि आपको हाल ही में बुद्धिमान फटकार दी गई हो और आप क्रोध या उदासीनता के साथ जवाब देने की परीक्षा में पड़े हो। अनुशासन की अवहेलना करना स्वयं का तिरस्कार करना है, परन्तु जो डाँट को सुनता है, वह बुद्धि प्राप्त करता है (पद ३२)। आइए हम परमेश्वर से प्रार्थना करें की वह आज हमारी नम्रता के साथ सुधार देने और प्राप्त करने में सहायता करे।

इसमें एक साथ

जब कोविड -19 संकट आया तब  केली ब्रेन कैंसर से जूझ रही थी। फिर उसके दिल और फेफड़ों के आसपास तरल पदार्थ विकसित हो गया और उसे फिर से अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। महामारी के कारण उसका परिवार नहीं आ सका। उसके पति, डेव ने कुछ करने की ठानी।

प्रियजनों को एक साथ इकट्ठा करते हुए, डेव ने उन्हें बड़े चिन्ह बनाने के लिए कहा जिनमें सन्देश लिखें हो। उन सब ने ऐसा ही किया। मास्क पहने हुए, बीस लोग अस्पताल के बाहर सड़क पर खड़े थे और सन्देश पकड़े हुए थे: "सबसे अच्छी माँ!" "लव यू।" "हम आपके साथ हैं।"एक नर्स की मदद से केली चौथी मंजिल की खिड़की तक पहुँची। उनके पति ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, "हम केवल एक फेसमास्क और एक हाथ लहराते हुए देख पा रहे  थे, लेकिन यह एक सुंदर फेसमास्क और लहराता हुआ हाथ था।"

अपने जीवन के आखिरी दिनों में, प्रेरित पौलुस ने अकेलापन महसूस किया जब वह एक रोमी जेल में बंद था। उसने तीमुथियुस को लिखा, "जाड़ों से पहले आने का जतन करना" (2 तीमुथियुस 4:21)। फिर भी पौलुस पूरी तरह से अकेला नहीं था। उसने कहा, "मेरे पक्ष में तो प्रभु ने खड़े होकर मुझे शक्ति दी।” (पद 17)। और यह भी स्पष्ट है कि उसका अन्य विश्वासियों के साथ कुछ उत्साहजनक संपर्क था। उसने तीमुथियुस से कहा, "यूबुलुस, पूदेंस, लिनुस तथा क्लौदिया तथा और सभी भाईयों का तुझे नमस्कार पहुँचे।" (पद 21)।

हम समुदाय के लिए बनाए गए हैं, और जब हम संकट में होते हैं तो हम इसे सबसे अधिक उत्सुकता से महसूस करते हैं। आप किसी ऐसे व्यक्ति के लिए क्या कर सकते हैं जो आज पूरी तरह से अकेला महसूस कर रहा हो?

इसे अपना बनाएं, दोस्त

11 जून 2002 को गायन प्रतियोगिता अमेरिकन आइडल की शुरुआत हुई। हर हफ्ते, आशावादियों ने लोकप्रिय गीतों के अपने संस्करणों का प्रदर्शन किया, और दर्शकों ने मतदान किया कि प्रतियोगिता के अगले दौर में कौन आगे बढ़ेगा।

शो में पैनल जजों में से एक, रैंडी जैक्सन की सिग्नेचर फीडबैक यह तीखी टिप्पणी थी, “आपने उस गाने को अपना बना लिया दोस्त”। उन्होंने उस प्रशंसा की सराहना उस समय करी जब एक गायक ने एक परिचित धुन ली, इसे पूरी तरह से सीखा, और फिर इसे एक नए तरीके से प्रदर्शित किया जिसने इसे एक अद्वितीय, व्यक्तिगत रूप दिया। इसे अपना बनाना इसका पूरी तरह से और रचनात्मक रूप से स्वामित्व करना (अपनाना) था, और फिर इसे दुनिया को मंच पर पेश करना था।

पौलुस भी हमें कुछ ऐसा करने के लिए आमंत्रित करता है जो हमारे विश्वास और हमारी अभिव्यक्ति पर भी विश्वास करने के लिये है । फिलिप्पियों 3 में, वह परमेश्वर के सामने सही स्थिति में खड़े रहने के प्रयासों को अस्वीकार करता है (पद 7, 8)। इसके बजाय, वह हमें विश्वास के आधार पर परमेश्वर की ओर से आने वाली धार्मिकता को अपनाना सिखाता है (पद 9)। क्षमा और छुटकारे का वरदान हमारी प्रेरणा और लक्ष्यों को बदल देता है, “मैं उस उपलब्धि को पा लेने के लिये निरन्तर यत्न कर रहा हूँ जिसके लिये मसीह यीशु ने मुझे अपना बधुँआ बनाया था” (पद 12)।

यीशु ने हमारी विजय सुरक्षित कर ली है। अब हमारा काम  क्या है? उस सत्य को पकड़ने के लिए, परमेश्वर के सुसमाचार के उपहार को आंतरिक रूप देना और उसके साथ हमारी टूटी हुई दुनिया के बीच जीना। दूसरे शब्दों में, हमें अपने विश्वास को अपना बनाना है और ऐसा करने में जो हम पहले ही प्राप्त कर चुके हैं उस पर खरा उतरना है (पद 16)।