Our Authors

सब कुछ देखें

Articles by किर्स्टन होल्बर्ग

निकट के पड़ोसी

सोशल मीडिया हमारे पड़ोसियों और मित्रों और हमारे शहर और यहाँ तक कि दुनिया भर के लोगों से जुड़ने का एक सशक्त साथन बन गया है l बाढ़ और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के दौरान, यह भोजन, कपड़े और अन्य आवश्यक वस्तुओं के श्रोत का पता लगाने के लिए संसाधन बन गया है l इन्टरनेट की शक्ति का लाभ उठाकर, एक दूसरे के निकट रहने वाले लोग उन तरीकों से फिर से जुड़ रहे हैं जो आज की तेजी से भागते संसार में अक्सर खो जाते हैं l 

उन लोगों के साथ सम्बंधित होना जो निकट रहते हैं बहुत पहले राजा सुलैमान के दिनों में भी महत्वपूर्ण थे l जबकि पारिवारिक रिश्ते वास्तव में महत्वपूर्ण हैं और महान समर्थन का श्रोत हो सकते हैं, सुलैमान इंगित करता है कि एक मित्र की भूमिका महत्वपूर्ण है – खासकर “विपत्ति के दिनों” में (नीतिवचन 27:10) l सम्बन्धी अपने परिवार के सदस्यों और ऐसी परिस्थितयों में मदद की इच्छा के लिये गहराई से देखभाल कर सकते हैं l लेकिन अगर वे बहुत दूर हैं, तो उन क्षणों में बहुत कम कर सकते हैं जब विपत्ति आती है l हालाँकि, पड़ोसी, क्योंकि वे निकट हैं, जल्दी से ज़रूरत के बारे में पता करके अधिक आसानी से सहायता कर सकते हैं l 

क्योंकि तकनीक ने संसार भर में प्रियजनों के साथ जुड़े रहने के लिए पहले से कहीं अधिक आसान बना दिया है, हमें आस-पास रहने वाले लोगों को अनदेखा करने का प्रलोभन हो सकता है l यीशु, हमारे आसपास के लोगों के साथ संबंधों में निवेश करने में हमारी मदद करें!

आपके लिए भला

दुनिया भर में लोगों ने 2016 में चॉकलेट पर अनुमानित 9800 करोड़ रूपये खर्च किए l यह संख्या चौंकानेवाली है फिर भी एक ही समय में यह सब आश्चर्यजनक नहीं है l चॉकलेट, आखिरकार, स्वादिष्ट होता है और हम सब इसे चाव से खाते हैं l तो संसार सामूहिक रूप से आनंदित हुआ जब खाने की इस मीठी वस्तु में महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ भी पाए गए l चॉकलेट में फ्लेवोनॉयड्स (flavonoids-वनस्पति रसायन) पाए जाते हैं जो उम्रवृद्धि और हृदय रोग के विरुद्ध शरीर को सुरक्षित रखने में मदद करते हैं l कभी भी स्वास्थ्य के लिए कोई नुश्खा इतनी अच्छी तरह से स्वीकार नहीं किया गया है या उसको अम्ल में नहीं लाया गया है (संतुलन में, निश्चय ही!) l 

सुलैमान ने हमारे निवेश के योग्य एक और “मिष्ठान” का सुझाव दिया है : उसने अपने पुत्र को मधु खाने की सलाह दी “क्योंकि वह अच्छा है” (नीतिवचन 24:13) और उसकी तुलना ज्ञान से की l वह व्यक्ति जो पवित्रशास्त्र में परमेश्वर के ज्ञान का भोजन करता है, वह न केवल आत्मा के लिए मीठा नहीं है परन्तु शिक्षण और प्रशिक्षण के लिए लाभदायक होता है, जो हमें “हर एक भले कार्य के लिए तत्पर” बनाता है, जिसे हमें जीवन में पूरा करने की ज़रूरत है (2 तीमुथियुस 3:16-17) l 

बुद्धि वह है जो हमें बुद्धिमान चुनाव करने में और हमारे आसपास के संसार को समझने की अनुमति देती है l और यह उन लोगों में निवेश करने और उनके साथ साझा करने के लायक है जिन्हें हम प्यार करते हैं – जैसा कि सुलैमान ने अपने पुत्र के लिए करना चाहा l हम बाइबल में परमेश्वर के ज्ञान का भोज करने पर अच्छा महसूस कर सकते हैं l यह एक मीठा दावत है जिसका हम असीमित आनंद ले सकते हैं – वास्तव में, हमें इसके लिए प्रोत्साहित किया गया है! परमेश्वर, आपके वचन की मिठास के लिए धन्यवाद!

रद्द किये गए ऋण

2009 में, लॉस एंजल्स काउंटी(प्रान्त) ने परिवारों से शुल्क लेना बंद कर दिया जिनके बच्चे जेल में बंद थे l हालाँकि कोई नया शुल्क नहीं लिया गया, लेकिन निति में बदलाव से पहले  

जिन्होनें शुल्क नहीं चुकाया था उनको अपने ऋण चुकाना ज़रूरी था l उसके  बाद 2018 में काउंटी ने सभी बकाया वित्तीय दायित्वों को रद्द कर दिया l

कुछ परिवारों के लिए, उनके जीवित रहने के संघर्ष में ऋण के रद्दीकरण ने बहुत अधिक सहायता की; अब काउंटी का उनकी संपत्ति पर वैध अधिकार नहीं होना या उनकी मजदूरी/मेहनताना से उनको वंचित नहीं करने के कारण वे अपने लिए भोजन का बेहतर प्रबंध कर पाते थे l इस प्रकार की कठिनाई के कारण ही प्रभु ने प्रत्येक सात साल में कर्ज माफ़ करने का आह्वान दिया था (वव्यवस्थाविवरण 15:2) l वे नहीं चाहते थे कि लोग उनके द्वारा हमेशा के लिए पंगु हो जाएँ l

इसलिए कि इस्राएलियों को साथी इस्राएलियों (निर्गमन 22:25) को दिए गए ऋण पर ब्याज वसूलने की मनाही थी, पड़ोसी को उधार देने का उनका उद्देश्य लाभ प्राप्त करना नहीं था, बल्कि उन लोगों की मदद करना था, जो कठिन समय को सहन कर रहे थे, शायद एक खराब फसल l हर सात साल में ऋणों को स्वतंत्र रूप से माफ़ किया जाना था l परिणामस्वरूप, लोगों के बीच कम गरीबी होती (व्यवस्थाविवरण 15:4) l

आज, यीशु के विश्वासी इन नियमों से बंधे हुए नहीं हैं l लेकिन परमेश्वर कभी-कभार हमें किसी को कर्ज माफ़ करने के लिए प्रेरित कर सकता है ताकि जो लोग संगर्ष कर रहे हैं वे समाज के योगदान करनेवाले सदस्यों के रूप में नए सिरे से शुरु कर सकें l जब हम दूसरों पर ऐसी दया और उदारता दिखाते हैं, तो हम परमेश्वर के चरित्र को ऊंचा उठाते हैं और लोगों को आशा देते हैं l

पुरस्कार के लिए लक्ष्य

1994 की काल्पनिक फिल्म फ़ॉरेस्ट गंप में, फ़ॉरेस्ट दौड़ने के लिए प्रसिद्ध हो जाता है l जो “सड़क के अंत तक” धीरे-धीरे दौड़ने के रूप में प्रारंभ हुआ था तीन वर्ष, दो महीने, चौदह दिन और सोलह घंटे तक जारी रहा l हर बार जब वह अपने गन्तव्य तक पहुँचा, उसने एक नया लक्ष्य निर्धारित किया और संयुक्त राज्य अमेरिका भर में टेढ़ा-मेढ़ा दौड़ते हुए दौड़ना जारी रखा, एक दिन जब तक उसे अब ऐसा महसूस नहीं हुआ l “ऐसा महसूस हो रहा है” ही से उसकी दौड़ शुरू हुयी थी l फ़ॉरेस्ट कहते हैं, “उस दिन बिना किसी विशेष कारण से, मैंने छोटी दौड़ दौड़ने का फैसला किया l”

फ़ॉरेस्ट के प्रतीत होने वाले सनकी दौड़ के विपरीत, प्रेरित पौलुस अपने पाठकों से उसके उदहारण का अनुसरण करते हुए “ऐसे [दौड़ने को कहता है जिसमें जीत हो]”(1 कुरिन्थियों 9:24) l अनुशासित एथलीटों की तरह, हमारा दौड़ना – जिस तरह से हम अपना जीवन जीते हैं – का अर्थ हमारे कुछ सुखों को नकारना हो सकता है l अपने अधिकारों को त्यागने को तैयार रहना हमें दूसरों तक पाप और मृत्यु से हमारे बचाव का शुभ समाचार पहुंचाने में सहायता प्रदान कर सकती है l

अपने प्रशिक्षित हृदयों और मनों के साथ दूसरों को हमारे साथ दौड़ने के लक्ष्य के लिए आमंत्रित करना, हमें परम पुरस्कार अर्थात् परमेश्वर के साथ शाश्वत सहभागिता का भी आश्वासन देते हैं l परमेश्वर द्वारा वेजेता को दिया गया मुकुट सर्वदा तक रहेगा; हम उसकी सामर्थ्य पर निर्भर होकर उसको  प्रगट करने के लक्ष्य के साथ ऐसा करते हैं l दौड़ने के लिए कितना अच्छा कारण है!

स्ट्रीट टीम में शामिल हों

सैन फ्रैंसिस्को में शहर स्वास्थ्य कार्यकर्ता  नशीले पदार्थों (Opioid) के लत से पीड़ित बेघर लोगों के इलाज लिए दवाईयाँ उन तक पहुंचा रहे हैं l यह कार्यक्रम उन बेघर लोगों की बढ़ती संख्या के जवाब में आरम्भ हुआ जो नशेवाली दवा का इंजेक्शन लेते हैं l साधारणतया, डॉक्टर मरीजों के क्लिनिक में आने का इंतज़ार करते हैं l इसके बजाए स्वास्थ्य देखभाल पीड़ितों तक ले जाने से, मरीजों को परिवहन की चुनौतियों को पार करने की अथवा डॉक्टर के साथ नियोजित भेंट याद रखने की ज़रूरत नहीं पड़ती है l

स्वास्थ्य कर्मियों की आवश्यकतामंदों के पास जाना मुझे उस तरीके की याद दिलाता है जिस प्रकार यीशु हमारी ज़रूरत में हमारे पास आया l अपनी सेवकाई में, यीशु उन लोगों को तलाशा जिनकी उपेक्षा धार्मिक कुलीन वर्ग कर रहे थे : वह “पापियों और चुंगी लेनेवालों के साथ” भोजन किया (पद.16) l पूछे जाने पर कि क्यों वह ऐसा करता था, यीशु ने उत्तर दिया, “भले चंगों को वैध की आवश्यकता नहीं, परन्तु बीमारों को है” (पद.17) l उसने आगे कहा कि उसका इरादा धर्मियों को नहीं, पापियों को उसके साथ सम्बन्ध रखने के लिए बुलाना था l

जब हमें पता चलता है कि हम सभी “बीमार” हैं और डॉक्टर की ज़रूरत है (रोमियों 3:10), हम “पापियों और चुंगी लेनेवालों” अर्थात् हमारे साथ भोजन करने की यीशु की इच्छा को बेहतर ढंग से सराह सकते हैं l बदले में, सैन फ्रैंसिस्को में स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ताओं की तरह, यीशु ने हमें आवश्यकतामंद दूसरों तक उसका बचानेवाला सन्देश ले जाने के लिए “स्ट्रीट टीम” के रूप में नियुक्त किया है l

सच : कड़वा या मीठा

मेरे नाक पर साल के काफी समय तक एक दाग था जिस समय मैं डॉक्टर के पास गया l बायोप्सी का रिपोर्ट कुछ दिनों के बाद आया, जो मैं सुनना नहीं चाहता था l त्वचा(skin) कैंसर l यद्यपि यह कैंसर ऑपरेशन के लायक था और जीवन के लिए घातक नहीं था, लेकिन यह निगलने के लिए कड़वी गोली थी l  

परमेश्वर ने यहेजकेल को निगलने के लिए एक कड़वी गोली दी थी – विलाप और शोक की एक पुस्तक (यहेजकेल 2:10; 3:1-2) l उसे “अपनी अंतड़ियां इस से भर” लेनी थी और इस्राएल के लोगों के साथ जिन्हें परमेश्वर “निर्लज्ज और हठीले” लोग समझता था, के साथ  साझा करना था (2:4) l सुधार से भरी एक पुस्तक स्वाद के कोई एक कड़वी गोली की तरह हो सकती है l फिर भी यहेजकेल अपने मुँह में उसे “मधु के तुल्य मीठी” (3:3) होने का वर्णन करता है l  

ऐसा लगता है कि यहेजकेल ने परमेश्वर के सुधार के प्रति स्वाद अर्जित कर लिया था l उसकी ताड़ना को कुछ ऐसी चीज़ के रूप में देखने के बजाए जिससे बचा जा सके, यहेजकेल ने जाना कि जो आत्मा के लिए अच्छा है वह “मीठा है l” परमेश्वर हमें करुणा से सिखाते और सुधारते हुए उसे आदर और प्रसन्नता देने के योग्य जीवन जीने में सहायता करता है l

कुछ सच्चाईयाँ निगलने के लिए कड़वी गोली है जबकि दूसरी मीठी हैं l यदि हम याद करते हैं कि परमेश्वर हमसे कितना प्रेम करता है, उसकी सच्चाई मधु की स्वाद सी होगी l उसके वचन हमारी भलाई के लिए हैं, दूसरों को क्षमा करने के लिए, व्यर्थ संवाद से बचने के लिए, और दुर्व्यवहार के समय हौसला रखने के लिए बुद्धि और सामर्थ्य देते हैं l हे प्रभु, हमारी मदद कर, कि हम आपकी बुद्धिमत्ता को मीठे परामर्श के रूप में पहचाने जैसा कि वह वास्तव में है!

नीली रेखाएं

डाउनहिल स्कीइंग(बर्फ के ढलान पर स्की से फिसलना) के बर्फीले क्षेत्र की सतह अक्सर नीली रंग की पट्टी से चिन्हित होती है l मोटे घुमावदार निशान दर्शकों के लिए विकर्षण हो सकते हैं परन्तु प्रतियोगियों की सफलता और सुरक्षा दोनों के लिए ज़रूरी हैं l ये निशान प्रतियोगियों के लिए पहाड़ी से नीचे तक सबसे तेज़ पट्टी पहचानने के लिए मार्गदर्शिका है l इसके अलावा, बर्फ के विपरीत यह रंग पट्टी प्रतियोगियों के लिए गहन अभिज्ञता है, जो उनके उच्च गति से स्की करते समय उनकी सुरक्षा के लिए अत्यंत ज़रूरी है l

सुलैमान जीवन की दौड़ के मैदान में अपने पुत्रों को सुरक्षित रखने की आशा से उनसे बुद्धिमत्ता ढूँढने का आग्रह करता है l वह कहता है, “उन नीली रेखाओं की तरह, बुद्धिमत्ता, उन्हें “सिधाई के पथ पर [चलाएगी]’ और वे “ठोकर न [खाएंगे]” (नीतिवचन 4:11-12) l एक पिता होने के नाते अपने पुत्रों के लिए उसकी सबसे गहरी आशा है कि वे परमेश्वर की बुद्धिमत्ता से दूर रहने के हानिकारक प्रभाव से विमुक्त रहकर समृद्ध जीवन का आनंद उठाएं l

हमारे प्रेमी पिता के रूप में, परमेश्वर, हमें बाइबल में “नीली-रेखा” मार्गदर्शन देता है l जबकि उसने हमें अपने मन के अनुसार कहीं भी “स्की” करने की स्वतंत्रता दी है, वह जो बुद्धिमत्ता बाइबल में प्रस्तावित करता है, दौड़ के मैदान में चिन्हकों की तरह वे “जिनको . . . प्राप्त होती हैं, वे उनके जीवित रहने का . . . कारण होती हैं” (पद.22) l जब हम बुराई से फिरकर उसकी जगह उसके साथ चलते है, हमारा पथ उसकी धार्मिकता से प्रकाशित रहेगा और हमारे पाँव ठोकर नहीं खाएंगे और प्रतिदिन हमें मार्गदर्शन प्राप्त होगा (पद.12, 18) l

स्वामित्व

1900 के आरंभिक काल में, द पैकर्ड मोटर कंपनी ने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए एक स्लोगन “उस व्यक्ति से पूछो जिसके पास स्वामित्व है,” बनाया जो प्रभावशाली प्रचार वाक्य बन गया, और उस युग की प्रभावशाली लक्ज़री गाड़ी बनानेवाली कंपनी की प्रसिद्धि में योगदान दिया l पैकर्ड को प्रतीत हुआ कि सुननेवाले के लिए व्यक्तिगत साक्षी सम्मोहक है : किसी उत्पाद के साथ एक मित्र की तसल्ली एक शक्तिशाली अनुमोदन है l

हमारे प्रति परमेश्वर की भलाई का व्यक्तिगत अनुभव दूसरों के साथ साझा करना भी प्रभाव डालता है l परमेश्वर हमें हमारे धन्यवाद और आनंद को केवल उसके समक्ष प्रगट करने के लिए नहीं परन्तु अपने चारों ओर के लोगों के सामने घोषित करने के लिए आमंत्रित करता है (भजन 66:1) l भजनकार अपने पापों से फिरने के बाद उत्सुकता से अपने गीत में परमेश्वर द्वारा उसे दी गयी क्षमा को साझा किया (पद.18-20) l

परमेश्वर ने इतिहास में अद्भुत काम किये हैं, जैसे लाल समुद्र को दो भाग करना (पद.6) l वह हमारे हर एक के व्यक्तिगत जीवनों में अद्भुत कार्य करता है : पीड़ा में हमें आशा देता है, उसके वचन को समझने के लिए पवित्र आत्मा देता है, और हमारे दैनिक ज़रूरतों को पूरा करता है l जब हम अपने जीवनों में परमेश्वर के कार्य का व्यक्तिगत अनुभव दूसरों के साथ साझा करते हैं, हम किसी ख़ास खरीद की एक अनुमोदन से कही अधिक बड़ा महत्त्व देते हैं – हम जीवन यात्रा में परमेश्वर की भलाई और परस्पर प्रोत्साहन को स्वीकार कर रहे होते हैं l

सर के पीछे आँखें

मैं बचपन में अन्य बच्चों की तरह ही शरारती थी और परेशानी से बचने के लिए अपनी बुरी आदतें छिपाने की कोशिश करती थी l इसके बावजूद अक्सर मेरी माँ मेरी गलतियाँ पकड़ लेती थी l मैं याद करके चकित होती हूँ कैसे तुरंत और सही तौर से वह मेरी शरारत के विषय जान लेती थी l जब मैं अचंभित होकर उनसे पूछती थी, वो हमेशा कहती थी, “मेरे सिर के पीछे भी आँखें हैं l” यह, अवश्य ही, मुझे पता लगाने को विवश किया कि क्या वास्तव में उनके सर के पीछे आँखें थीं – क्या अदृश्य आँखें या ऑंखें जो उनके लाल बालों में छिपी हुयी थीं? बड़ी होने पर मैं उनकी सर के पीछे आँखें खोजना बंद कर दी और मैंने जाना कि अब मैं उतनी शरारती नहीं थी l उनकी सतर्क आँखें उनके बच्चों के लिए प्रेमी चिंता का प्रमाण था l

मैं बहुत अधिक अपनी माँ के सतर्क देखभाल के लिए कृतज्ञ हूँ (बावजूद इसके कि कभी-कभी निराश होती थी कि मैं पकड़ी जाती थी), मैं उससे भी अधिक धन्यवादित हूँ कि परमेश्वर स्वर्ग से दृष्टि करके “सब मनुष्यों को निहारता है” (भजन 33:13) l हम जितना करते हैं उससे कहीं अधिक वह देखता है; वह हमारे दुःख, हमारे आनंद, और एक दूसरे के लिए हमारे प्रेम को देखता है l

परमेश्वर हमारा वास्तविक चरित्र देखता है और हमेशा जानता है हमें किसकी ज़रूरत है l सिद्ध दृष्टि से, जो हमारे हृदयों के भीतर भी देखता है, वह उससे प्रेम करनेवालों और उसमें आशा रखनेवालों की हिफाजत करता है (पद.18) l वह हमारा ध्यान देनेवाला और प्रेमी पिता है l